पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

पर्सनल फाइनेंस:गोल्ड लोन लेने से पहले बैंकों के साथ ब्याज दरों पर जरूर चर्चा करें, इससे आपको कम रेट पर मिल सकता है कर्ज

मुंबई2 महीने पहले
  • गोल्ड लोन में बैंकों या एनबीएफसी का कोई भी एनपीए नहीं होता है
  • लोन नहीं चुकाने पर बैंक या एनबीएफसी सोने की निलामी कर देते हैं
No ad for you

कर्ज किसी भी तरह का लिया जाए वह जरूरतों पर ही लिया जाता है। बात जब सोने के एवज में कर्ज की आती है तो यह उस समय लिया जाता है जब बहुत ज्यादा ही पैसों की जरूरत पड़ जाए। आप अगर गोल्ड लोन लेना चाहते हैं तो आपको बैंकों के साथ एनबीएफसी की भी ब्याज दरों को देखना चाहिए। हो सकता है आपको कम ब्याज पर कर्ज मिल जाए।

मुझे किस ब्याज दर पर गोल्ड लोन मिल सकता है?

यह अलग-अलग बैंकों या कंपनियों पर निर्भर है। कोटक महिंद्रा बैंक 10.5 से 17 प्रतिशत तक ब्याज लेता है। बंधन बैंक 10.99 से 18 प्रतिशत तक लेता है। मुथूट फाइनेंस 12 से 27 प्रतिशत तक ब्याज लेता है। मनापुरम 29 प्रतिशत तक लेता है। फेडरल बैंक से आपको 8.50 प्रतिशत पर लोन मिल सकता है। वैसे सरकारी बैंकों से अगर आप कर्ज लेते हैं तो आपको सस्ता कर्ज मिल सकता है।

गोल्ड लोन बैंकों को सबसे ज्यादा सुरक्षित लगता है

वैसे देश में सबसे आसानी और जल्दी कर्ज गोल्ड लोन ही होता है। ऐसा इसलिए क्योंकि इसमें पैसा डूबने की चिंता बैंकों को नहीं रहती है। मान लीजिए आपने 20 ग्राम सोना रखकर एक लाख रुपए कर्ज लिया है। आपने अगर बैंक को यह पैसा नहीं चुकाया तो बैंक आपका सोना बेचकर पैसा ले लेगा। सोना बहुत आसानी से बिकता है। यह छोटे-छोटे टुकड़ों में होता है इसलिए बैंकों को दिक्कत नहीं होती है।

गोल्ड लोन से बैंकों को फायदा भी मिलता है

बैंकों या सोने के एवज में कर्ज देनेवाली कंपनियों को यह काफी फायदे का सौदा लगता है। उदाहरण के तौर पर मनापुरम ने अभी हाल में अपनी सैकड़ों शाखाओं पर सोने के गहनों की नीलामी की है। मान लीजिए यह सोना अगर किसी ने एक साल पहले भी गिरवी रखा होगा तो इस दौरान सोने की कीमतें 40 प्रतिशत से ज्यादा बढ़ गई हैं। अगर आपने सोना गिरवी रखकर कर्ज नहीं चुकाया तो भी कंपनियां आपका सोना बेचकर एक साल में 40 प्रतिशत का लाभ कमा लेती हैं।

सोने की बढ़ती कीमत ने गोल्ड लोन को आकर्षक बना दिया है

हाल के समय में सोना सबसे ज्यादा रिटर्न देनेवाला साधन रहा है। यह अब 55 हजार रुपए प्रति दस ग्राम से ऊपर चला गया है। ऐसे में अगर आप सोने के एवज में कर्ज लेना चाहते हैं तो आपको इस समय एक तो सोने की वैल्यू का 90 प्रतिशत लोन मिलेगा और ज्यादा पैसा मिलेगा। इस समय ब्याज दरें भी कम हैं। वैसे आजकल पर्सनल लोन की भी मांग है। लोग किसी न किसी तरीके से पर्सनल लोन लेते हैं। पर यह लोन काफी महंगा होता है। इसकी ब्याज दर 19-22 प्रतिशत तक होती है। कुछ लोग इसकी बजाय अपने निवेश जैसे पीएफ या म्यूचुअल फंड आदि के एवज में लोन लेते हैं।

मै गोल्ड लोन कहां से ले सकता हूं?

गोल्ड लोन बैंक और एनबीएफसी से मिल सकता है। सभी बैंक और एनबीएफसी गोल्ड लोन दे रहे हैं। हाल के समय में कई बैंकों और एनबीएफसी ने गोल्ड लोन की पहले से तैयारी की है। क्योंकि उनको उम्मीद है कि गोल्ड लोन की मांग बढ़ेगी। आप देश के सबसे बड़े बैंक से लेकर छोटी एनबीएफसी तक से लोन ले सकते हैं।

ज्यादा से ज्यादा और कम से कम कितना लोन मिलेगा?

ज्यादा से ज्यादा आपको एक लाख के सोने पर 90 हजार रुपए का लोन मिलेगा। गुरुवार को आरबीआई ने इसे बढ़ाकर 90 हजार किया है। इससे पहले यह 75 हजार था। कम से कम आपको 10 हजार रुपए का लोन मिल सकता है। आईसीआईसीआई बैंक आपको एक करोड़ रुपए तक सोने के एवज में लोन देगा। एसबीआई 20 लाख रुपए तक का लोन देता है। मुथूट फाइनेंस जैसी कंपनियां 1500 रुपए भी लोन देती हैं। चूंकि यह कंपनियां केवल गोल्ड लोन ही देती हैं इसलिए यहां अधिकतम की कोई सीमा नहीं है।

मुझे कितना समय में गोल्ड लोन चुकाना चाहिए?

यह बैंक और एनबीएफसी पर निर्भर करता है। जैसे एचडीएफसी बैंक 3 महीने से दो साल तक की अवधि के लिए कर्ज देता है। एसबीआई तीन साल तक के लिए देता है। मुथूट और मनापुरम ज्यादा समय तक के लिए कर्ज देते हैं।

गोल्ड लोन के लिए क्या कोई डाक्यूमेंट भी चाहिए?

आप बहुत ज्यादा कर्ज लेते हैं तो आपको पैन कार्ड, आधार आदि देना होगा। साथ ही पते का भी प्रूफ देना होगा। साथ ही आपने जहां से सोना खरीदा है, उसका भी बिल देना पड़ सकता है।

मुझे ब्याज के अलावा क्या चार्ज देना होगा?

ब्याज के अलावा आपको प्रोसेसिंग फीस देनी होगी। यह अलग-अलग बैंकों की अलग-अलग है। कुछ बैंक या एनबीएफसी नहीं भी लेते हैं। इसके अलावा जीएसटी भी आपको प्रोसेसिंग फीस पर देना होगा। कुछ बैंक वैल्यूएशन फीस भी लेते हैं। यह 250 रुपए से शुरू होती है।

No ad for you

मनी भास्कर की अन्य खबरें

Copyright © 2020-21 DB Corp ltd., All Rights Reserved