लापरवाही / ऑटो पलटने से घायल महिला की मौत, चार घंटे दर्द से कराहती रही

  • परिजनों ने डॉक्टरों पर लापरवाही का लगाया आरोप, किया हंगामा

Dainik Bhaskar

Jan 22, 2019, 12:36 PM IST

भिलाई. ऑटो पलटने से घायल संजय नगर निवासी भानू साहू की मौत पर सुपेला अस्पताल में परिजनों ने जमकर हंगामा किया। उनका आरोप है कि सुबह 8.30 से लेकर 12 बजे तक मरीज घायल अवस्था में अस्पताल में रही, लेकिन उसका प्रॉपर उपचार नहीं किया गया। अस्पताल के सामने मरीज का शव लेकर वह प्रदर्शन करते रहे। हंगामा इतना बढ़ गया कि एसडीएम छावनी को अस्पताल पहुंचना पड़ा। उन्होंने शुरुआती जांच के बाद मरीज के परिजनों को 25 हजार मुआवजा देने की घोषणा की। तब परिजन शव का पीएम कराने और अंतिम संस्कार कराने के लिए तैयार हुए।

मामूली चोटें आईं थी पर इलाज में लापरवाही के चलते मौत

  1. मृतका भानू काम से बाहर निकली थी। तभी सुपेला के पास वह हादसे की शिकार हो गई। इससे उसे मामूली चोटें आईं। हादसे के सदमे से प्राथमिक उपचार के बाद बेहोश हो गई। हादसे में पांच अन्य भी घायल हुए थे। उन्हें मामूली चोटें आई थीं।

  2. जिला अस्पताल कर दिया रेफर

    किसी ने 112 को फोन कर इसकी सूचना दी। एंबुलेंस से मरीजों को सुपेला अस्पताल लाया गया। वहां प्राथमिक उपचार के बाद नाइट ड्यूटी पर तैनात डॉ. जलज गौतम ने सभी घायलों को जिला अस्पताल रेफर कर दिया। भानू के साथ कोई अटेंडेंट नहीं था, इसकी वजह से उसे छोड़कर सभी मरीजों को जिला अस्पताल भेज दिया गया। घायलों के सामान्य रहने पर इलाज के बाद घर भेज दिए।

  3. शिफ्ट बदलने पर आए डॉक्टरों ने नहीं ली सुध

    सुबह 8 बजे के बाद शिफ्ट चेंज हुआ। ओपीडी और इमर्जेंसी ड्यूटी करने वाले 4 डॉक्टर आए। लेकिन उन्होंने घायल भानू की जांच में नहीं दिया ध्यान।

  4. रेफर मरीज अस्पताल में नहीं रहता, जांच होगी

    रेफर करने के बाद कोई भी मरीज अस्पताल में नहीं रहता है। सुबह नौ से दस बजे तक अस्पताल में था। अस्पताल में रहते हुए रेफर मरीज को इलाज नहीं मिलना आपत्तिजनक है। डॉ. केके जैन, सीएस, दुर्ग 

  5. मेरी नाइट ड्यूटी थी, रेफर करके घर चला गया

    ऑटो पलटने से घायल 6 लोग डॉयल 112 से अस्पताल लाए गए। सबको प्राथमिक उपचार के बाद जिला अस्पताल रेफर कर दिया था। मेरी नाइट ड्यूटी थी। डे स्टॉफ के आने के बाद घर आया। डॉ. जलज गौतम, चिकित्साधिकारी

  6. आधा किमी दूर सूचना पहुंचाने में लगे चार घंटे

    परिजनों का आरोप है कि सुपेला थाना के ठीक पीछे संजय नगर है। दूरी करीब आधा किमी है। इतनी कम दूरी तक हादसे की सूचना देने में पुलिस को चार घंटे लगे।

Share
Next Story

बड़ी राहत / निगमों में 50% तक कम होगा प्रॉपर्टी टैक्स 1000 स्क्वा. फीट पर 400 रु. कम देने होंगे

Next

Dainik Bhaskar Brings you the latest Hindi News