Advertisement

Dainik Bhaskar Brings you the latest Hindi News

हेराफेरी/ गहने गायब करने वाले गिरोह के 3 सदस्य गिरफ्तार, इनमें एक महिला भी

Dainik Bhaskar | Sep 12, 2018, 04:47 PM IST
जानकारी देते सिटी एसपी प्रभात कुमार, पीछे गिरफ्तार ठग गिरोह के सदस्य।
-- पूरी ख़बर पढ़ें --

  • शातिर महिला के पास दो वोटर कार्ड, एक ओडिशा, एक झारखंड का

जमशेदपुर. शहर के अलग-अलग क्षेत्र में सफाई के नाम पर गहने गायब करने वाले गिरोह की महिला सदस्य समेत तीन लोगों को पुलिस ने गिरफ्तार किया है। इनमें सिंधु सोरेन (नरवा, पोटका), बोड़ो भगत (हरिणा, कोवाली) और दुलारी टुडू (गोलमुरी नया बस्ती) शामिल हैं। इनके पास से पुलिस ने वारदात में प्रयुक्त बाइक, सोना जैसा दिखने वाला धातु, तीन मोबाइल समेत महिला का दो वोटर कार्ड (एक ओडिशा, दूसरा खासमहल के पता का), एक आधार कार्ड (गोलमुरी के पता का) जब्त किया है।Advertisement

कैसे देते थे झांसा?

  1. कई जगहों पर घटना को दिया अंजाम

    मंगलवार को मामले का खुलासा करते हुए सिटी एसपी प्रभात कुमार ने बताया-तीनों शातिर हैं। गिरफ्तार सदस्य बागबेड़ा, सीतारामडेरा, परसुडीह, सुंदरनगर और पोटका में लोगों को गहने व बर्तन सफाई के नाम पर झांसा देकर आभूषण लेकर फरार हो जाते थे। गिरोह के सदस्यों ने सीतारामडेरा में सितू अग्रवाल से सोना-चांदी व पीतल की सफाई के नाम पर सोना की हार और अंगूठी लेकर फरार हो गए थे। बागबेड़ा में मनोज कुमार के घर में महिला से गहना साफ करने का झांसा देकर दो चेन, दो कान बाली और मंगलसूत्र (सभी सोने का) लेकर फरार हो गए। गिरोह के सदस्यों ने परसुडीह गोलपहाड़ी निवासी बिनोद रजक से भी गहना सफाई के नाम पर ठगी की थी। विनोद रजक की शिकायत पर डीएसपी (लॉ एंड ऑर्डर) आलोक रंजन और परसुडीह थाना प्रभारी अनिमेष गुप्ता की अगुवाई में टीम गठित कर इन्हें गिरफ्तार किया गया।
     

    Advertisement

  2. यूरेनियम धातु भी बरामद

    सिटी एसपी ने बताया- गिरोह के सदस्य यूरेनियम खदान से निकले छोटे छोटे दानों को 80 हजार रुपए में बेच देते थे। बोडो भगत और शिशिर (राजनगर) गिरोह के सरगना हैं। शिशिर ही पीला धातु लाता था। शिशिर सहित गिरोह के 3 सदस्य फरार हैं। उनकी तलाश में छापामारी की जा रही है।

     

  3. नकली सोना दिखाकर 80 हजार की ठगी

    सदस्यों ने गोलपहाड़ी निवासी विनोद रजक को गीतिलता (पोटका) के समीप नकली सोना देकर 80 हजार रुपए की ठगी की थी। इस संबंध में विनोद ने दुलारी टुडू व शिशिर के अलावा 5 अज्ञात लोगों के खिलाफ पोटका थाना में लिखित शिकायत की थी।