पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
Open Dainik Bhaskar in...
Browser
Loading advertisement...

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

पर्सनल फाइनेंस:महंगाई से पार पाने के लिए म्यूचुअल फंड की फ्रीडम सिस्टैमैटिक विथड्राल प्लान का ले सकते हैं लाभ, टैक्स बचत और अच्छे रिटर्न की उम्मीद होती है

मुंबई6 महीने पहले
बढ़ती महंगाई के साथ आज की निकासी की राशि जो पर्याप्त लगती है, कल के लिए अपर्याप्त हो सकती है
  • एमएफ में फ्रीडम एसडब्ल्यूपी निवेशकों को परंपरागत एसडब्ल्यूपी से ज्यादा सुविधा देता है
  • यह सुनिश्चित करने की कोशिश करता है कि निवेशकों की नियमित आय महंगाई के अनुपात में हो
Loading advertisement...

म्यूचुअल फंड के निवेश से कमाई करने की जब बात आती है, तो निवेशकों को अक्सर सिस्टेमैटिक विथड्राल प्लान (एसडब्ल्यूपी) के बारे में बताया जाता है। यह सुविधा आपको नियमित अंतराल पर अपने म्यूचुअल फंड से एक निश्चित राशि निकालने की अनुमति देती है। बढ़ती महंगाई के साथ आज की विथद्रावल की राशि जो आज पर्याप्त लगती है, कल के लिए अपर्याप्त हो सकती है।

महंगाई की वजह से बढ़ता जाता है खर्च

इसका मतलब यह है कि कुछ वर्षों के भीतर आपका खर्च उस स्तर तक पहुंच सकता है जिसे एसडब्ल्यूपी निकासी के साथ पूरा नहीं किया जा सकता है। तो, आप उस समस्या का समाधान कैसे करेंगे? कुछ म्यूचुअल फंड अब फ्रीडम एसडब्ल्यूपी पेश कर रहे हैं। यह प्लान आपको कई तरह के लाभ दे सकती है। मान लें कि आज आपका मासिक खर्च 50,000 रुपए है। अगर एकदम कम माना जाए तो 4% महंगाई की दर से 5 साल के बाद आपका मासिक खर्च 60,000 रुपए से अधिक हो जाएगा।

10 साल के समय में यह राशि 75,000 रुपए के करीब होगी। यह इससे ज्यादा दर से महंगाई की वजह से आगे बढ़ती जाती है।

पारंपरिक एसडब्ल्यूपी खर्चों के लिए फिट नहीं बैठता है

एक पारंपरिक एसडब्ल्यूपी के साथ, पेमेंट तो नियमित हो सकता है लेकिन इसका अमाउंट फिक्स होता है। यह लगातार बढ़ते खर्चों की बराबरी करने के लिए फिट नहीं बैठता है। एसडब्ल्यूपी को लोग  पसंद करते हैं। खासकर वे लोग जिनके पास आमदनी का कोई अन्य जरिया नहीं होता है। ऐसे ट्रेडिशनल एसडब्ल्यूपी निवेशकों की लाइफस्टाइल को या उनके रोजमर्रा की जरूरतों को कम करने के लिए बाध्य करते हैं।

निवेशक को समय-समय पर फिक्स्ड राशि निकालने की सुविधा मिलती है

फ्रीडम एसडब्ल्यूपी एक ऐसी सुविधा है जो निवेशक को समय-समय पर फिक्स्ड राशि निकालने की अनुमति देती है। यानी इन्वेस्टमेंट कॉर्पस से 6% प्रति वर्ष या तो 3%, 4% या 5% के वार्षिक टॉप अप के विकल्प के साथ आप निकाल सकते हैं। इस सुविधा के तहत निवेशकों के पास योग्य स्कीम चुनने का विकल्प होगा। राशि तय करनी होगी (6% पीए के लिए), टॉप अप प्रतिशत (3%, 4% या 5%) और एसडब्ल्यूपी शुरू करने की तारीख (अगले महीने से, 13 वें महीने, 37 वें महीने या किसी भी महीने) चुनना होगा।

वर्तमान में हाइब्रिड और रिटायरमेंट स्कीम में मिलती है इसकी सुविधा

यह देखते हुए कि कॉर्पस को विभिन्न असेट क्लासेज में निवेश किया जा रहा है, फ्रीडम एसडब्ल्यूपी यह सुनिश्चित करने की कोशिश करता है कि निवेशकों की नियमित आय महंगाई के अनुपात में हो। इसके अतिरिक्त, इसमें निवेशक टैक्स बेनिफिट लेना भी जारी रखते हैं। क्योंकि केवल रिटर्न (कैपिटल गेन) पर ही टैक्स लगता है। वर्तमान में, फंड हाउस अपनी हाइब्रिड और रिटायरमेंट स्कीम्स में इस सुविधा की पेशकश कर रहा है।

निवेशक जब चाहें इस स्कीम में अतिरिक्त खरीदारी कर सकते हैं

इसके अलावा, एक निवेशक को एसडब्ल्यूपी के दौरान बिना किसी रोक टोक के आंशिक/पूर्ण रिडेम्पशन करने की अनुमति दी जाती है। साथ ही निवेशकों को जब चाहे इस स्कीम में अतिरिक्त खरीदारी करने की छूट है। उदाहरण के लिए निवेशक ए ने 30 दिसंबर, 2006 के बाद से आईसीआईसीआई प्रूडेंशियल म्यूचुअल फंड के बैलेंस एडवांटेज फंड में एक करोड़ रुपए का निवेश किया है। इसमें मासिक एसडब्ल्यूपी 6% और वार्षिक टॉप अप 4% है जो उसे अगले महीने से एसडब्ल्यूपी पेआउट देता है।

खर्चों का प्रबंधन करने में मदद करता है फ्रीडम एसडब्ल्यूपी

पिछले 13 वर्षों में इस निवेशक ने फ्रीडम एसडब्ल्यूपी के माध्यम से 10 लाख रुपए लिए हैं। वर्तमान भुगतान 83,254 रुपए प्रति माह है जो निवेशक को अपने परिवार के खर्चों का प्रबंधन करने में मदद करता है। वर्तमान में निवेश का मूल्य 1.4 करोड़ से अधिक का है। इसके अलावा सबसे अच्छी बात यह कि कैपिटल गेन टैक्स का भुगतान 9,000 रुपए से कम है। फ्रीडम एसडब्ल्यूपी न केवल टैक्स बचाता है, बल्कि यह ट्रेडिशनल टूल्स और एसडब्ल्यू की तुलना में निवेशकों को महंगाई से निपटने में मदद भी करता है।

Loading advertisement...
खबरें और भी हैं...

Copyright © 2020-21 DB Corp ltd., All Rights Reserved

This website follows the DNPA Code of Ethics.