पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
Open Dainik Bhaskar in...
Browser
Loading advertisement...

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

BMC मेयर ने कंगना को अपशब्द कहे:मेयर बोलीं- दो टके के लोग कोर्ट को राजनीति का अखाड़ा बनाना चाहते हैं

मुंबई2 महीने पहले
मेयर किशोरी पेडनेकर (बाएं) का कहना है कि कंगना के बंगले को तोड़ने की कार्रवाई नियमों के मुताबिक की गई थी।
Loading advertisement...

कंगना रनोट का बंगला तोड़ने के मामले में बॉम्बे हाईकोर्ट ने शुक्रवार को बृहन्मुंबई महानगर पालिका (BMC) को कड़ी फटकार लगाई। इसके बावजूद BMC की मेयर किशोरी पेडनेकर ने कंगना खिलाफ अपशब्द कहे। मेयर ने कहा, 'सभी लोग चकित हैं कि एक एक्ट्रेस जो कि हिमाचल में रहती है, यहां आती है और हमारे मुंबई को POK कहती है। ऐसे दो टके के लोग अदालत को राजनीति का अखाड़ा बनाना चाहते हैं। यह गलत है।'

पेडनेकर ने कहा कि कंगना का बंगला तोड़ने की कार्रवाई नियमों के मुताबिक की गई थी। हाईकोर्ट के फैसले पर जल्दी ही BMC की कानूनी टीम के साथ बैठक की जाएगी।

कंगना का जवाब- पिछले कुछ महीनों में महाराष्ट्र सरकार की खूब गालियां झेलीं
मुंबई के मेयर के बयान पर कंगना रनोट ने सोशल मीडिया पोस्ट में लिखा, 'पिछले कुछ महीनों में मैंने महाराष्ट्र सरकार की तरफ से इतने लीगल केस, गालियां, बेइज्जती और बदनामी झेली है कि बॉलीवुड माफिया, आदित्य पंचोली और ऋतिक रोशन जैसे लोग अब भले इंसान लगने लगे हैं। न जाने मुझमें ऐसा क्या है, जो लोगों को इस कदर परेशान करता है।'

कोर्ट ने BMC को फटकारा तो सरकार पल्ला झाड़ा
महाराष्ट्र के गृहमंत्री अनिल देशमुख ने कहा है कि कोर्ट का जो फैसला आया है, वह BMC का मुद्दा था, सरकार का उससे लेना-देना नहीं। BMC ने जो कार्रवाई की है, कोर्ट ने उस पर फैसला दिया है।

संजय राउत ने फिर से कंगना के POK वाले बयान का जिक्र किया
शिवसेना सांसद संजय राउत ने भी कहा-'एक्ट्रेस ने मुंबई पुलिस को माफिया और मुंबई को POK कहा है, जो पार्टियां अदालत के आदेश से उत्साहित हैं, क्या वे एक्ट्रेस के बयानों से सहमत हैं? जज और अदालत के खिलाफ अभद्र टिप्पणी करना गलत है, तो जब कोई महाराष्ट्र या मुंबई को लेकर ऐसा बोलता है तो क्या यह मानहानि नहीं है?

Loading advertisement...
खबरें और भी हैं...

Copyright © 2020-21 DB Corp ltd., All Rights Reserved

This website follows the DNPA Code of Ethics.