Advertisement

Dainik Bhaskar Brings you the latest Hindi News

इनसाइड स्टोरी/ 2.0 में यूज हुए 1 लाख मोबाइल फोन, 50 करोड़ में बना सेट

Dainik Bhaskar | Sep 24, 2018, 05:02 PM IST

बॉलीवुड डेस्क. रजनीकांत और अक्षय कुमार स्टारर 2.0 देश की अब तक की सबसे महंगी फिल्म है। इसका ओवरऑल बजट 543 करोड़ है। इसमें हैवी वीएफएक्स का इस्तेमाल किया गया है। हाल ही में फिल्म का टीजर भी रिलीज किया गया है जिसमें दिखाया गया कि डॉ. रिचर्ड टेलिकॉम कंपनियों से बदला लेने के लिए पूरे शहर के लोगों के मोबाइल फोन छीन लेता है। इस सीन में मेकर्स ने एक लाख मोबाइल फोन का इस्तेमाल किया है।

 

इसकी शूटिंग शुरू होने से पहले नोकिया कंपनी का चेन्नई प्लांट बंद हो गया था। मेकर्स ने डिसाइड किया कि वे सभी फोन कम दामों में खरीदेंगे। साथ ही बहुत सारे डमी फोन्स भी इकट्‌ठा करेंगे। अब जब फिल्म की शूटिंग पूरी हो चुकी है तो प्रोडक्शन हाउस के पास करीब 1 लाख मोबाइल फोन इकट्‌ठा हो गए हैं। इस फिल्म को 13 भाषाओं में भी डब किया जा रहा है। अक्षय इसमें निगेटिव रोल में हैं। 

 

 

  • 50 करोड़ में बना सेट

    फिल्म की शूटिंग के लिए करीबन 50 करोड़ रुपए में भव्य सेट का भी निर्माण किया गया था। पहले सेट का बजट 32 करोड़ था लेकिन 10 करोड़ रुपए स्पेशल चीजों और 6 करोड़ स्पेशल व्हीकल्स पर इंवेस्ट किया गया। फिल्म के सेट को चेन्नई के 1000 कारीगरों ने मिलकर तैयार किया था। सेट के कई हिस्से इवीपी फिल्म सिटी, गोकुलम स्टूडियो, प्रसाद स्टूडियो में बने हैं।

  • सेट पर बनाई ढाई किमी लंबी सड़क

    फिल्म के प्रोडक्शन डिजाइनर मुथुराज बताते हैं, ‘फिल्म के लिए मेट्रो सिटी का सेट बनाना था इसलिए हमने इसमें कई हाईराइज बिल्डिंग्स को दिखाया है। इसके लिए हमने 35 फीट ऊंचे स्ट्रक्चर बनाए और बाद में कम्प्यूटर ग्राफिक्स की मदद से उन्हें गगनचुंबी इमारतों की तरह दिखाया। स्टूडियो में एक सड़क भी बनाई गई जो एक ढाई किलोमीटर लंबी थी। हम असली सड़क पर रजनी सर के साथ शूट नहीं कर सकते इसलिए इसका सेट बनाना बहुत जरूरी था’।

  • रोबोटिक लैब और फुटबॉल स्टेडियम का सेट भी बनाया

    टीम ने स्टूडियो में एक रोबोटिक लैब और वर्कशॉप भी बनाई। स्टूडियो के अंदर जवाहरलाल नेहरू स्टेडियम, फुटबॉल मैदान आदि भी बनाए गए। इसके अलावा 40 दिनों तक नई दिल्ली के फुटबॉल स्टेडियम में शूटिंग की गई। यहां कई एक्शन सीन शूट किए गए। कार और अन्य चीजों को विस्फोट नहीं किया जा सकता था इसलिए ऐसे सीन स्टूडियो के अंदर ही शूट किए गए। एक फाइट सीन जिसमें चिट्टी आर्मी से लड़ रहा है उसके लिए T-70 टैंक का डुप्लीकेट भी बनाया गया।