Advertisement

Dainik Bhaskar Brings you the latest Hindi News

बुलेट ट्रेन/ 2022 तक प्रोजेक्ट पूरा होने के आसार नहीं, जापानी एजेंसी ने फंडिंग रोकी

  • गुजरात के किसानों ने जापानी एजेंसी को चिट्ठी लिख फंड रोकने की मांग की थी
  • जमीन अधिग्रहण के लिए किसानों की ज्यादा मुआवजे की मांग 
  • एक लाख करोड़ रुपए का है बुलेट ट्रेन प्रोजेक्ट 
  • जापानी एजेंसी 80 हजार करोड़ रुपए देगी, अभी तक सिर्फ 125 करोड़ दिए
     

Dainik Bhaskar | Sep 25, 2018, 02:58 PM IST

मुंबई. पीएम मोदी का बुलेट ट्रेन प्रोजेक्ट 2022 की समय सीमा तक पूरा होने के आसार नजर नहीं आ रहे। जापान इंटरनेशनल को-ऑपरेशन एजेंसी (जेआईसीए) ने प्रोजेक्ट की फंडिंग रोक दी है। एजेंसी का कहना है कि सरकार पहले उन किसानों के मुद्दे सुलझाए जिनकी जमीनों का बुलेट ट्रेन नेटवर्क के लिए अधिग्रहण किया जाना है।

जमीन अधिग्रहण प्रक्रिया पर किसानों को आपत्ति

  1. गुजरात के किसान जमीन अधिग्रहण में सामाजिक और पर्यावरण मामलों की अनदेखी के आरोप लगा रहे हैं। उन्होंने फंडिंग रोकने के लिए ने जेआईसीए को चिट्ठी लिखी थी। किसान अधिग्रहण प्रक्रिया को गुजरात हाईकोर्ट में भी चुनौती दे चुके हैं।

  2. जेआईसीए सरकारी एजेंसी है जो जापान सरकार के लिए विकास के कामों में मदद देती है। इसका मकसद अंतरराष्ट्रीय सहयोग बढ़ाना, जापान और दुनिया की अर्थव्यवस्था को सहायता देना है।

  3. बुलेट ट्रेन प्रोजेक्ट से गुजरात और महाराष्ट्र को जोड़ा जाएगा। लेकिन, फंड की कमी और किसानों के मुद्दों की वजह से सरकार को 2022 की समय सीमा आगे बढ़ानी पड़ सकती है।

  4. बुलेट ट्रेन प्रोजेक्ट का काम द नेशनल हाई-स्पीड रेल कॉरपोरेशन लिमिटेड (एनएचआरसीएल) देख रही है। यह गुजरात और महाराष्ट्र में प्रोजेक्ट को आगे बढ़ाने में विफल रही। जमीन अधिग्रहण को लेकर किसानों की कई आपत्तियां हैं।

  5. 508 किमी लंबा ट्रेन कॉरिडोर बनेगा

    किसान मुआवजा राशि बढ़ाने, सार्वजनिक तालाब, सोलर लाइट और ग्रामीण इलाकों में मेडिकल सुविधा की मांग कर रहे हैं। बुलेट ट्रेन योजना के तहत 508 किलोमीटर का कॉरिडोर बनेगा। इसका 110 किमी हिस्सा महाराष्ट्र के पालघर से गुजरेगा।

  6. पालघर इलाके में किसान भारी विरोध कर रहे हैं। गुजरात में करीब 850 हेक्टेयर जमीन की जरूरत पड़ेगी। यहां 8 जिलों से 5 हजार परिवारों से जमीन का अधिग्रहण किया जाना है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक प्रधानमंत्री कार्यालय ने इस मामले में विशेष कमेटी गठित की है।

  7. 90% वित्तीय और तकनीकी मदद जापान देगा

    प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पिछले साल सितंबर में अहमदाबाद में बुलेट ट्रेन प्रोजेक्ट की आधारशिला रखी थी। 350 किमी प्रति घंटे की रफ्तार वाली ये ट्रेन मुंबई से अहमदाबाद की दूरी 2 घंटे में तय कर लेगी। इस प्रोजेक्ट में 90% वित्तीय और तकनीकी सहयोग जापान देगा।