हिंदी दिवस / बॉलीवुड में भी हिंदी का बोलबाला, इंडस्ट्री के लोगों ने अंग्रेजी के वर्चस्व की धारणा को झूठा बताया

स्वरा भास्कर और पंकज त्रिपाठी।

  • फिल्मोद्योग में हिंदी लहरा रही परचम
  • मौजूदा पीढ़ी के एक्टर्स का जोर देवनागिरी सीखने पर
  • हिंदी बेल्ट की कहानियों पर दिया जा रहा जोर

Dainik Bhaskar

Sep 14, 2019, 12:38 PM IST

अमित कर्ण/सोनुप सहदेवन/उमेश कुमार उपाध्याय/बॉलीवुड डेस्क. हिंदी फिल्मोद्योग को लेकर अभी तक आम धारणा यही रही थी कि हिंदी के दम पर चलने वाली इस इंडस्ट्री में हिंदी उपेक्षित है ओर अंग्रेजी का बोलबाला है। यह धारणा अब गुजरे जमाने की बात हो चुकी है और आज की तारीख में इस उद्योग में हिंदी भाषा का परचम लहरा रहा है। हिंदीभाषी मेकर्स, एक्टर्स और तकनीशियनों की तादाद बढ़ी है।

अंग्रेजी मेकर्स और यहां तक कि नेटफ्लिक्स और एमेजॉन जैसी कंपनियां अपने वेब शोज के लिए हिंदी बेल्ट की कहानियों पर जोर दे रहे हैं। स्टार किड्स बाहर जाकर फिल्म मेकिंग की बारीकियां सीख रहे हैं, मगर यहां आकर वे हिंदी जुबान पर पकड़ बना रहे हैं। विदेशों से यहां आए कलाकार भी बॉलीवुड में हिंदी का बोलबाला देखकर हिंदी सीख रहे हैं। फिल्मों से जुड़े लोगों ने भी भास्कर से चर्चा में इसी तथ्य की पुष्टि की।

हिंदी को लेकर बॉलीवुड सेलेब्स ने क्या कहा

  1. अभिनेत्रियों को देना चाहिए श्रेय: स्वरा भास्कर, बॉलीवुड अभिनेत्री

    अगर हिंदी भाषा और हिंदी भाषी लोग नहीं होते तो हिंदी फिल्म जगत ही नहीं होता। हमें हमारी इंडस्ट्री की अभिनेत्रियों को श्रेय देना चाहिए कि हिंदी बेल्ट की नहीं होने के बावजूद इतनी अच्छी हिंदी बोल रही हैं। कटरीना ने प्रकाश झा की फिल्म 'राजनीति' में जिस तरह उम्दा डायलॉग बोले, उसके हमें उनकी प्रशंसा करनी चाहिए। मेरे पिताजी आंध्र प्रदेश से हैं तो वे तेलुगु और मां उत्तर प्रदेश-बिहार से होने के कारण अच्छी हिंदी बोलती हैं। दोनों आपस में इंग्लिश में बात करते थे। घर में अंग्रेजी सुनी, फिर भी बाहर जाने के बाद मैंने हिंदी बोलना सीखा। 

    मुझे याद है, जब पहली बार एक नाटक किया था, जिसमें गांव की लड़की का किरदार निभाया था। तब मैंने अपने पैरेंट्स से पूछा कि मेरी एक्टिंग कैसी लगी? उन्होंने कहा- अच्छी है, पर हिंदी को अंग्रेजी की तरह क्यों बोलती हो! मुझे इतनी ठेस पहुंची कि उसी दिन हिंदी साहित्य की ढेर सारी किताबें खरीदी और हिंदी का अभ्यास करने लगी। अब मुझे किसी भी भाषा में स्क्रिप्ट मिल जाए, कोई प्रॉब्लम नहीं है। रोमन और अंग्रेजी स्क्रिप्ट के नीचे देवनागरी में स्क्रिप्ट अपने हाथ से लिख लेती हूं, क्योंकि याद करने के लिए लिखना पड़ता है।

  2. हिंदी बेल्ट से रायटिंग, डायरेक्शन में लोग आए: पंकज त्रिपाठी, अभिनेता

    अब भाषाई अंतर बहुत बड़ा मसला नहीं है। कुछ साल पहले तक फिल्म निर्माण में अंग्रेजी बैकग्राउंड वाले लोगों की तादाद ज्यादा थी। पर अब ऐसा नहीं है। हिंदी बेल्ट से रायटिंग, डायरेक्शन में लोग आए हैं। उनके सेट पर माहौल गैर अंग्रेजी होता है। मिसाल के तौर पर अनुराग बासु के सेट पर बंगाली ज्यादा रहते हैं। अनुराग कश्यप के सेट पर हिंदी वाले बहुत होते हैं। बाकी जितने भी लोग हिंदी बेल्ट से आए हैं, वे सभी डायलॉग तो हिंदी में ही लिखाते हैं।

    मुझे तो स्क्रिप्ट और नरेशन हिंदी में ही मिलती है। बाकी यह अब महज धारणा भर है कि बॉलीवुड में अंग्रेजी बोलने वालों से हम जल्द प्रभावित हो जाते हैं। जबकि ऐसा नहीं है। यह बस भाषाई कॉम्प्लेक्स है।

  3.  

     

  4.  

  5.  

  6. क्या कहते हैं स्टार्स के हिंदी टीचर्स

     

  7.  

  8.  

  9. विदेशी अभिनेत्रियों पर भी चढ़ा हिंदी का रंग

     

     

  10.  

     

  11.  

     

  12.  

Share
Next Story

भास्कर एक्सक्लुसिव / आयुष्मान खुराना बोले- कभी लोग सीधा बोल देते थे कि तुम लीड रोल के काबिल नहीं

Next

Dainik Bhaskar Brings you the latest Hindi News