पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
Open Dainik Bhaskar in...
Browser
Loading advertisement...

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

अफगानिस्तान में आतंकी हमला:जलालाबाद की जेल में हमले के 9 दिन बाद नंगरहार में पुलिस चौकी पर हमला; 6 पुलिसकर्मियों की मौत, 6 घायल

काबुल5 महीने पहले
घायल अधिकारियों को नंगरहार पब्लिक हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया है। अब तक न तो सरकार और न ही आतंकवादी समूहों ने हमले की पुष्टि की है। (फाइल फोटो)
  • अफगानिस्तान के जलालाबाद शहर की जेल में 2 अगस्त को हुए अटैक में 29 लोगों की मौत हो गई थी
  • तालिबान और अमेरिका के बीच 29 फरवरी को हुए शांति समझौते के बाद भी अफगानिस्तान में हमले हो रहे
Loading advertisement...

अफगानिस्तान के नंगरहार प्रांत में आतंकवादियों ने लॉ इन्फोर्समेंट अफसरों (कानून प्रवर्तन अधिकारी) पर हमला कर दिया। इसमें छह अफसरों की मौत हो गई, जबकि छह घायल हो गए। स्थानीय लोगों ने न्यूज एजेंसी स्पुतनिक को मंगलवार को ये जानकारी दी। उन्होंने बताया कि आतंकवादियों ने सोमवार शाम को प्रांत के पचिर वा अगम जिले के गेरा खेल इलाके में एक स्थानीय पुलिस चौकी पर हमला किया।

घायल अधिकारियों को नंगरहार पब्लिक हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया है। अब तक न तो सरकार और न ही आतंकवादी समूहों ने हमले की पुष्टि की है। तालिबान और अमेरिका के बीच 29 फरवरी को शांति समझौते पर हस्ताक्षर हुए थे। इसके बावजूद अफगानिस्तान में हिंसक घटनाएं जारी हैं।

आईएस आतंकियों को छुड़ाने के लिए जेल में हमला हुआ था

इससे पहले अफगानिस्तान के जलालाबाद शहर की जेल में आतंकियों ने रविवार को हमला किया था। इसमें 29 लोगों की मौत हो गई थी, जबकि 50 घायल हो गए थे। हमला जेल में बंद सैकड़ों आईएस आतंकियों को छुड़ाने के लिए किया गया था। करीब 18 घंटे चली मुठभेड़ में सुरक्षा बलों ने जेल में हमला करने वाले तीन आतंकियों को मार गिराया था।

जलालाबाद में एक अफगान कमांडो ने बताया था कि हमलावरों की संख्या बीस से ज्यादा थी। जेल से भागे 700 कैदियों को फिर से पकड़ लिया गया था। जेल में 1,500 से ज्यादा कैदी हैं। उनमें से ज्यादातर तालिबान और आईएस के आतंकी हैं।

अफगानिस्तान 400 आतंकियों को छोड़ने पर राजी
राष्ट्रपति अशरफ गानी की सरकार सोमवार को तालिबान के साथ शांति वार्ता बढ़ाने के लिए 400 हार्डकोर तालिबानी आतंकियों को छोड़ने पर राजी हो गई। अफगानिस्तान की परिषद 'लोया जिरगा' ने यह फैसला लिया है। ये आतंकी कई जवानों और नागरिकों की हत्या में शामिल रहे हैं। अब अगले हफ्ते कतर में तालिबान और अफगान सरकार के बीच बातचीत हो सकती है। तालिबान ने इसके लिए सहमति भी दे दी है।

ये भी पढ़ें

अफगानिस्तान की जेल में मुठभेड़ खत्म:सुसाइड अटैक में 29 की जान गई, 18 घंटे चली मुठभेड़ में 3 आतंकी ढेर; जेल से फरार 700 तालिबान-आईएस आतंकियों को फिर पकड़ा

Loading advertisement...
खबरें और भी हैं...

Copyright © 2020-21 DB Corp ltd., All Rights Reserved

This website follows the DNPA Code of Ethics.