Advertisement

Dainik Bhaskar Brings you the latest Hindi News

रिपोर्ट/ भारतीयों ने अमेरिकी शिक्षण संस्थानों को 18 साल में 8640 करोड़ रु दान में दिए

  • बिजनेस एजुकेशन के लिए सबसे ज्यादा 23.5% डोनेशन
  • मेडिकल के लिए 20.6%, साउथ एशिया स्टडी के लिए 17.6% दान
  • फ्लोरिडा में रह रहे किरण, पल्लवी पटेल ने सबसे ज्यादा 1,440 करोड़ रु दिए
  • लिस्ट में आनंद महिंद्रा, रतन टाटा का भी नाम शामिल

Dainik Bhaskar | Sep 26, 2018, 11:04 AM IST

वॉशिंगटन. भारतीय मूल के पूर्व छात्रों ने अमेरिकी उच्च शिक्षण संस्थानों को 18 साल में 8,640 करोड़ रुपए (120 करोड़ डॉलर) का दान दिया। साल 2000 से 2018 के दौरान यह राशि दी गई। सबसे ज्यादा 23.5% रकम बिजनेस स्टडी के लिए दी गई। इंडियास्पोरा के सर्वे में यह आंकड़े सामने आए। संस्था ने पहली बार ‘मॉनिटर ऑफ यूनिवर्सिटी गिविंग’ रिपोर्ट जारी की है।

50 लोगों ने 68 बार बार दान किया

  1. इंडियास्पोरा के संस्थापक एमआर रंगास्वामी के मुताबिक 1.2 अरब डॉलर का आंकड़ा वास्तविक दान राशि से कम हो सकता है। क्योंकि, इसमें 10 लाख डॉलर और उससे ज्यादा की डोनेशन ही शामिल है।

  2. रिपोर्ट के मुताबिक 50 लोगों ने 68 बार में 1.2 अरब डॉलर की रकम डोनेट की। इनमें से आधे लोग ऐसे हैं जिन्होंने एक से ज्यादा बार दान दिया।

  3. फ्लोरिडा में रह रहे पति-पत्नी किरण और पल्लवी पटेल ने सबसे ज्यादा 1,440 करोड़ रुपए (20 करोड़ डॉलर) का योगदान दिया। यह राशि साउदर्न फ्लोरिडा और नोवा साउदर्न यूनिवर्सिटी को दी गई।

  4. रिपोर्ट में कहा गया कि अमेरिका में भारतीय समुदाय सबसे ज्यादा शिक्षित है। एक मध्यम वर्गीय परिवार की सालाना कमाई एक लाख डॉलर से ज्यादा है।

  5. करीब 32% भारतीय अमेरिकी बैचलर डिग्री धारक हैं। जबकि, अमेरिकी मूल के लोगों की संख्या सिर्फ 18% है। अमेरिका में रह रहे भारतीय मूल के 38% लोगों के पास एडवांस डिग्री है। अमेरिकियों की संख्या सिर्फ 10% है।

  6. अमेरिकी संस्थानों को दान देने वालों की लिस्ट में आनंद महिंद्रा और रतन टाटा के नाम भी शामिल हैं। महिंद्रा ने हार्वर्ड और टाटा ने कॉर्नेल यूनिवर्सिटी में पढ़ाई की थी।