पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
Open Dainik Bhaskar in...
Browser
Loading advertisement...

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

उद्धव सरकार पर फडणवीस का आरोप:इतिहास में ऐसा धमकाने वाला सीएम हमने नहीं देखा, ऐसी सरकार को चुल्लू भर पानी में डूब मरना चाहिए

मुंबई2 महीने पहले
महाराष्ट्र विकास अघाड़ी सरकार के एक साल पूरा होने पर पूर्व सीएम ने सरकार पर निशाना साधने के लिए एक प्रेस कॉन्फ्रेंस आयोजित की थी।
Loading advertisement...

विधानसभा मे विपक्ष के नेता व पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे के धमकी भरे लहजे की आलोचना करते हुए कहा है कि महाराष्ट्र के इतिहास में ऐसा धमकी देने वाला मुख्यमंत्री हमने नहीं देखा। फडणवीस ने कहा कि ठाकरे सरकार के एक साल के कार्यकाल पर सुप्रीम कोर्ट व हाईकोर्ट के फैसले भारी पड़ गए हैं। दोनों शीर्ष अदालतों ने जिस तरह से सरकार के कामकाज को लेकर कड़ी टिप्पणी की है, उससे इन्हें चुल्लू भर पानी में डूब मरना चाहिए।

कामकाज का डाटा देने की जगह दी धमकी
शनिवार को प्रदेश भाजपा कार्यालय में पत्रकारों से बातचीत में फडणवीस ने मुख्यमंत्री ठाकरे द्वारा अपने सरकार का एक साल का कार्यकाल पूरे होने पर शिवसेना के मुखपत्र को दिए इंटरव्यू का उल्लेख करते हुए कहा कि मैं भी मुख्यमंत्री रहा हूं। और देश में बहुत से मुख्यमंत्री हैं। ऐसे मौके पर मुख्यमंत्री अपने सालभर के कामकाज का लेखा-जोखा पेश करते हुए भविष्य के योजनाओं का खाका पेश करते हैं। लेकिन उद्वव ठाकरे ने पूरे इंटरव्यू में सिर्फ विपक्ष को धमकी देने का काम किया है।

राष्ट्रपति शासन की मांग नहीं, पर हुआ संविधान का उलंघन
भाजपा नेता ने कहा कि मैं महाराष्ट्र में राष्ट्रपति शासन लगाने की मांग नहीं कर रहा पर सुप्रीम कोर्ट व हाईकोर्ट की कड़ी टिप्पणी से यह साबित हुआ है कि राज्य में संविधान का उलंघन हो रहा है। उन्होंने सवाल किया कि क्या अब सुप्रीम कोर्ट व हाईकोर्ट को भी महाराष्ट्र द्रोही ठहराएंगे।

कंगना का ऑफिस तोड़ सरकार ने ताकत का गलत इस्तेमाल किया

कंगना रनोट के ऑफिस तोड़ने पर पूर्व सीएम ने कहा-कंगना के मामले में आए बॉम्बे हाई कोर्ट के आदेश से यह साफ होता है कि कैसे सरकार ने ताकत का गलत इस्तेमाल किया। अगर आप सरकार के खिलाफ सोशल मीडिया पर गलत बोलेंगे तो आपको गिरफ्तार कर लिया जाएगा। महाराष्ट्र में यही स्थिति है।

उन्होंने कहा, शुक्रवार को सुप्रीम कोर्ट (अर्नब गोस्वामी के मामले में) और हाई कोर्ट के फैसलों के साफ होता है कि सरकार कैसे काम कर रही है। एक साल बाद मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने शिवसेना के मुखपत्र सामना को इंटरव्यू दिया। इस पूरे इंटरव्यू में कोई विजन दिखाई नहीं दिया।

मोदी के नाम पर मांगा था वोट
उन्होंने फिर दुहराया कि तीन दलों की यह सरकार विश्वासघात से बनी है। मोदी जी के नाम पर वोट मांग कर विरोधियों से मिल गए। यह महाराष्ट्र की जनता के साथ धोखा है। फडणवीस ने कहा कि एक साल के दौरान इस सरकार ने केवल स्थगन का काम किया है। हर काम पर रोक लगाने के अलावा यह सरकार कुछ नहीं कर सकी। कोरोना की स्थति भी इनसे संभाले नहीं गई। फडणवीस ने कहा कि मुख्यमंत्री की कुर्सी पर बैठे व्यक्ति को इस तरह की भाषा शोभा नहीं देती।

मेरी पत्नी के बारे में शिवसेना नेताओं ने की टिप्पणी
मुख्यमंत्री ठाकरे के परिजनों को निशाना बनाने के सवाल पर फडणवीस ने कहा कि जो राजनीति में है उस पर टिका टिप्पणी होगी ही पर शिवसेना नेताओं ने तो मेरी पत्नी को लेकर ट्विटर पर बहुत कुछ टिप्पणी की। एक सवाल के जवाब में फडणवीस ने कहा कि भाजपा की इतनी दहशत है कि तीनों दल सभी चुनाव मिल कर लड़ने की बात कर रहे हैं पर इससे हमें कोई फर्क नहीं पड़ेगा।

राऊत की घोषणा, चव्हाण को पता नहीं
फडणवीस ने कहा कि सरकार में बैठे तीनों दलों में कोई समन्वय नहीं है। ऊर्जामंत्री नितिन राऊत ने बिजली बिलों में राहत की घोषणा की पर अब उनके दूसरे मंत्री अशोक चव्हाण कह रहे कि बगैर चर्चा राऊत ने यह एलान कर दिया। जबकि राऊत कह रहे कि उपमुख्यमंत्री अजित पवार के कहने पर यह घोषणा की पर अजित कह रहे कि हमें तो पता ही नहीं। उन्होंने कहा कि तबादले के लिए दलाल घूम रहे हैं। ऐसी खराब स्थिति तो कांग्रेस-राकांपा सरकार के समय में भी नहीं थी।

Loading advertisement...
खबरें और भी हैं...

Copyright © 2020-21 DB Corp ltd., All Rights Reserved

This website follows the DNPA Code of Ethics.