पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
No ad for you

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

अमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव:भारत को ‘गंदा’ कहे जाने पर भड़के बाइडेन, कहा- ट्रम्प ये भी नहीं जानते कि दोस्तों से कैसे बात की जाती है

वॉशिंगटनएक महीने पहले
पेनसिल्वेनिया में एक कार्यक्रम में जो बाइडेन (बाएं)। दूसरी ओर राष्ट्रपति ट्रम्प ने 24 अक्टूबर को नॉर्थ कैरोलिना में एक कार्यक्रम को संबोधित किया था।
  • डेमोक्रेटिक कैंडिडेट बाइडेन का ट्वीट- डोनाल्ड ट्रम्प को वैश्विक मुद्दों की बिल्कुल समझ नहीं है
  • प्रेसिडेंशियल डिबेट में ट्रम्प ने कहा था- भारत को देखो, यह कितना गंदा है, वहां की हवा गंदी है
No ad for you

अमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव से आठ दिन पहले डेमोक्रेटिक कैंडिडेट जो बाइडेन ने रिपब्लिकन कैंडिडेट और राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प पर निशाना साधा है। उन्होंने ट्रम्प के भारत को गंदा बताए जाने पर नाराजगी जाहिर की। उन्होंने कहा कि ट्रम्प को यह भी नहीं पता कि दोस्तों से कैसे बात की जाती है? बाइडेन ने कहा कि ट्रम्प की वैश्विक मुद्दों के प्रति समझ खराब है।

दरअसल, राष्ट्रपति ट्रम्प ने प्रेसिडेंशियल डिबेट में भारत को गंदा बताया था। उपराष्ट्रपति की डेमोक्रेटिक कैंडिडेट कमला हैरिस का जिक्र करते हुए बाइडेन ने ट्वीट किया, ‘‘राष्ट्रपति ट्रम्प ने भारत को ‘गंदा’ कहा। वे यह नहीं जानते कि दोस्तों के बारे में कैसे बात करते हैं और जलवायु परिवर्तन जैसी वैश्विक चुनौतियों को कैसे हल करते हैं। कमला हैरिस और मैंने अपने पार्टनरशिप को बहुत महत्व दिया है।’’

शुक्रवार को हुई डिबेट में दूसरी बार चुनाव लड़ रहे ट्रम्प ने भारत की हवा को गंदा बताते हुए पेरिस एग्रीमेंट से बाहर निकलने के अपने फैसले का बचाव किया था। ग्लोबल वार्मिंग की समस्या से निपटने के लिए फ्रांस की राजधानी पेरिस में 195 देशों के बीच क्लाइमेट समझौता किया गया था। समझौते में दुनिया भर के टेम्परेचर में वृद्धि को 2 डिग्री सेल्सियस से कम रखने का टारगेट फिक्स किया गया है।

सोशल मीडिया पर लोगों ने नाराजगी जाहिर की

रायटर्स के मुताबिक, डिबेट में ट्रम्प ने कहा था- भारत को देखो। यह कितना गंदा है। वहां की हवा गंदी है। हालांकि, ट्रम्प की टिप्पणी के बाद सोशल मीडिया पर कई लोगों ने नाराजगी जाहिर की। कुछ लोगों ने कहा कि इस टिप्पणी ने भारत में फिर से वायु प्रदूषण की समस्या को उजागर किया है।

‘पेरिस समझौते के चलते नौकरियां खत्म नहीं कर सकते’

उन्होंने कहा था- पेरिस समझौते की वजह से वे देश में लाखों नौकरियों और हजारों कंपनियों को बंद नहीं कर सकते। यह सही नहीं होगा। वहीं, 2+2 मीटिंग के लिए अमेरिकी विदेश मंत्री माइक पोम्पियो और रक्षा मंत्री मार्क एस्पर सोमवार को भारत आने वाले हैं।

No ad for you

US इलेक्शन की अन्य खबरें

Copyright © 2020-21 DB Corp ltd., All Rights Reserved

This website follows the DNPA Code of Ethics.