धोखा / डायमंड 25% सस्ता दिलवाने के नाम पर ठगे 22.80 करोड़, केस

  • पंचकूला सेक्टर-4 की मित्तल फैमिली और रिश्तेदारों के खिलाफ धोखाधड़ी का केस, जांच शुरू
  • आरोपी ने उनको एक्सपोर्ट किया डायमंड यहां पर 25 से 30 फीसदी सस्ता देने की बात कही

Dainik Bhaskar

Apr 18, 2019, 12:24 PM IST

मोहाली.फेज-5 स्थित अनमोल रत्न ज्वैलर के मालिक विकास वालिया को पंचकूला सेक्टर-4 में रहने वाली एक मित्तल फैमिली ने साथियों के साथ मिलकर 22 करोड़ 80 लाख की चपत लगाई। 2018 में एसएसपी को दी शिकायत में अब एसपी सिटी-1 की इंक्वायरी के बाद आरोपी अशोक मित्तल, चेतना मित्तल, आदिति मित्तल, अर्पित मित्तल, राजरानी मित्तल, विनोद मित्तल व कुछ अज्ञात के खिलाफ आईपीसी की धारा 406,420,120बी और 506 के तहत केस दर्ज किया है। अभी तक किसी को भी पुलिस ने अरेस्ट नहीं किया है।

डायमंड 25% सस्ता दिलवाने का दिया था झांसा :

सन्नी एन्क्लेव निवासी विकास वालिया ने बताया कि उनका फेज-5 में अनमाेल रत्तन के नाम से ज्यूलरी डिस्ट्रीब्यूशन का शोरूम था। इसके अतिरिक्त मुंबई, सूरत और दिल्ली में भी गोल्ड व डायमंड का काम था। 30 सालों से वह इस लाइन से जुड़े हुए हैं और बिजनेस कर रहे हैं। उनको फ्रेंड सर्कल के माध्यम से आरोपी अशोक मित्तल मिला। उस समय अशोक मित्तल की मनीमाजरा स्थित डायमंड की दो कंपनियां थी। उनमें एक 888 ट्रेडिंग कंपनी और तमन्ना ट्रेडिंग कंपनी और यह विदेश से डायमंड एक्सपोर्ट करते थे।

लालच में फंसा

आरोपी ने उनको एक्सपोर्ट किया डायमंड यहां पर 25 से 30 फीसदी सस्ता देने की बात कही। इस एवज में आरोपी ने पहले उनसे 4 करोड़ 37 लाख रुपए ले लिए। लेकिन बाद में ध्यान आया कि करोड़ों का मामला है इसलिए वह कैश नहीं बल्कि बैंक के माध्यम से देंगे। उन्होंने 9 करोड़ 45 लाख रुपए आरटीजीएस के माध्यम से दिए। आरोपी मित्तल ने अपने व अपने परिवार के अकाउंट में पैसे ट्रांसफर करवाए।वालिया ने बताया कि वह इस लालच में फंस गया था कि उसको विदेशी डायमंड यहां पर बैठे-बैठे कई फीसदी कम दाम पर मिल जाएंगे।

एग्जीबिशन के नाम पर फिर ठगा

विकास ने एसएसपी को दी शिकायत में बताया था कि अशोक मित्तल को डायमंड एक्सपोर्ट के नाम पर दूसरा ठगी का खेल खेला मां-बेटी ने। मां चेतना व बेटी अदिति ने खुद को एग्जीबिशन कंडक्ट करवाने के बारे में कहा। क्योंकि अशोक मित्तल से बिजनेस का सौदा हो चुका था और उसने मां-बेटी पर विश्वास किया। दोनों ने झांसे में लेकर उसे कहा कि उन्होंने दिल्ली में गोल्ड व डायमंड ज्यूलरी की एग्जीबिशन लगानी है। इसलिए उनको ज्यूलरी चाहिए। दिल्ली के बाद जयपुर में एग्जीबिशन लगाएंगे और वहां पर मॉल बेच भी देंगे। 90 दिनों के बाद प्रोफिट के साथ करोड़ों रुपए वापिस आ जाएंगे। इसको भी विकास मान गए। अपने पास से एग्जीबिशन के लिए 9 करोड़ की ज्यूलरी दोनों को दे दी। इनको एलांते मॉल में अपने बिजनेस की फ्रेंचाइजी भी खुलवाकर दी। उसमें भी आरोपियों ने धोखा दिया। वालिया ने कहा कि मित्तल फैमिली ने उनको ऐसे ठगा कि उनको पहले सूरत, मुंबई व दिल्ली में बिजनेस ठप हो गया। एक मात्र माेहाली फेज-5 मार्केट में शोरूम था और वह भी 31 दिसंबर 2018 को खाली करना पड़ा। अब ऐसे हाल हो गया है कि खाने के भी लाले पड़े हुए हैं।

Share
Next Story

नए निर्देश / सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद हाईकोर्ट ने बदला फैसला, अब 3 नहीं, सिर्फ 2 घंटे ही मिलेंगे आतिशबाजी को

Next

Dainik Bhaskar Brings you the latest Hindi News