छत्रपति मर्डर केस / कोर्ट पहुंचे सीबीआई के विशेष न्ययाधीश, रोहतक में वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग की प्रक्रिया शुरू

  • पंचकूला में धारा-144 लगाई गई, सीबीआई कोर्ट के बाहर फोर्स तैनात
  • रोहतक के सुनारियां स्थित जिलाजेल में प्रिंटर का इंतजाम किया गया

Dainik Bhaskar

Jan 17, 2019, 12:04 PM IST

पंचकूला.पत्रकार छत्रपति हत्याकांड मामले की सुनवाई में सीबीआई की विशेष अदालत ने गुरुवार को राम रहीम समेत चारों दोषियों को उम्रकैद की सजा सुनाई।दोषी राम रहीमरोहतक के सुनारियां स्थित जिला जेल में बनाए गए विशेष कोर्ट रूम से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिये पेश किया गया। इस सुनवाई के दौरान रोहतक और पंचकूला दोनों ही जगहअदालत परिसर में किसी को भी जाने की अनुमति नहीं थी। करीब 500 मीटर पहले ही वाहनों को रोका गया और मीडिया को भी 200 मीटर दूर रखा गया।

Dainik Bhaskar विस्तार से बता रहा है कि आज दिनभर कोर्ट की कार्यवाही कैसे चली...

  • पंचकूला में धारा-144 लगाई गई है। पंचकूला सीबीआई कोर्ट के बाहर फोर्स तैनात रही।
  • पुलिस डेरे के 90 लोगों को चयनित करके उन्हें ट्रैक कर रही है, ताकि वो बाबा के समर्थकों को इकट्ठा न करें।
  • रोहतक के सुनारियां स्थित जिलाजेल में प्रिंटर का इंतजाम किया गया, ताकि सजा सुनाए जाने के बाद एक कॉपी का प्रिंट निकालाजा सके और उस पर गुरमीत राम रहीम के हस्ताक्षर करवाकर कोर्ट में सबमिट किया जा सके।
  • लगभग साढ़े 11 बजे सीबीआई के विशेष न्यायाधीश जगदीप सिंह दूहन पंचकूला कोर्ट में पहुंचे।
  • 12 बजकर 25 मिनट पर दिवंगत पत्रकार रामचंद्र छत्रपति के पुत्र अंशुल और बाकी परिजन पंचकूला में सीबीआई कोर्ट पहुंचे। फांसी की सजा की मांग करते हुएबेटी श्रेयशी ने कहा कि आज उनके पिता की आत्मा को इंसाफ मिल गया। छोटे-छोटे बच्चों के साथ दर्दभरा जीवन गुजारने वाली मेरी मां की आंखों में संतुष्टि देखने को मिल रही है।
  • 2 बजकर 26 मिनट पर रोहतक की जिला जेल में बनाए गए कोर्ट रूम में राम रहीम उपस्थित हुआ।
  • साढ़े 3 बजे तक राम रहीम समेत तमाम चारों दोषी हाथ जोड़े खड़े थे। इस दौरान सीबीआई की तरफ से फांसी की सजा की मांग की गई, वहीं बचाव पक्ष ने कम से कम सजा की मांग की। बहस खत्म हो गई और कोर्ट में फैसले की कॉपी लिखी जा रही थी।
  • फिर कोर्ट की कार्यवाही दोबारा शुरू हुई।करीब साढ़े 6 बजे कोर्ट ने चारों दोषियों को उम्रकैद की सजा सुनाई। इसी बीच भी एक ही स्क्रीन पर दिखाए जा रहेचारों दोषी कोर्ट के सामने हाथ जोड़कर खड़े रहे।

Share
Next Story

फैसला / नगर निकाय में बकाया प्रॉपर्टी टैक्स का सौ फीसदी ब्याज माफ, दो महीने के लिए छूट

Next

Dainik Bhaskar Brings you the latest Hindi News