ठगी / कॉस्मेटिक सामान ऑनलाइन सेल करने वाले डीलर्स से ठगे 9.75 लाख, दो अरेस्ट

  • दोनों के खिलाफ धोखाधड़ी और आईटी एक्ट के तहत एफआईआर रजिस्टर
  • ज्यादा सामान बिकवाने का दिया था लालच, ऑनलाइन ही पैसे करवाए ट्रांसफर

Dainik Bhaskar

Apr 18, 2019, 02:00 PM IST

चंडीगढ़. साइबर सेल ने शहर के ऑनलाइन साइट से सामान बेचने वाले दो डीलरों के साथ ठगी करने के मामले में दो आरोपियों को पकड़ा है। दोनों के खिलाफ धोखाधड़ी और आईटी एक्ट के तहत एफआईआर रजिस्टर की गई है। अब साइबर सेल आरोपियों से पूछताछ कर रही है कि उन्होंने कितने लोगों के साथ ठगी की है।

पकड़े गए आरोपियों की पहचान राहुल सेवाईवार और विक्रम सिंह के रूप में हुई है। राहुल को पुलिस ने गाजियाबाद जबकि दूसरे आरोपी को हरियाणा के पलवल से गिरफ्तार किया है। डीलरों से कुल 9.75 लाख रुपए की ठगी की है। साइबर सेल के पास शिकायत आई थी, जिसमें शिकायतकर्ता ने बताया था कि वह कॉस्मेटिक का बिजनेस करते हैं।

एक अज्ञात व्यक्ति ने उनके सामान को ऑनलाइन साइट पर चढ़वाने के नाम पर ठगी की है। उनसे 7.75 लाख रुपए ठग लिए गए है। पुलिस ने मामले में जांच शुरू की तो एक अन्य शिकायत पहुंची। यह शिकायत आर्टीफिशियल जूलरी का काम करने वाले डीलर की थी। जिसमें भी इसी तरह से ही ठगी की बात सामने आई।


एनी डेस्क साइट का करते हैं इस्तेमाल: आरोपी एनी डेस्क का भी इस्तेमाल करते थे। यह एक सॉफ्टवेयर है जो कि रिमोट की तरह काम करता है। इसके तहत वह दूसरे से जब साइट खुलवाते थे तो लिंक खोलने वाले व्यक्ति का कम्प्यूटर या फोन सीधा उनके पास खुल जाता था। जिसे वह खुद इस्तेमाल कर सकते थे।

छोटे डीलर्स को करते हैं टारगेट: आरोपी छोटे डीलरों को टारगेट करते हैं। उससे कहते हैं कि उनकी एक अॉनलाइन साइट है। जिसके अंतर्गत उनका काफी साइट्स के साथ कॉन्ट्रेक्ट है और वह उनका सामान ज्यादा बिकवा सकते हैं। यदि वह उस पर अपने सामान की डिटेल डालेंगे और सामने वाला मान जाए तो वह उसे एक लिंक भेजते हैं। लिंक ऑनलाइन साइट का होता है। जैसे ही वह साइट लिंक के साथ खुल जाती है तो उसमें एक अॉप्शन होता है इसमें दूसरे व्यक्ति को अपने बैंक की डिटेल भरनी होती है। जिसमें बैंक अकाउंट नंबर भी होता है और फोन नंबर भी। जैसे ही व्यक्ति डिटेल भरता है तो वह उसके अकाउंट को ऑनलाइन खोल लेते है। फोन पर जो ओटीपी आता है उसे व्यक्ति को झांसा देकर ले लिया जाता है। जब वह अोटीपी बताता है तो वह उससे ठगी कर देते है। तुरंत अपने अकाउंट में रुपए ट्रांसफर कर लेते हैं।

Share
Next Story

नए निर्देश / सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद हाईकोर्ट ने बदला फैसला, अब 3 नहीं, सिर्फ 2 घंटे ही मिलेंगे आतिशबाजी को

Next

Dainik Bhaskar Brings you the latest Hindi News