Advertisement

Dainik Bhaskar Brings you the latest Hindi News

निर्देश/ शिविंदर, मलविंदर और उनसे जुड़ी 8 कंपनियां फोर्टिस को 403 करोड़ रु लौटाएं- सेबी

  • सेबी ने शुरुआती जांच में इन्हें बिना मंजूरी फंड डायवर्ट करने का दोषी पाया
  • रकम लौटाने के लिए 3 महीने का वक्त दिया
  • शिविंदर, मलविंदर को फोर्टिस के मामलों से दूर रहने के निर्देश
     

Dainik Bhaskar | Oct 19, 2018, 08:35 AM IST

मुंबई. सेबी ने फोर्टिस के पूर्व प्रमोटर शिविंदर और मलविंदर मोहन सिंह और 8 फर्मों को निर्देश दिए हैं को वो 3 महीने में फोर्टिस को 403 करोड़ रुपए ब्याज समेत चुकाएं। सेबी ने शुरुआती जांच में इन्हें फर्जीवाड़ा कर फंड डायवर्ट का दोषी पाया है। इन्होंने आरएचसी होल्डिंग प्राइवेट लिमिटेड और रेलिगेयर फिनवेस्ट लिमिटेड को फायदा पहुंचाने के लिए सेबी की मंजूरी के बिना फोर्टिस का फंड डायवर्ट किया।

फंड डायवर्ट करने से पहले मंजूरी लेनी पड़ेगी

  1. सेबी ने शिविंदर, मलविंदर, आरएचसी और रेलिगेयर के अलावा शिवि होल्डिंग्स, मालव होल्डिंग्स, बेस्ट हेल्थकेयर, फर्न हेल्थकेयर और मोडलैंड वियर्स को दोषी पाया।

  2. सेबी ने दोषियों से कहा है कि वो अगले आदेश अपनी संपत्तियां नहीं बेचें और बिना मंजूरी लिए फंड डायवर्ट नहीं करें। हालांकि, रोजाना की कारोबारी जरूरतों के लिए रकम का इस्तेमाल किया जा सकता है।

  3. शिविंदर और मलविंदर मोहन सिंह को फोर्टिस हेल्थकेयर के किसी मामले में किसी तरह से भी शामिल नहीं होने के लिए कहा गया है।

  4. फरवरी में सेबी ने फोर्टिस के ऑडिटर्स के साथ मीटिंग की थी। उस वक्त यह मामला सामने आया था कि फोर्टिस ने इंटर कॉरपोरेट डिपॉजिट के जरिए बेस्ट हेल्थकेयर, फर्न हेल्थकेयर और मोडलैंड वियर्स को 400 करोड़ रुपए दिए।

  5. ऑडिटर्स ने सेबी को बताया कि जिन कंपनियों को राशि दी गई उनका संबंध फोर्टिस के प्रमोटरों से है। इस मामले में जरूरत पड़ने पर सेबी बैंकों और ऑडिटर्स को भी जांच के दायरे में ला सकता है।

Advertisement

Dainik Bhaskar Brings you the latest Hindi News

टॉप न्यूज़और देखें

Advertisement

बॉलीवुड और देखें

स्पोर्ट्स और देखें

Advertisement

Dainik Bhaskar Brings you the latest Hindi News

जीवन मंत्रऔर देखें

राज्यऔर देखें

वीडियोऔर देखें

बिज़नेसऔर देखें