पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

हाईकोर्ट में ड्रग्स केस:एनसीबी ने कोर्ट से कहा- रिया कोई मासूम नहीं, सुशांत को ड्रग्स के जाल में उलझाने के लिए ही उसके पास गई थी

मुंबई22 दिन पहले
रिया चक्रवर्ती और सुशांत सिंह राजपूत अप्रैल 2019 से एक-दूसरे के साथ थे। रिया कई महीनों तक सुशांत के घर पर लिव इन में भी रही थी।
  • एनसीबी ने कोर्ट में कहा- रिया और उनके भाई ने ड्रग्स की खरीद-फरोख्त को बढ़ावा दिया
No ad for you

अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत की मौत से जुड़े ड्रग्स मामले में नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो (एनसीबी) ने गिरफ्तार अभिनेत्री रिया चक्रवर्ती और उनके भाई शोविक की बॉम्बे हाई कोर्ट में दायर जमानत याचिकाओं का विरोध किया है। एनसीबी ने कहा कि दोनों ने ड्रग्स की खरीद-फरोख्त को बढ़ावा दिया और वित्तीय मदद पहुंचाई। एजेंसी ने गंभीर आरोप लगाते हुए कहा रिया चक्रवर्ती कोई मासूम नहीं बल्कि बेहद शातिर हैं। वह सुशांत सिंह राजपूत को ड्रग्स के जाल में उलझाने के लिए ही उसके पास गई थी।

एनसीबी के वकील की तरफ से मंगलवार को बॉम्बे हाईकोर्ट में एक्ट्रेस रिया चक्रवर्ती की ओर से दायर जमानत याचिका पर 7 घंटे तक हुई सुनवाई के दौरान दी। अदालत में सभी पक्षों का बयान रिकॉर्ड कर फैसला सुरक्षित रख लिया गया है।

'ड्रग्स रैकेट की एक्टिव मेंबर है रिया'

एनसीबी ने अदालत में कहा कि रिया चक्रवर्ती पूरे होश-हवास में और पूरी प्लानिंग से ड्रग्स का धंधा करती थीं। वह एक ड्रग सिंडिकेट की एक्टिव मेंबर थीं, जिसमें हाई सोसायटी के कई जाने-माने लोग और ड्रग सप्लायर्स शामिल रहे हैं। एनसीबी ने कहा है कि ड्रग का सेवन करने के मामले में रिया चक्रवर्ती सुशांत को बढ़ावा देने की आरोपी हैं। रिया ने ही सुशांत को ड्रग्स की लत लगाई थी।

'सुशांत के साथ रहकर दिया उसे धोखा दिया'

एनसीबी ने दावा किया कि 'सुशांत सिंह राजपूत की मौत के सम्पूर्ण परिदृश्य को देखने में यह सामने आता है कि रिया इस बात से अवगत थीं कि सुशांत ड्रग का सेवन करते थे और इस दौरान न केवल उन्हें ऐसा करने का बढ़ावा दिया गया बल्कि उनसे पूरी बात भी छिपाई गई।'

'सुशांत के खिलाफ आपराधिक साजिश'

एनसीबी ने रिया को शातिर अपराधी मानते हुए उसकी जमानत याचिका का विरोध किया और कहा कि उनके खिलाफ ऐसे कई सबूत मिले हैं, जिनसे पता चलता है कि वह ड्रग ट्रैफिकिंग में शामिल रही हैं। एनसीबी ने यह स्पष्ट कर दिया है कि एक आपराधिक साजिश के तहत रिया ने ड्रग्स के लेन-देन के लिए अन्य अभियुक्तों का समर्थन किया, उन्हें ऐसा करने के लिए बढ़ावा दिया और पैसे से भी उनकी मदद कीं।

रिया ने भी अदालत में किया है स्वीकार

एनसीबी के जोनल निदेशक समीर वानखेड़े द्वारा बॉम्बे हाईकोर्ट में दायर एक हलफनामे में यह बात कही है कि रिया ने एक बयान में कहा है कि उन्होंने सैमुएल मिरांडा और दीपेश सावंत को ड्रग्स के पैसे चुकाए हैं, जिन्हें बाद में सुशांत को सेवन के लिए दिया गया। एनसीबी ने कहा कि यह साफ है कि जिन ड्रग्स के लिए पैसे चुकाए गए थे, वे निजी उपयोग के लिए नहीं थे बल्कि ऐसा किसी और को इनकी आपूर्ति कराए जाने के लिए गया और यह एनडीपीएस 1985 की धारा 27ए के तहत आता है।

रिया छूटी तो सबूत नष्ट होंगे

एनसीबी ने एक हलफनामे में यह भी कहा है कि जांच महत्वपूर्ण चरण में है और अगर इस वक्त रिया को जमानत मिल जाती है, तो इससे छानबीन बाधित होगी। एनसीबी ने यह भी कहा कि रिया मादक पदार्थों की तस्करी में शामिल रही है, यह साबित करने के लिए कई सबूत हैं। वह ड्रग पहुंचाने के काम में न सिर्फ मदद देती थीं बल्कि क्रेडिट कार्ड, नकद और ऐसे ही कई माध्यमों से इनका भुगतान भी करती थीं।

एजेंसी ने आगे कहा कि रिया ने अपने घर पर ड्रग्स को रखने और सुशांत को सेवन करने की भी अनुमति दी। एनसीबी ने कहा कि यह मामला अब एनडीपीएस (नारकोटिक ड्रग्स एंड साइकोट्रॉपिक सब्स्टांसेस एक्ट) के तहत भी आता है।

No ad for you

महाराष्ट्र की अन्य खबरें

Copyright © 2020-21 DB Corp ltd., All Rights Reserved

This website follows the DNPA Code of Ethics.