Advertisement

Dainik Bhaskar Brings you the latest Hindi News

दिल्ली-न्यूयॉर्क फ्लाइट/ ईंधन नहीं था, तूफान में फंसा था विमान; पायलट ने बचाई 370 यात्रियों की जान

  • घटना बीते 11 सितंबर की, दिल्ली से न्यूयॉर्क जा रही थी फ्लाइट
  • 15 घंटे की फ्लाइट में फ्यूल खत्म होने वाला था
  • लैंडिंग सिस्टम फेल हो गए थे, इसके बाद भी पायलट ने विमान उतारा

Dainik Bhaskar | Sep 18, 2018, 12:32 PM IST

न्यूयॉर्क.  ‘‘मौसम खराब है और ईंधन खत्म हो रहा है, हम पूरी तरह फंस चुके हैं।’’ यह संदेश एयर इंडिया की दिल्ली-न्यूयॉर्क एआई-101 फ्लाइट के पायलट रुस्तम पालिया ने 11 सितंबर को न्यूयॉर्क एयर ट्रैफिक कंट्रोल (एटीसी) को दिया तो वहां हड़कंप मच गया। इस विमान में 370 यात्री सवार थे। पायलट ने दो बार जॉन एफ कैनेडी एयरपोर्ट पर विमान को उतारने की कोशिश की, लेकिन वह कामयाब नहीं हो पाया। आखिर में 38 मिनट के बाद नेवार्क एयरपोर्ट पर विमान को उतारा गया। एयर इंडिया ने कहा कि पायलट ने बेहद मुश्किल हालात में सूझबूझ दिखाई, जो काबिल-ए-तारीफ है।

कैनेडी एयरपोर्ट पर नहीं हो सकी लैंडिंग

  1. पायलट रुस्तम की आपबीती

    पायलट रुस्तम ने बताया, ‘‘यह मेरे जीवन की सबसे खतरनाक उड़ान थी। हमारे पास सिर्फ एक रेडियो स्रोत था। विमान का सिस्टम फेल हो गया था और मौसम काफी खराब था। विंडशियर सिस्टम और ऑटो स्पीड ब्रेक काम नहीं कर रहे थे और सहायक पावर यूनिट भी नहीं चल रही थी।’’

  2. पायलट रुस्तम की आपबीती

    पायलट रुस्तम ने बताया, ‘‘यह मेरे जीवन की सबसे खतरनाक उड़ान थी। हमारे पास सिर्फ एक रेडियो स्रोत था। विमान का सिस्टम फेल हो गया था और मौसम काफी खराब था। विंडशियर सिस्टम और ऑटो स्पीड ब्रेक काम नहीं कर रहे थे और सहायक पावर यूनिट भी नहीं चल रही थी।’’

  3. पायलट रुस्तम की आपबीती

    पायलट रुस्तम ने बताया, ‘‘यह मेरे जीवन की सबसे खतरनाक उड़ान थी। हमारे पास सिर्फ एक रेडियो स्रोत था। विमान का सिस्टम फेल हो गया था और मौसम काफी खराब था। विंडशियर सिस्टम और ऑटो स्पीड ब्रेक काम नहीं कर रहे थे और सहायक पावर यूनिट भी नहीं चल रही थी।’’

Advertisement

Dainik Bhaskar Brings you the latest Hindi News

Recommended

Advertisement