टैलेंट / सिंगिंग सिर्फ टैलेंट नहीं एक चैलेंज है- अंकिता दुबे

Dainik Bhaskar

Dec 12, 2018, 04:28 PM IST

बॉलीवुड डेस्क.

डाउन टू अर्थ, ऑलवेज स्माइल और लिव लाइफ बिंदास, ये मेरे जीवन मंत्र हैं। मुझे लगता है कि हमें ईश्वर ने इसलिए बनाया है, ताकि हम एक-दूसरे का साथ दें और लाइफ को बेहतर बनाएं..ये कहना है FirstWall की डिजिटल स्टार अंकिता दुबे का। सिंगिंग उनका टैलेंट है और आप उनके जुनून का अंदाजा इसी बात से लगा सकते हैं कि महज 5 साल की थीं, तब से गा रही हैं। उन्होंने कई शो में पार्टिसिपेट किया है। ये लाइफ को चैलेंज मानती हैं और रोज कोई न कोई नया चैलेंज लेना चाहती हैं।

अंकिता की आवाज सुनने यहां क्लिक करें

अंकिता से हुई खास बातचीत

  1. प्लेबैक सिंगर बनना है सपना

    आत्मविश्वास से भरी अंकिता बड़ी प्लेबैक सिंगर बनना चाहती हैं। उनका कहना है कि आवाज वो जादू है जो नामुमकिन को भी मुमकिन कर देती है। लोग आजकल नए-नए सिंगर्स को इसलिए भी पसंद कर रहे हैं क्योंकि उन्हें कुछ अलग मिल रहा है। वैसे तो मेरे फेवरेट लता ताई, किशोर दा और अरिजीत सिंह हैं, लेकिन मैं खुद से ही कॉम्पीटीशन करना चाहती हूं। इसके लिए जितनी मेहनत हो सकेगी, करने को तैयार हूं।  

     

    अंकिता की जुबानी उनके सपने की कहानी

  2. गाने की शुरुआत कहां से और कैसे हुई

    अंकिता के मुताबिक, जब वह 5 साल की थी तब से गा रही हैं। उन दिनों वह शहडोल में थीं। पैरेंट्स ने हार्मोनियम लाकर दिया तो उस पर खुद ही सीखती रहती। इस तरह मेरे गाने की शुरुआत हुई। 9th स्टैंडर्ड में मां के साथ वह भोपाल आ गई और तब से लगातार गा रही है। पिछले 3 साल में वह इंडियन आइडल अकादमी से ट्रेनिंग ले रही हूं, साथ ही तन्वी तिवारी से क्लासिकल सीख रही हैं।

  3. रियाज आपको निखार देता है

    कैसी भी स्थिति हो अंकिता रियाज नहीं छोड़तीं। उन्होंने बताया कि उनकी सुबह 6 बजे रियाज से ही होती है। 2 घंटे रियाज के बाद वे रुटीन लाइफ शुरू करती हैं। इसके बाद फिर शाम को 7 बजे से वे रियाज करती हैं। इनके मुताबिक, रियाज ही वो जरिया है जो हमें निखारता है। हमें किसी भी प्रोफेशन में रियाज यानी प्रैक्टिस नहीं छोड़नी चाहिए।

  4. रोज चैलेंज मिले तो मजा आ जाए

    अंकिता म्यूजिक के साथ साथ एलएलबी भी कर रही हैं। उनका कहना है कि उनके प्रोफेशन से उनके पैशन पर कोई फर्क नहीं पड़ेगा। वे कहती हैं- मुझे चैलेंज लेना पसंद है। मैं चाहती हूं कि रोज कोई न कोई चैलेंज लूं और सीखूं। अगर मुझे जिंदगी में रोज चैंलेज मिलेगा तो मजा आ जाएगा।

Share
Next Story

टीजर / जेल में बिताए 50 दिन के कारण 20 साल में पूरा हो सका मिशन मार्स, नम्बी नारायण की सच्ची कहानी है रॉकेट्री

Next

Dainik Bhaskar Brings you the latest Hindi News