Advertisement

Dainik Bhaskar Brings you the latest Hindi News

दावा/ वॉशिंगटन पोस्ट के पत्रकार खशोगी की हत्या में सऊदी के पूर्व राजनयिक का हाथ: रिपोर्ट

2 अक्टूबर को जमाल खशोगी तुर्की स्थित सऊदी दूतावास गए थे लेकिन वह वापस नहीं आए।

  • तुर्की के सबाह अखबार ने गुरुवार को सऊदी काउंसलेट, राजदूत के घर और एयरपोर्ट के सीसीटीवी फुटेज से कुछ फोटो निकाले
  • इसमें हत्या वाले दिन यानी 2 अक्टूबर को सऊदी के एक पूर्व जांच अधिकारी के मूवमेंट्स दिखाए गए

Dainik Bhaskar | Oct 19, 2018, 12:33 PM IST

अंकारा. वॉशिंगटन पोस्ट के लापता पत्रकार जमाल खशोगी की हत्या में सऊदी के पूर्व राजनायिक माहेर अब्दुलअजीज मुतरेब की अहम भूमिका थी। अमेरिकी चैनल सीएनएन ने सूत्रों के हवाले से यह दावा किया है। रिपोर्ट के मुताबिक, सऊदी में जांच अधिकारी रह चुके मुतरेब को साजिश की पूरी जानकारी थी। वे क्राउन प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान के करीबी बताए जाते हैं। अमेरिकी अधिकारियों का कहना है ये मुमकिन नहीं कि सलमान का करीबी कोई अधिकारी बिना उनकी जानकारी के विदेश के किसी ऑपरेशन में शामिल हो। 

2 अक्टूबर से लापता हैं खशोगी

  1. खशोगी तुर्की में रहने वाली अपनी मंगेतर हेटिस सेंगीज से शादी करना चाहते थे। इसकी अनुमति के लिए दस्तावेज लेने वह 2 अक्टूबर को इस्तांबुल स्थित सऊदी अरब के दूतावास गए थे लेकिन वहां से वापस नहीं लौटे। जांचकर्ताओं ने इस सिलसिले में बुधवार और गुरुवार को करीब 9 घंटे तक इस्तांबुल के सऊदी राजदूत के घर और दूतावास की जांच की। 

  2. सऊदी अरब के नागरिक रहे खशोगी वॉशिंगटन पोस्ट के लिए लिखते थे। उनके सऊदी के शाही परिवार से अच्छे रिश्ते थे लेकिन बीते कुछ महीनों से वह प्रिंस सलमान के खिलाफ लिख रहे थे। 1980 के दशक में खशोगी ने ओसामा बिन लादेन का इंटरव्यू भी लिया था।

  3. तुर्की के सबाह अखबार ने गुरुवार को खशोगी के लापता होने से पहले की सिक्योरिटी कैमरा फुटेज की 4 तस्वीरें छापीं। इनमें इस्तांबुल स्थित सऊदी दूतावास से लेकर सऊदी राजदूत के घर तक की फोटो हैं।

  4. फोटोज में खशोगी की हत्या से जुड़े 15 लोगों और मुतरेब के मूवमेंट्स को दर्शाया गया है। अखबार को यह फोटो तुर्की सुरक्षा विभाग में अपने सूत्रों के जरिए मिलीं। 

  5. सिक्युरिटी कैमरा की 4 फोटो में क्या?

    पहली फोटो: 2 अक्टूबर को सुबह 9:55 बजे मुतरेब को सऊदी काउंसलेट पहुंचते देखा जा सकता है। उसी दिन सऊदी से इस्तांबुल पहुंचे दूसरे लोग भी उसके पीछे दिखाई देते हैं। 2 तारीख को ही खशोगी सऊदी काउंसलेट से लापता हुए थे। 

     

  6. दूसरी फोटो: 2 अक्टूबर को शाम 4:53 बजे मुतरेब सऊदी राजदूत के घर के सामने खड़े दिखाई देते हैं। गौरतलब है कि तुर्की के जांचकर्ताओं ने हत्या के सिलसिले में दो दिन तक काउंसलेट की जांच की थी। 

     

  7. तीसरी फोटो: इस फोटो में तारीख की स्टाम्प नहीं है। हालांकि, इसमें मुतरेब को काउंसलेट के नजदीक मोवेनपिक होटल से चेकआउट करते हुए देखा जा सकता है। जानकारी के मुताबिक, मुतरेब की बुकिंग 5 अक्टूबर तक थी, लेकिन वे 2 तारीख को ही चेकआउट कर गए।

     

     

  8. उनकी टीम के बाकी सदस्य भी बुकिंग खत्म होने से पहले ही होटल से निकल गए। इस फोटो में उनके पास ही एक सूटकेस रखा नजर आ रहा है, लेकिन यह साफ नहीं हो पाया कि यह उनका ही था या नहीं।

  9. चौथी फोटो: शाम करीब 5:58 पर मुतरेब इस्तांबुल के अतातुर्क एयरपोर्ट पहुंचे। निजी एयरक्राफ्ट में बैठकर वे मिस्र के काहिरा होते हुए वापस रियाद पहुंच गए।

     

  10. ट्रम्प ने जताई हत्या की आशंका

    इसी बीच अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने पहली बार खशोगी की हत्या की आशंका जताई है। गुरुवार को विदेश मंत्री माइक पोम्पियो के सऊदी से लौटने के कुछ ही देर बाद ट्रम्प ने कहा कि अब उन्हें भी लगता है कि खशोगी की हत्या हो गई है। 

  11. ट्रम्प ने कहा कि वे सऊदी और तुर्की की जांच रिपोर्ट का इंतजार कर रहे हैं। अगर पत्रकार की हत्या में सऊदी का हाथ है, तो उसे इसके गंभीर परिणाम भुगतने होंगे। इससे पहले ट्रम्प ने बुधवार को ही तुर्की से खशोगी की हत्या से जुड़े पुख्ता सबूत सौंपने के लिए कहा था। 

Advertisement

Dainik Bhaskar Brings you the latest Hindi News

टॉप न्यूज़और देखें

Advertisement

बॉलीवुड और देखें

स्पोर्ट्स और देखें

Advertisement

Dainik Bhaskar Brings you the latest Hindi News

जीवन मंत्रऔर देखें

राज्यऔर देखें

वीडियोऔर देखें

बिज़नेसऔर देखें