पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
Open Dainik Bhaskar in...
Browser
Loading advertisement...

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

मुंबई में इस साल की सबसे बड़ी रिश्वत:ACB ने दो लाख रुपए और दो साड़ी घूस में लेते एक अधिकारी और उसके बेटे को किया गिरफ्तार

मुंबई2 महीने पहले
Loading advertisement...

मुंबई में एंटी करप्शन ब्यूरो ने के एक अधिकारी और और उसके बेटे को दो साड़ी और दो लाख रुपए की रिश्वत लेने के आरोप में गिरफ्तार किया है। इन लोगों ने एक अपार्टमेंट के चेयरमैन से ये रिश्वत ली थी। उसकी शिकायत पर ACB ने इन्हें पकड़ा है।

गिरफ्तार अधिकारी की पहचान भरत काकड़(57) और सचिन काकड़(32) के रूप में हुई है। भरत कांदिवली ईस्ट में कॉपरेटिव सोसाइटी के डिप्टी रजिस्ट्रार के कार्यालय में काम करते हैं। दोनों को रंगे हाथों घूस लेते पकड़ा गया है। यह एसीबी की मुंबई रेंज में इस साल की सबसे बड़ी रिश्वत दर्ज हुई है। शिकायतकर्ता मलाड वेस्ट में एसवी रोड पर स्थित एक अपार्टमेंट के चेयरमैन हैं।

एक वरिष्ठ एसीबी अधिकारी ने बताया, "चेयरमैन अपनी सोसायटी में संरचनात्मक मरम्मत करने के लिए एक परमिशन की मांग करने के लिए कॉपरेटिव सोसाइटी के डिप्टी रजिस्ट्रार के कार्यालय में गए थे। यहां मंजूरी देने के बदले भरत काकड़ ने उनसे रिश्वत मांगी। इसके बाद अधिकारी पर कार्रवाई की मांग को लेकर उन्होंने ACB से संपर्क किया।

कुछ दिनों में रिटायर होने वाला था अधिकारी
रेड के दौरान के दौरान एसीबी को पता चला कि अधिकारी कुछ दिनों में रिटायर होने वाला था और वह रिश्वत की लेनदेन अपने बेटे के सहारे करवाता था। पीड़ित ने पैसे और साड़ियों को उसके बेटे सचिन के हाथों में दिया था। दो साड़ियों की कीमत 7 हजार 500 रुपए बताई जा रही है। यह साडियां कार में छिपा कर रखी गईं थीं।

गिरफ्तार अधिकारी की संपत्तियों की होगी जांच
दोनों पर भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम 1988 की धारा 7(लोक सेवक द्वारा अपने काम के संबंध में वैध पारिश्रमिक से भिन्न पारितोषण लेने) के तहत केस दर्ज किया गया है। एसीबी आगे की जांच के लिए गिरफ्तार सरकारी अधिकारी की संपत्ति की जांच करेगी। एसीबी ने लोगों से अपील की है कि वे ऐसे मामलों की जानकारी के लिए उनके टोल-फ्री नंबर 1064 पर फोन कर जानकारी दे सकते हैं।

Loading advertisement...
खबरें और भी हैं...

Copyright © 2020-21 DB Corp ltd., All Rights Reserved

This website follows the DNPA Code of Ethics.