टेलीकॉम / वोडाफोन-आइडिया और एयरटेल 1 दिसंबर से टैरिफ बढ़ाएंगे, बढ़ती लागत और बेहतर सेवा का हवाला दिया

प्रतीकात्मक फोटो।

  • वोडाफोन-आइडिया के बाद एयरटेल ने1 दिसंबर से टैरिफ में बढ़ोतरी करने की बात कही
  • टेलीकॉम कंपनियों का दावा- बेहतर सेवा के लिए टैरिफ में बढ़ोतरी करना जरूरी

Dainik Bhaskar

Nov 18, 2019, 09:17 PM IST

नई दिल्ली. वोडाफोन-आइडिया और एयरटेल 1 दिसंबर से मोबाइल टैरिफ में बढ़ोतरी करेंगी। सोमवार कोवोडाफोन-आइडियाने कहा, “उपभोक्ताओं को विश्वस्तरीय डिजिटल अनुभव प्रदान करने के लिए वोडाफोन-आइडिया अपने टैरिफ में उचित बढ़ोतरी करेगा। यह बदलाव 1 दिसंबर से लागू होगा।” वहीं एयरटेल ने कहा कि ग्राहकों को किफायती टैरिफ उपलब्ध कराना उसकी प्राथमिकता है, लेकिन वित्तीय जरूरतों के साथ संतुलन भी जरूरी है, ताकि डिजिटल इंफ्रास्ट्रक्चर में निवेश जारी रखा जा सके। इस तरह उपभोक्ताओं को बेहतर गुणवत्ता की सेवा मिल सकेगी।

आइडिया-वोडाफोन ने दावा किया कि पूरी दुनिया में भारत में मोबाइल डाटा सबसे सस्ता है और बाजार में इसकी मांग लगातार बनी हुई है। कंपनी अभी बगैर डाटा एक महीने के लिए मोबाइल सर्विस 24 रुपए में प्रदान करती है, वहीं डाटा के साथ इसके लिए न्यूनतम 33 रुपए चुकाने होते हैं।कंपनी ने कहा कि मार्च 2020 तक देश भर में 4जी सेवा उपलब्ध कराने के लिए नेटवर्क कवरेज और क्षमता बढ़ाई जा रही है। कंपनी का यह भी कहना है कि उसके पास देश में सबसे बड़ा स्पेक्ट्रम एरिया मौजूद है और नेटवर्क एकीकरण के जरिए पूरे संसाधनों का इस्तेमाल किया जा रहा है।

वोडाफोन को पिछली तिमाही में बड़ा घाटा हुआ

वोडाफोन ने पिछले हफ्ते 50, 921 रुपए का सकल घाटा घोषित किया था। यह सुप्रीम कोर्ट के समायोजित कुल राजस्व संबंधी आदेश के बाद सिंतबर में खत्म हुई दूसरी तिमाही में किसी भी कारोबारी घराने को हुआ सबसे बड़ा घाटा था। सुप्रीम कोर्ट ने पिछले महीने सरकार के पक्ष में फैसला देते हुए, वोडाफोन-आइडिया सहित सभी टेलीकॉम कंपनियों को दूरसंचार विभाग को बकाया रकम का भुगतान करने के निर्देश दिए थे।

देश में मोबाइल डाटा और कॉल टैरिफ में गिरावट
टेलीकॉम रेगुलेटरी अथॉरिटी ऑफ इंडिया (ट्राई) के मुताबिक, जून 2016 से दिसंबर, 2017 के बीच देश में मोबाइल डाटा की दरों में 95% की तेज गिरावट दर्ज की गई है। अब मोबाइल डाटा 11.78 रुपए प्रति गीगाबाइट (जीबी) के औसत दाम में उपलब्ध है। मोबाइल कॉल की दरें भी 60% गिरकर करीब 19 पैसे प्रति मिनट हो गई हैं।

Share
Next Story

आईटी / कंपनियां एक साल में 30 हजार से 40 हजार कर्मचारियों को निकाल सकती हैं: टी वी मोहन दास पई

Next

Dainik Bhaskar Brings you the latest Hindi News