पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
No ad for you

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

पाकिस्तान में धमाका:पेशावर के मदरसे में हुआ IED ब्लास्ट; 8 बच्चों की मौत, 120 से ज्यादा घायल

इस्लामाबादएक महीने पहले
पाकिस्तानी मीडिया के मुताबिक, ब्लास्ट रिहाइशी इलाके में हुआ है, ऐसे में रेस्क्यू में दिक्कत आ रही है। 
No ad for you

पाकिस्तान में पेशावर के एक मदरसे में मंगलवार सुबह IED ब्लास्ट हुआ। इसमें आठ बच्चों की मौत हो गई। वहीं, 120 से ज्यादा लोग जख्मी हुए हैं। इनमें से कई की हालत गंभीर है। धमाके की वजह अभी पता नहीं चल सकी है। यह घटना 8.30 बजे सुबह में हुई।

पुलिस के सीनियर अफसर वकार अजीम ने बताया कि दिर कॉलोनी में स्थित जामिया जुबेरिया मदरसे में कोई व्यक्ति एक बैग छोड़कर गया था और उसके कुछ देर बाद ही धमाका हो गया। पेशावर एसएसपी मंसूर अमन ने कहा कि हादसे की वजह पता की जा रही है। मदरसा रिहाइशी इलाके में है, ऐसे में रेस्क्यू में दिक्कत आई। घायलों को पेशावर के लेडी रीडिंग अस्पताल में भर्ती किया गया है।

ब्लास्ट में 4 से 5 किलोग्राम एक्सप्लोसिव का इस्तेमाल हुआ

अब तक किसी ने घटना की जिम्मेदारी नहीं ली है। काउंटर टेररिज्म डिपार्टमेंट (CTD) के अधिकारी ने बताया कि ब्लास्ट में 4 से 5 किलोग्राम एक्सप्लोसिव का इस्तेमाल किया गया था। मारे जाने वाले और घायल छात्रों में ज्यादातर की उम्र 7-11 साल के बीच है। इनमें से कई अफगानिस्तान से थे।

घटना पर दुख जताते हुए पीएम इमरान खान ने कहा कि मैं देश के लोगों को आश्वस्त करना चाहता हूं कि इस कायरतापूर्ण बर्बर हमले के लिए जिम्मेदार आतंकवादियों को जल्द से जल्द सजा दी जाएगी।

छह साल पहले पेशावर के स्कूल में हुआ था हमला

पाकिस्तान के पेशावर में 16 दिसंबर 2014 की सुबह करीब 10:30 बजे एक आर्मी स्कूल पर बंदूकधारी आतंकियों ने हमला किया था। इसमें 132 बच्चों को मार दिया गया था। सात तालिबानी आतंकी स्कूल के पिछले दरवाजे से घुसे थे। उनके हाथों में आटोमैटिक वैपन्स थे। वे सीधे स्कूल के ऑडिटोरियम की ओर बढ़े। जहां मौजूद मासूमों पर उन्होंने अंधाधुंध गोलियां बरसाईं। इसके बाद आतंकी एक-एक क्लासरूम में घुसकर फायरिंग करने लगे। कुछ ही मिनटों के बाद स्कूल के अंदर लाशें बिछ गईं।

प्रिंसिपल को बच्चों के सामने गोली मारी

बच्चों के सामने ही आतंकियों ने स्कूल की प्रिंसिपल ताहिरा काजी को भी गोलियों से भून दिया था। यह देखने के लिए मासूमों को मजबूर भी किया गया। आतंकियों ने कुछ बच्चों को लाइन में खड़ा कर गोलियों से भूना, तो कुछ छिपे बच्चों पर तब तक गोलियां बरसाईं, जब तक उनके शरीर के टुकड़े बिखर नहीं गए। इस कत्लेआम के लगभग 40 मिनट बाद पाक आर्मी ने मोर्चा संभाला। लगभग छह घंटे चले ऑपरेशन में आर्मी ने सातों आतंकियों को मार गिराया।

No ad for you

विदेश की अन्य खबरें

Copyright © 2020-21 DB Corp ltd., All Rights Reserved

This website follows the DNPA Code of Ethics.