Advertisement

Dainik Bhaskar Brings you the latest Hindi News

छत्तीसगढ़/ भूपेश बघेल बोले- राष्ट्रीयकृत बैंकों से लोन लेने वाले किसानों का भी कर्ज माफ करेंगे

Dainik Bhaskar | Jan 09, 2019, 03:21 AM IST
-- पूरी ख़बर पढ़ें --

  • 5वीं विधानसभा का पहला सत्रसत्ता पक्ष ने की अपमानजनक टिप्पणी, विपक्ष गर्भगृह में बैठा
  • अनूपूरक बजट मिलाकर राज्य का बजट कुल 1 लाख 5 हजार 170 करोड़ का हुआ

Dainik Bhaskar

Jan 09, 2019, 03:21 AM IST

रायपुर . खेती के लिए राष्ट्रीयकृत बैंकों के लोन लेने वाले किसानों का भी कर्ज माफ होगा। मंगलवार को विधानसभा में सीएम भूपेश बघेल यह घोषणा की। उन्होंने अनुपूरक बजट की अनुदान मांगों पर हुई चर्चा का जवाब देते हुए कहा कि जनता से जो वादा किया है उसे जरूर पूरा करेंगे। सीएम ने कहा कि राष्ट्रीयकृत बैंकों से कर्ज लेने वाले किसानों की रिपोर्ट मंगाई है, जो एक-दो दिन में आ जाएगी। आते ही कर्जमाफी कार्यवाही शुरू करेंगे।

ये भी पढ़ें

प्रधानमंत्री के बोलने का स्तर पांच साल में नीचे गिरा : भूपेश बघेल

मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य का बजट 1 लाख 5 हजार 170 करोड़ का हो गया है। यह बजट घोषणा पत्र पूरा करने की दिशा में अहम कदम है। सीएम ने धान खरीदी के मुद्दे पर भी विपक्ष पर जमकर हमला किया। उन्होंने कहा कि पद संभालते ही हमने किसानों का धान 2500 रुपए प्रति क्विंटल में खरीदने के फैसला किया है।

आपने 2100 रुपए में एक पाव धान नहीं खरीदा, हम 2500 रुपए प्रति क्विंटल में धान खरीदने वाली देश मे पहली सरकार हैं। हमने कहा था कि सरकार बनने के 10 दिन में कर्जमाफी करेंगे, हमने किया। अनुपूरक बजट में 4223 करोड़ 47 लाख कर्जमाफी के लिए रखे हैं। 5 लाख 25 हजार डिफाॅल्टर किसानों का भी कर्ज माफ किया है।

विधानसभा लाइव टिप्पणी आहत हो रोए बृजमोहन, चौबे ने खेद जताया

सीएम के भाषण के बीच ही कर्जमाफी को लेकर पूर्व मंत्री बृजमोहन अग्रवाल नारेबाजी करने लगे, अन्य विपक्षी सदस्य भी साथ हो लिए। बघेल भाषण देते रहे, विपक्ष ने नारेबाजी करते हुए वॉकआउट कर दिया। जब विपक्षी नेता जब लौटे तो सत्ता पक्ष के कुछ सदस्यों ने अपमानजनक टिप्पणी कर दी, बृजमोहन नाराज हो गए। उन्होंने माफी मांगने को कहा। बृजमोहन से कवासी लखमा आैर शिव डहरिया की नोकझोंक होने लगी। विपक्षी गर्भगृह में बैठ गए। स्पीकर डॉ. चरणदास महंत ने विधायकों को निलंबित कर दिया और बाहर जाने को कहा, पर सभी वहीं बैठे रहे। अध्यक्ष ने उन्हें चर्चा के लिए कमरे में बुलाया। सदन की कार्रवाई शुरू होने पर महंत ने निलंबन खत्म कर मर्यादित रहने की सीख दी। संसदीय कार्यमंत्री रवींद्र चौबे ने घटना के लिए खेद जताया। बृजमोहन ने कहा कि 29 साल के विधायक जीवन में उनसे कभी ऐसा व्यवहार नहीं हुआ। वे आहत हैं। (कहते-कहते बृजमोहन रो पड़े।)