Advertisement

Dainik Bhaskar Brings you the latest Hindi News

Teachers Day 2018: गूगल ने भी शिक्षक दिवस पर बनाया Google doodle, जानिए इसमें क्या है खास?

DainikBhaskar.com | Sep 05, 2018, 09:54 AM IST

Google ने भी इस मौके को खास बनाते हुए एक स्पेशल doodle बनाया है। happy teachers day 2018

Google ने भी इस मौके को खास बनाते हु
-- पूरी ख़बर पढ़ें --

नई दिल्ली. happy teachers day 2018: आज देश शिक्षक दिवस यानी teachers day मना रहा है। यह मौका शिक्षा से जुड़े लोगों के लिए खास है। शिक्षा के बिना मनुष्य अधूरा या अपूर्ण माना गया है। देश की तमाम नामचीन हस्तियों ने इस मौके पर अपने-अपने अनुभव साक्षा किए हैं। प्रधानमंत्री और राष्ट्रपति ने भी इस मौके पर देश को शुभकामनाएं देते हुए डॉक्टर सर्वपल्ली राधाकृष्णन को याद किया है। Google ने भी इस मौके को खास बनाते हुए एक स्पेशल doodle बनाया है।


Google doodle on Teachers Day 2018 क्या है इसमें खास: गूगल ने टीचर्स डे के मौके पर एक खास एनिमेटेड डूडल पेश किया है। यह अपने आप में अनूठा इसलिए है क्योंकि सिर्फ भारत में टीचर्स डे 5 सितंबर को मनाया जाता है। दुनिया के बाकी देशों में यह यूनेस्को कैलेंडर के हिसाब से 5 अक्टूबर को मनाया जाता है। गूगल ने इसे दुनिया के संदर्भ में पेश किया है। जब आप गूगल के होम पेज पर जाकर इसके मुख्य लोगो पर क्लिक करते हैं तो एक ग्लोबल नजर आता है। यह घूमता है और बारी-बारी से आपको फिजिक्स, कैमिस्ट्री, मैथ्स, एस्ट्रोनॉमी और यहां तक कि संगीत यानी म्यूजिक से जुड़े प्रतीक भी नजर आते हैं। बता दें कि आज ही उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू देश के 45 शिक्षकों को राष्ट्रीय शिक्षक सम्मान प्रदान करेंगे।
हमारे देश में शिक्षक दिवस 5 सितंबर को ही क्यों: डॉक्टर सर्वपल्ली राधाकृष्णन हमारे देश के दूसरे राष्ट्रपति थे। राधाकृष्णन का जन्म 5 सितंबर 1888 को हुआ। राधाकृष्ण बहुत होनहार छात्र थे। कहा जाता है कि उनके पिता अपने इस बेटे को अंग्रेजी नहीं सीखने देना चाहते थे। पिता की कोशिश थी कि पुत्र पुरोहित बने। बहरहाल, राधाकृष्णन ने तिरुपति और वेल्लोर में उच्चशिक्षा हासिल की। बाद में उनका पूरा जीवन शिक्षा को ही समर्पित हो गया। वो मैसूर, कोलकाता, ऑक्सफोर्ड और बाद में शिकागो भी शिक्षा विशेषज्ञ के तौर पर गए। उस दौर में शिक्षा पर व्याख्यान के लिए किसी भारतीय का विदेश में आमंत्रित किया जाना बहुत गौरावान्वित करने वाला होता था। राधाकृष्णन को ब्रिटिश सरकार ने सर की उपाधि से सम्मानित किया था। 1954 में इस महान शिक्षाविद को भारत रत्न से भी सम्मानित किया गया। 1962 में भारत सरकार ने डॉक्टर राधाकृष्णन के जन्मदिवस 5 सितंबर को राष्ट्रीय शिक्षक दिवस के तौर पर मनाने की घोषणा की। तब से हम पांच सितंबर को शिक्षक दिवस मनाते हैं।