वाइब्रेंट समिट / तीन दिन में 28 हजार 360 एमओयू निवेश, पर तीसरी बार सरकार मौन

जिस महात्मा मंदिर परिसर में वाइब्रेंट समिट हुई, उसका यह फोटो सीएम रूपाणी ने ट्वीट किया।

  • 8 समिट में 17 लाख रोजगार का दावा था, अब 21 लाख का वादा
  • असली मेला-कोई आया सपना लेकर, कोई रात लेकर आया...

Dainik Bhaskar

Jan 21, 2019, 09:47 AM IST

गांधीनगर.तीन दिन तक चली नौवीं वाइब्रेंट ग्लोबल समिट में 28,360 एमओयू हुए। सबसे ज्यादा 27 हजार एमओयू स्ट्रेटजिक पार्टनरशिप के हैं। रविवार को समिट के समापन समारोह में ये जानकारी मुख्यमंत्री विजय रूपाणी ने दी। वहीं उप मुख्यमंत्री नितिन पटेल ने दावा किया कि इससे भविष्य में 21 लाख युवाओं को रोजगार मिलेगा। लेकिन जब उनसे पूछा गया कि इतने एमओयू तो हुए पर पूंजी निवेश कितना होगा, इसपर उन्होंने गुजराती कहावत सुनाते हुए सवाल टाल दिया।


मुख्यमंत्री रूपाणी ने अपने संबोधन में कहा कि 2002 में दंगे के दौरान खराब हुई राज्य की छवि वाइब्रेंट के कारण सुधरी है। जबकि नितिन पटेल ने कहा कि वैश्विक प्लेटफार्म पर 135 देशों के प्रतिनिधियों और इतनी बड़ी संख्या में कंपनियों ने एक साथ भाग लेकर चर्चा की यह महत्वपूर्ण बात है।

पटेल ने कहा कि एमओयू हो और उसके दूसरे ही दिन नींव खोद दी जाए, ऐसा नहीं होता। इसके अमलीकरण में समय लगता है। अभी तक 70 फीसदी एमओयू का अमलीकरण हुआ है। यहां आकर पूंजी निवेश की घोषणा करना जरूरी नहीं होता। जिनसे एमओयू हुआ है वे भी समय के अनुरूप प्रोजेक्ट में बदलाव के साथ काम करते हैं। जितने उद्योग आते हैं उतनी ही खरीदी बढ़ती है और उतना टैक्स मिलता है। इसलिए उद्योग आना महत्वपूर्ण है।

कृषि सेमिनार में रूपाला बोले-बछड़ी के लिए टोटके जरूरी नहीं

कृषि सेमिनार में केंद्रीय कृषि राज्य मंत्री पुरषोत्तम रूपाला ने कृत्रिम गर्भाधान पद्धति पर टिप्पणी करते हुए कहा कि गाय बछड़ी का ही जन्म दे ऐसी आधुनिक तकनीक खोजी गई है। अब टोटके की जरूरत नहीं है।

सबसे अधिक एमओयू एमएसएमई सेक्टर में

2017 में25578एमओयू

2019 में28360एमओयू

गत बार से 2782 ज्यादा

सबसे अधिक एमओयू इनमें

एमओयू सेक्टर
21889 एमएसएमई
1516 अर्बन डेवलपमेंट
977 मिनरल वेज प्रोजेक्ट्स
408 एग्रो एंड फूड प्रोसेसिंग
197 इंजीनियरिंग, ऑटो सेक्टर

पिछली 5 समिट के एमओयू

वर्ष एमओयू रोजगार का वादा
2009 8860 25 लाख
2011 8380 2.28 लाख
2013 17719 3.73 लाख
2015 21000 घोषणा नहीं
2017 25578 घोषणा नहीं

Share
Next Story

अविश्वसनीय / भाजपाइयों ने अहमदाबाद एयरपोर्ट का नाम सरदार पटेल एयरपोर्ट होने का विरोध किया था

Next

Dainik Bhaskar Brings you the latest Hindi News