पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
Open Dainik Bhaskar in...
Browser
Loading advertisement...

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

बिहार में आईटी रेड:नीतीश के नल-जल में ‘चिराग’ की लगाई आग अब धधकी, आयकर को इसी के ठेकेदारों से मिले 3 करोड़ से ज्यादा

पटना3 महीने पहलेलेखक: बृजम पांडेय
सात निश्चय पर लगातार हमलावर रहे चिराग पासवान अपनी सरकार बनने पर इसकी पोल खोलने की बात करते रहे हैं।
  • अब भाजपा ने भी जांच की मांग को जायज ठहराया
  • सात निश्चय योजना पर चिराग उठाते रहे हैं सवाल
  • कह चुके हैं - दोषी सीएम भी होंगे तो करेंगे गिरफ्तार
Loading advertisement...

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के 7 निश्चय से जुड़े ड्रीम प्रोजेक्ट ‘नल-जल’ योजना में लोजपा अध्यक्ष चिराग पासवान की लगाई आग ने बिहार विधानसभा चुनाव के पहले चरण की वोटिंग खत्म होने के एक दिन बाद ही आग का रूप ले लिया। आयकर की गुरुवार से चल रही जांच में जिन 12 ठेकेदारों के ठिकानों का नाम आया है, उनमें दो कंपनियों के तीन ठेकेदार नल-जल योजना का हिसाब नहीं बताने के कारण घिर गए हैं। इनके पास से 3 करोड़ रुपए का हिसाब नहीं मिल पा रहा है। चिराग पासवान सात निश्चय योजना पर लगातार हमलावर रहे हैं और भास्कर इंटरव्यू में साफ कह चुके हैं कि भाजपा के साथ वह सरकार बनाते हैं तो जांच कर योजना के भ्रष्टाचार को खोलेंगे और दोषी मिले तो सीएम नीतीश कुमार को भी जेल भेजेंगे। आयकर की ताजा कार्रवाई के बाद सत्तारूढ़ भाजपा ने भी योजना की जांच को जरूरी बताते हुए कहा है कि इनके दोषियों को ढूंढ़कर कार्रवाई की जाएगी।

आयकर ने फाइलें ढूंढ़नी शुरू की तो योजना का नाम आया सामने

चुनाव के मद्देनजर आयकर विभाग ने राज्य के चार जिलों- पटना, कटिहार, भागलपुर और गया जिलों में करीब दर्जनभर ठेकेदारों के यहां एक साथ जांच की। इनमें दो बड़े ठेकेदार नल-जल योजना जुड़े थे। टैक्स की गड़बड़ी से संबंधित मामले को लेकर पटना में दो कंपनियों और इनके मालिकों के यहां जांच की गई थी। ये दोनों मुख्य रूप से नल-जल योजना के तहत ठेकेदारी करते हैं। इसमें गणाधिपति कंस्ट्रक्शन प्राइवेट लिमिटेड के मालिक जनार्दन प्रसाद और नालंदा इंजिकॉम प्राइवेट लिमिटेड के मालिक विवेकानंद कुमार और सरयू प्रसाद शामिल हैं। इन सभी के पास से तीन करोड़ से ज्यादा कैश बरामद किए गए हैं। गया में गुरुवार से शुक्रवार तक आयकर अधिकारियों ने टैक्स चोरी के मामले में स्टोन चिप्स के कारोबार से जुड़े 8 फॉर्म व प्रतिष्ठानों की जांच की है। इसमें से एक विष्णु बिल्डकॉन प्राइवेट लिमिटेड की खाता बही की जांच गुरुवार की देर रात तक हुई।

चिराग ने अब कहा- यह तो बस शुरुआत है, नीतीश इसी से घबराए

आयकर कार्रवाई के बाद चिराग पासवान ने कहा कि उन्होंने पहले ही इस बात की आशंका जताई थी कि नल-जल योजना में बड़ा भ्रष्टाचार है। उन्होंने कहा कि अभी तो यह शुरुआत है। यह सबसे बड़ा घोटाला है। नीतीश कुमार जांच से ही घबरा रहे हैं और उनके नेताओं के सुर बदल गए हैं। आगे और भी बड़े अधिकारी फंसेंगे।

फजीहत पर एनडीए एकजुट, कहा- नीतीश पाक, दोषी नहीं छूटेंगे

आयकर की कार्रवाई में नल-जल योजना का नाम आने के बाद एक बार फिर भाजपा ने नीतीश कुमार के प्रति आस्था जताई। भाजपा के बिहार प्रभारी भूपेंद्र यादव ने कहा कि नल-जल योजना में छापेमारी के तथ्यों की जानकारी ली जा रही है। नीतीश कुमार के नेतृत्व में पूरी पारदर्शिता से शासन चलाया गया है। चिराग के पास कोई विजन ही नहीं है, उसके बारे में बात क्या करना। पासवान ने तो दिल्ली में सात निश्चय और नल-जल योजना की तारीफ की थी। इधर, बिहार सरकार के मंत्री प्रेम कुमार ने कहा कि नल-जल योजना में अगर गड़बड़ी हुई है तो जांच होगी। हमारी सरकार जांच कराएगी। जो भी दोषी होंगे, उनपर कार्रवाई होगी।

विपक्ष घेरने की पूरी तैयारी में, कुशवाहा आए फ्रंट पर

शिक्षा को लेकर नीतीश कुमार को लगातार घेर रहे पूर्व केंद्रीय राज्य मंत्री उपेंद्र कुशवाहा ने ताजा घटनाक्रम के बाद कहा कि निश्चित तौर पर बड़ा घोटाला है, योजना में कहीं भी सही ढंग से काम नहीं हुआ है। जांच में सही बात सामने आएगी। राजद ने भी इस मामले की निष्पक्ष जांच की मांग की है।

Loading advertisement...
खबरें और भी हैं...

Copyright © 2020-21 DB Corp ltd., All Rights Reserved

This website follows the DNPA Code of Ethics.