Quiz banner
Loading advertisement...

पत्नी कर रही थी प्रताड़ित, युवक ने की खुदकुशी, चिट्ठी में लिखा छह लोगों को मिले सजा

2 वर्ष पहले
  • भिलाई के युवक ने सुसाइड लेटर में ससुराल वालों पर लगाए गंभीर आरोप
  • बच्चों से न मिल पाने, तलाक और 10 लाख रूपए देने के दवाब से था परेशान
Loading advertisement...
दैनिक भास्कर पढ़ने के लिए…
ब्राउज़र में ही

भिलाई  . छत्तीसगढ़ की स्टील सिटी भिलाई में एक शख्स ने अपनी पत्नी से तंग आकर जान दे दी । ढ़ांचा भवन इलाके में अपने ही घर पर जगदीश सिंह फांसी लगा ली । मृतक ने सुसाइड नोट में पत्नी और ससुराल वालों पर प्रताड़ित करने का आरोप लगाया है। यह सुसाइड नोट मृतक ने अपने भाई मोनू और जामूल थाने के प्रभारी के नाम लिखा है । अब मृतक की हैंडराइटिंग की जांच के बाद पुलिस आगे की कार्रवाई की बात कह रही है । 

 

1) नोट में लिखा मरना नहीं चाहता, मगर मजबूर किया जा रहा 

दरअसल  साल 2012 में जगदीश की कैंप-1 निवासी वीरो कौर के साथ हुई थी। उसके पांच और 3 साल के दो छोटे-छोटे बच्चे हैं। पति से विवाद होने पर वीरो डेढ़ साल से बच्चों के साथ मायके रह रही थी। सुसाइड नोट में जगदीश ने लिखा कि उसके ससुराल वालों ने  उसे झूठे केस में फंसाया और पत्नी से तलाक देने और 10 लाख देने के लिए परेशान करने लगे ।

मृतक ने अपने सुसाइड नोट के पहले पन्ने में टीआई को संबोधित करते हुए कहा कि मैं मरना नहीं चाहता । ससुराल के लोगों द्वारा लगातार परेशान करने की वजह कदम उठा रहा हूं। साथ ही उसने प्रताड़ित करने वाली पत्नी वीरो कौर , सास कमलजीत, ससुर लखबीर सिंह,  साला सोनू, साढ़ू सन्नी और साली निक्की को सजा देने की मांग की है ।   

दूसरे सुसाइडल नोट में मृतक ने अपने भाई मोनू के लिए लिखा कि मैंने तुम्हे बहुत परेशान किया है। अब नहीं करुंगा। मुझे मारने वाले को तू माफ मत करना। तू उन छह लोगों को सजा दिलाकर रहना। तभी मेरी आत्मा को शांति मिलेगी और दोनों बच्चों को तू घर ले आना और पालना। अंत में लिखता है कि मैं जीना चाहता था भाई, पत्नी, बच्चों, भाई, डैडी के साथ। मगर हो न सका। 

Loading advertisement...
खबरें और भी हैं...