पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
Open Dainik Bhaskar in...
Browser
Loading advertisement...

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

सरपट दौड़ता सर्राफा:त्योहारी सीजन में 90000 रुपए/किलो तक उछल सकती है चांदी, सोना बनेगा 60 हजारी! कीमत बढ़ने के ये हैं 6 बड़े कारण

नई दिल्ली5 महीने पहले
घरेलू वायदा बाजार मल्टी कमोडिटी एक्सचेंज पर 18 मार्च को चांदी का भाव 33,580 रुपए प्रति किलो तक टूटा था जबकि शुक्रवार को रिकॉर्ड 77,949 रुपए प्रति किलो तक उछला।
  • 18 मार्च के बाद से अब तक चांदी की कीमत में 44369 रुपए प्रति किलो का उछाल
  • बुलियन बाजार के जानकार बोले- महंगी धातुओं की तेजी को सपोर्ट कर रहे हैं कई कारक
Loading advertisement...

कोरोना महामारी से मिल रही आर्थिक चुनौतियों से निपटने के लिए दुनियाभर में किए जा रहे उपाय, केंद्रीय बैंकों की ओर से की गई ब्याज दरों में कटौती, अमेरिकी डॉलर में कमजोरी से सोने और चांदी में निवेशक करने के प्रति निवेशकों की दिलचस्पी बढ़ गई है। इससे इनकी कीमतों में लगातार तेजी बनी हुई है। बुलियन बाजार के जानकार बताते हैं कि त्योहारी सीजन में भारतीय बाजार में चांदी का भाव 90,000 रुपए प्रति किलो तक जा सकता है जबकि सोना 60,000 रुपए प्रति 10 ग्राम के स्तर को छू सकता है। हालांकि सोना-चांदी की तेजी पर सर्राफा बाजार कारोबारी संगठन का आकलन अलग-अलग है।

औद्योगिक मांग के कारण दिवाली तक चांदी में तेजी रहेगी: केडिया

केडिया एडवायजरी के डायरेक्टर अजय केडिया का कहना है कि सोना काफी महंगा हो गया है, इसलिए आभूषण की मांग चांदी में बढ़ सकती है। वहीं औद्योगिक मांग भी बनी हुई, इसलिए चांदी का भाव दिवाली तक 90,000 रुपए प्रति किलो तक जा सकता है। चांदी इस समय घरेलू बाजार में 78000 रुपए प्रति किलो के आसपास चल रही है और कोरोना काल में बीते पांच महीने में 44,000 रुपए प्रति किलो से ज्यादा महंगी हो चुकी है। उन्होंने कहा कि इस समय महंगी धातुओं की तेजी को सपोर्ट करने वाले सारे कारक अनुकूल हैं इसलिए सोने-चांदी में तेजी बनी रहेगी। केडिया ने सोने का भाव दिवाली तक 60,000 रुपए प्रति 10 ग्राम तक जाने की संभावना जताई।

एमसीएक्स में 18 मार्च से अब तक 17791 रुपए महंगा हुआ सोना

घरेलू वायदा बाजार मल्टी कमोडिटी एक्सचेंज पर 18 मार्च को चांदी का भाव 33,580 रुपए प्रति किलो तक टूटा था जबकि शुक्रवार को रिकॉर्ड 77,949 रुपए प्रति किलो तक उछला। इस प्रकार चांदी में अब तक 44,369 रुपए प्रति किलो का उछाल आ गया है। वहीं, सोना एमसीएक्स पर 16 मार्च को 38,400 रुपए प्रति 10 ग्राम तक टूटा था जबकि शुक्रवार को सोने का भाव रिकॉर्ड 56,191 रुपए प्रति 10 ग्राम तक उछला। इस प्रकार सोने में अब तक 17791 रुपए प्रति 10 ग्राम की तेजी आ गई है। कमोडिटी बाजार विश्लेषक एवं एंजेल ब्रोकिंग के डिप्टी वाइस प्रेसीडेंट अनुज गुप्ता का अनुमान है कि सोने का भाव दिवाली तक 59,000-60,000 रुपए प्रति 10 ग्राम, जबकि चांदी का भाव 88,000-90,000 रुपए प्रति किलो तक जा सकता है।

अंतरराष्ट्रीय बाजार में 37 डॉलर प्रति औंस जा सकती है चांदी: मेहता

वहीं, इंडिया बुलियन ज्वेलर्स एसोसिएशन (आईबीजेए) के नेशनल सेक्रेटरी सुरेंद्र मेहता कहते हैं कि चांदी का भाव अंतराष्ट्रीय बाजार में 37 डॉलर प्रति औंस तक जा सकता है, जिससे भारतीय सर्राफा बाजार में चांदी 95,000 रुपए प्रति किलो तक उछल सकती है। हालांकि, सोने के बारे में मेहता का अनुमान है कि दिवाली तक हाजिर में सोना 59,000 रुपए प्रति 10 ग्राम तक जा सकता है।

90 हजार का स्तर छूने की संभावना कम: पटेल

उधर, जेम एंड ज्वेलरी ट्रेड काउंसिल ऑफ इंडिया (जीजेटीसीआई) के प्रेसीडेंट शांतिभाई पटेल का कहना है कि सोने में 60,000 रुपए प्रति 10 ग्राम तक का स्तर देखा जा सकता है, लेकिन चांदी बीते दिनों जिस तरह से उछली है उससे इसमें जल्द गिरावट आने की संभावना बनी हुई है। उन्होंने कहा कि चांदी में सटोरियों के खेल से इन्कार नहीं किया जा सकता है, इसलिए 90,000 रुपए प्रति किलो का स्तर छूने की संभावना कम है। पटेल ने कहा कि चांदी घरेलू बाजार में रिकॉर्ड स्तर पर है और त्योहारी सीजन में इसका भाव 80,000-85,000 रुपए प्रति किलो के दायरे में ही रह सकता है।

सोने और चांदी में तेजी को सपोर्ट करने वाले मुख्य कारक

1. कोरोनावायरस संक्रमण के बढ़ते प्रकोप के कारण वैश्विक अर्थव्यवस्था पर मंदी का साया मंडरा रहा है। इससे निवेशकों का रुझान सॉफ्ट एसेट्स (शेयर, बांड्स) के बजाय हार्ड एसेट्स (सोना, चांदी या रियलस्टेट्स, कच्चा तेल आदि) की तरफ ज्यादा है। इनमें सोना और चांदी उनकी पहली पसंद है क्योंकि इसे संकट का साथी माना जाता है।

2. कोरोना के कहर से मिल रही आर्थिक चुनौतियों से निपटने के लिए विभिन्न देशों में लाए गए राहत पैकेज से सोने और चांदी में निवेशकों की दिलचस्पी बढ़ गई है, क्योंकि राहत पैकेज से महंगाई बढ़ने की आशंका बनी रहती है। इससे निवेशकों का झुकाव सुरक्षित निवेश के साधन की तरफ जाता है।

3. भूराजनीतिक तनाव के कारण अनिश्चितता के माहौल में निवेशकों का रुझान सोने और चांदी की तरफ बना हुआ है। ​​​​​​​

4. अमेरिकी डॉलर में कमजोरी के चलते सोने और चांदी की तेजी को सपोर्ट मिल रहा है। ​​​​​​​

5. ईटीएफ की खरीद के प्रति निवेशकों का रुझान होने से सोने और चांदी में तेजी बनी हुई है। ​​​​​​​

6. सोने के गहनों के मूल्य का 90 फीसदी तक लोन देने की भारतीय रिजर्व बैंक की अनुमति से घरेलू बाजार में सोने के गहनों की मांग बढ़ सकती है।

Loading advertisement...
खबरें और भी हैं...

Copyright © 2020-21 DB Corp ltd., All Rights Reserved

This website follows the DNPA Code of Ethics.