Advertisement

Dainik Bhaskar Brings you the latest Hindi News

पाकिस्तान/ नवाज, उनकी बेटी और दामाद रिहा, इस्लामाबाद हाईकोर्ट ने निलंबित की सजा

बुधवार देर रात नवाज शरीफ लाहौर पहुंचे।

  • अकाउंटेबिलिटी कोर्ट ने 6 जुलाई को नवाज, मरियम और सफदर को दोषी करार दिया था
  • पनामा पेपर्स लीक में नाम सामने आने के बाद नवाज पर भ्रष्टाचार का आरोप लगा था

Dainik Bhaskar | Sep 20, 2018, 08:23 AM IST

इस्लामाबाद. भ्रष्टाचार के आरोप में 10 साल की सजा काट रहे पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ को बुधवार को राहत मिली। इस्लामाबाद हाईकोर्ट ने सबूतों के अभाव में नवाज, बेटी मरियम और उनके दामाद मोहम्मद सफदर की सजा को निलंबित कर दिया। इसके बाद तीनों को अदियाला जेल से रिहा कर दिया गया। बुधवार देर रात वे लाहौर पहुंच गए।

फैसले के खिलाफ याचिका दायर की गई थी

  1. एवेनफील्ड प्रॉपर्टीज केस में अकाउंटबिलिटी कोर्ट ने 6 जुलाई को नवाज शरीफ, मरियम और कैप्टन सफदर को दोषी पाया था। नवाज शरीफ पर आय से अधिक संपत्ति होने का आरोप था। वहीं, मरियम पर नवाज को लंदन में चार फ्लैट खरीदने के लिए उकसाने का आरोप लगाया गया था।

  2. कोर्ट के फैसले के विरोध में नवाज, मरियम और मोहम्मद सफदर ने इस्लामाबाद हाईकोर्ट में याचिकाएं दायर की थीं। हाईकोर्ट की बेंच में शामिल जस्टिस अतहर मिनाल्लाह और जस्टिस हसन औरंगजेब ने अपने फैसले में तीनों की सजा निलंबित करने का आदेश दिया।

  3. पाकिस्तान में आम चुनाव से ठीक पहले नवाज शरीफ ने सरेंडर किया था, जिसके बाद से वे रावलपिंडी की अदियाला जेल में बंद थे। अदालत ने नवाज, मरियम और सफदर को 5 लाख रुपए का मुचलका भरने का भी आदेश दिया।

  4. नवाज के भाई और विपक्ष के नेता शहबाज शरीफ ने कुरान का हवाला देते हुए कहा कि सच सामने आता है और झूठ गायब हो जाता है। दरअसल झूठ प्रकृति से जाने के लिए बाध्य है।

  5. हाल ही में नवाज की पत्नी कुलसुम की लंदन में कैंसर के चलते मौत हो गई थी। कोर्ट ने पैरोल पर नवाज, मरियम और सफदर को कुलसुम के सुपुर्दे खाक में शामिल होने का ऑर्डर दिया था। 17 सितंबर को वे जेल लौट आए।

  6. पाक मीडिया का कहना है- नवाज और उनके परिवार को सिर्फ कुछ समय के लिए राहत मिली है। दायर याचिकाओं पर सुनवाई के बाद पूरा फैसला आना बाकी है।

  7. जवाबदेही अदालत में नवाज और उनके परिवार पर दो अन्य मामलों अल-अजीजिया स्टील मिल्स और फ्लैगशिप इन्वेस्टमेंट्स पर भी केस चल रहा है। इनमें नवाज मनी लॉन्डरिंग, टैक्स चोरी और विदेशों में संपत्ति बनाने के आरोपी हैं। 

  8. पिछले साल सुप्रीम कोर्ट ने नवाज शरीफ के किसी भी सार्वजनिक पद पर रहने को अयोग्य करार दे दिया था। सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद नवाज को इस्तीफा देना पड़ा था।

Advertisement

Dainik Bhaskar Brings you the latest Hindi News

Recommended

Advertisement