चूक / बेटी से मिलने ब्रिटेन गए थे पिता, पोलैंड लौटने के लिए गलत फ्लाइट में बैठकर माल्टा पहुंच गए

माल्टा। -प्रतीकात्मक चित्र।

  • पोलैंड के रहने वाले 75 साल के पॉवेल लॉरेनुक क्रिसमस पर बेटी से मिलने ब्रिटेन आए थे
  • लौटते वक्त उन्हें लीड्स से जीडांस्क (पोलैंड) जाना था, लेकिन वे गलत फ्लाइट पकड़कर माल्टा पहुंच गए
  • पॉवेल को पोलिश के अलावा कोई भाषा नहीं आती, इसलिए माल्टा में काफी दिक्कत हुई

Dainik Bhaskar

Jan 17, 2019, 07:27 AM IST

वारसॉ. यहां रहने वाले 75 साल के पॉवेल लॉरेनुक अपनी बेटी से मिलने ब्रिटेन पहुंचे थे। पोलैंड लौटने के लिए उनका लीड्स-ब्रेडफोर्ड एयरपोर्ट से जीडांस्क (1668 किमी) का टिकट बुक था। लेकिन गलती से वह माल्टा (लंदन से दूरी करीब 2900 किमी) पहुंच गए।

भाषा ने बढ़ाई मुसीबत

  1. पॉवेल रिटायर्ड इंजीनियर हैं और उन्हें पोलिश के अलावा कोई भाषा नहीं आती। गलती से वे लीड्स-ब्रेडफोर्ड एयरपोर्ट से माल्टा जाने वाले विमान में सवार हो गए।

  2. माल्टा पहुंचने पर पॉवेल सकते में आ गए। उन्होंने एक टैक्सी वाले को टूरिस्ट इन्फॉर्मेशन सेंटर पर चलने को कहा। टैक्सी वाले ने यह कहते हुए माफी मांगी कि उसे पोलिश नहीं आती।

  3. पॉवेल की परेशानी तब और बढ़ गई जब उन्हें पता लगा कि उनके पास पैसे कम बचे हैं, उनका फोन काम नहीं कर रहा और वहां की भाषा नहीं समझ सकते। तभी एक पोलिश समझने वाली महिला उनके पास आई और परेशानी पूछी। महिला ने पॉवेल की बात उनकी बेटी से कराई और पोलैंड की फ्लाइट में टिकट बुक कराया। 

  4. पोलैंड की फ्लाइट में बैठने से पहले पॉवेल ने टिकट फ्लाइट स्टाफ को टिकट दिखाया और तस्दीक की कि विमान पोलैंड ही जा रहा है। पॉवेल की बेटी लुसाइना ने बताया- उस वक्त मेरे पास फोन आया था। मैंने देखा कि कॉल माल्टा से था। मुझे उसी वक्त लगा कि कहीं कुछ गलत हुआ है। फिर मैंने देखा कि कोई वॉट्सऐप पर मैसेज लिख रहा है। मैं रोने लगी और डर गई। पापा एक दूसरे देश में थे। मैं समझ ही नहीं पा रही थी कि वो वहां कैसे पहुंचे।

  5. लुसाइना ने यह भी कहा- मैं उन्हें लेकर चिंतित थी। मुझे यही चिंता थी कि अगर कोई उनकी मदद नहीं करेगा तो उनका वापस लौटना मुश्किल होगा। क्योंकि उनके पास पैसे नहीं थे, फोन काम नहीं कर रहा था। सही मायने में वह अकेले थे। लेकिन सबकुछ ठीक हो गया।

  6. लुसाइना के मुताबिक- पापा ने कहा कि वह अगले साल मेरे पास लंदन नहीं आना चाहते। अब उनकी फ्लाइट में बैठने की इच्छा नहीं है। माल्टा में पॉवेल की मदद करने वाली कैमिला निकोलस ने बताया- वह काफी नर्वस थे। उनसे बातचीत करना मुश्किल हो रहा था क्योंकि उन्हें कुछ समझ नहीं आ रहा था। 

Share
Next Story

पाक / ईशनिंदा की दोषी ईसाई महिला की मौत की सजा रद्द, सुप्रीम कोर्ट के फैसले के खिलाफ प्रदर्शन

Next

Dainik Bhaskar Brings you the latest Hindi News