Advertisement

Dainik Bhaskar Brings you the latest Hindi News

ड्रग फ्री इंडिया/ नामी हस्तियों के साथ चंडीगढ़ पहुंचे श्री-श्री रविशंकर, बोले-नशा करना है तो क्रिएटिविटी का करो

Dainik Bhaskar | Feb 19, 2019, 11:57 AM IST
-- पूरी ख़बर पढ़ें --

  • आर्ट ऑफ लिविंग की तरफ सेचंडीगढ़ की पंजाब यूनिवर्सिटी से की गई ड्रग फी इंडियाकैंपेन की शुरुआत
  • पंजाब के गवर्नर व यूटी एडमिनिस्ट्रेटर वीपी सिंह बदनौर मुख्य अतिथि रहे

Dainik Bhaskar

Feb 19, 2019, 11:57 AM IST

चंडीगढ़.द आर्ट ऑफलिविंग के फाउंडर श्री-श्री रविशंकर ने देशभर के नामचीन सेलिब्रिटीज को जोड़ते हुए ड्रग फ्री इंडिया कैंपेन शुरू किया है। शुरुआत चंडीगढ़ स्थित पंजाब यूनिवर्सिटी से की गई, जिसके चलते यहां संजय दत्त, गुरदास मान और कपिल शर्मा समेत कई हस्तियां पहुंची। इस दौरान श्री-श्री रविशंकर ने युवाओं को संदेश दिया कि नशा ही करना है तो क्रिएटीविटी का करो। मजा आएगा।

इस मौके पंजाब के गवर्नर व यूटी एडमिनिस्ट्रेटर वीपी सिंह बदनौर मुख्य अतिथि रहे। इस मुहिम काे सपोर्ट करने के लिए उनके साथ बाॅलीवुड सेलिब्रिटी संजय दत्त, सिंगिंग लैजेंड गुरदास मान, काॅमेडियन कपिल शर्मा व सिंगर-रैपर बादशाह पहुंचे हुए थे।कैंपेन में पहुंचे पंजाबी गायक गुरदास मान ने श्री-श्री रविशंकर जी से पूछा, एकाग्रता कैसे बढ़ाएं तो इस पर वेबोलेइसके लिए अपने आप को पहचानने की जरूरत है। पहले अपने मन का मंथन करना होगा। जैसे चिंतित किस बात से हो, कुछ खोने का डर है या भविष्य की चिंता। फिर पीछे लौटकर देखेंगे तो हर बार हमें एक अलग शक्ति और ताकत मिलेगी, जिसके साथ आगे बढ़ते चले गए होंगे। इसी तरह की हजारों टेक्नीक हैं खुद को एकाग्र करने की। आसमान को देखते चले जाओ और रास्ता अपने आप आसान लगने लगेगा।

संजय दत्त ने कहा-मेरी भी किसी ने ड्रग एडिक्शन को छुड़ाने के लिए मदद की थी। इस तरह मैं भी मदद कर सकता हूं किसी जवानया योद्धा की। इस मुहिम से जुड़कर मदद करने की कोशिश की है। मैं एक ड्रग एडिक्ट हूं और हमेशा रहूंगा। हालांकि यह बुरी बात है। अब इससे दूर हूं। यह मेरी खुशकिस्मती है कि गुरु जी का साथ मिला। जिनका साथ इन्हें मिलता है वो कामयाब रहता है। कैंपेन में पहुंचे कॉमेडियन कपिलशर्मा ने अपनेविचार व्यक्त करते हुए कहा कि गुरुदेव का बेहद शुक्रिया अदा करता हूं कि उन्होंने मुझे इस काबिल समझा। मेरे थोड़े बहुत सहयोग से किसी भी युवा का ड्रग की इस बीमारी से पीछा छूटता है तो गर्व की बात है।