लोकसभा चुनाव / सड़क और पानी की मांग को लेकर 5 घंटे बंद रहा मतदान, अफसरों ने समझाया तब माने

  • कोटा विधानसभा के सिरसहाका मामला, दोपहर 12 बजे तक पड़े थे सिर्फ 3 वोट

Dainik Bhaskar

Apr 24, 2019, 02:05 AM IST

बिलासपुर .कोटा विधानसभा के ग्राम पंचायत सिरसहा के आश्रित ग्राम खरगा के ग्रामीणों ने वोट देने से इनकार कर दिया। दोपहर 12 बजे तक केवल तीन लोगों ने वोट डाला था। इसमें बीएलओ सुशीला, इंजीनियर स्मिता कुर्रे सहित एक अन्य ने वोट किया था। बिलासपुर से करीब 45 किमी दूर खरगा गांव में कच्ची सड़क है। ग्रामीणों के मुताबिक बारिश में यह गांव एक तरह से टापू बन जाता है।

यही वजह है कि उन्होंने एक दिन पहले ही निर्णय लिया कि जब तक उनके गांव में सड़क बनाने अधिकारी फैसला नहीं लेंगे और पानी की समस्या दूर नहीं करेंगे, वे वोट नहीं डालेंगे। किया भी ऐसा ही। मतदान दल सोमवार की रात को ही वहां पहुंच गया। सुबह वे मतदान की तैयारी कर मतदाताओं के आने का इंतजार कर रहे थे, लेकिन ग्रामीण नहीं पहुंचे। पीठासीन अधिकारी ने इसकी जानकारी अधिकारियों को दी तब कोटा जनपदपंचायत के सीईओ राजेंद्र पांडेय गांव गए और ग्रामीणों को आश्वासन दिया कि वे उनके गांव में सड़क का प्रस्ताव बनवाकर फाइल आगे बढ़वाएंगे। वहीं, गांव में पानी की समस्या भी दूर की जाएगी। तब वहां वोटिंग शुरू हुई।


भास्कर टीम वहां दोपहर 2.35 बजे पहुंची तो वहां 413 में से 208 मतदाताओं ने वोट किया था। पीठासीन अधिकारी विनोद रात्रे ने भास्कर टीम को बताया कि मॉकपोल करने के बाद वे लोग इस तैयारी में थे कि अब मतदाता वोट देने आएंगे लेकिन कोई वोट देने आ ही नहीं रहा था। ऐसे में संदेह हुआ और इस बात की जानकारी जोनल ऑफिसर दीपक गुप्ता को दी गई।इसके बाद अधिकारियों ने इस मामले को गंभीरता से लेते हुए गांव आकर वोटिंग शुरू कराई।


ग्रामीण प्यारेलाल ने बताया कि वर्षों से सड़क की मांग कर रहे हैं लेकिन यहां सड़क नहीं बन रही है। इसी पंचवर्षीय में दो बार सरपंच बदल चुके हैं लेकिन फिर भी मांग पूरी नहीं हुई। इधर कांग्रेस कमेटी के जिला अध्यक्ष विजय केशरवानी अन्य नेताओं के साथ गांव पहुंचे और ग्रामीणों से कहा कि वे मुख्यमंत्री भूपेश बघेल से उनके गांव की समस्या पर बात करेंगे और आचार संहिता खत्म होने के बाद सड़क निर्माण की फाइल आगे बढ़वाएंगे। उन्हें आश्वासन दिया कि उनके गांव की सड़क जरूर बनेगी। ग्रामीणों ने कहा कि मांग पूरी नहीं हुई तो पंचायत चुनाव का विरोध करेंगे।

कांग्रेस-भाजपा कार्यकर्ता भिड़े, थाने में हंगामा :मगरपारा स्थित अंबेडकर नगर में मतदान के बाद भाजपा व कांग्रेस के कार्यकर्ताओं के बीच झगड़ा हो गया। दोनों पक्ष भिड़ गए। स्थिति खराब होने पर बड़ी संख्या में पुलिस बल पहुंची और दोनों को वहां से खदेड़ा। बाद में सिविल लाइन थाने में दोनों ने एक दूसरे पर गाली गलौज व अभद्र व्यवहार करने का आरोप लगाकर शिकायत की। सिविल लाइन क्षेत्र में मगरपारा के अंबेडकर स्कूल की घटना है। शाम 5 बजे के बाद यहां पर कांग्रेस व भाजपा के लोग बड़ी संख्या में मौजूद थे।

दोनों पक्ष अपने अपने नेताओं के पक्ष में नारा लगाने लगे और उनके बीच झगड़ा शुरू हो गया। भाजपा की ओर से बड़ी संख्या में महिलाएं आ गईं। पुलिस को सूचना मिली तो वहां पहुंची। दोनों को लाठी लेकर वहां से खदेड़ा। वहां से दोनों पक्ष एक दूसरे के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कराने लगे थाने पहुंचे। भाजपा की ओर से पार्षद मीनाक्षी बोमर्दे,रूपश्री व अन्य ने कांग्रेस पार्षद तैय्यब हुसैन पर मारपीट,गाली गलौज अभद्रता की शिकायत की है।

Share
Next Story

छत्तीसगढ़  / शहीद सैनिकों की पत्नी को सरकारी नौकरी और बच्चों को मिलेगी मुफ्त शिक्षा

Next

Dainik Bhaskar Brings you the latest Hindi News