पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

पुणे की वारदात:पति बन रहा था प्रेम में बाधा, पत्नी ने फावड़े से काट कर मौत के घाट उतारा; मारने के बाद चली गई मॉर्निंग वॉक पर

पुणे24 दिन पहले
मयूर गायकवाड़(28) और उसकी पत्नी ऋतु गायकवाड़ दोनों एक ही हॉस्पिटल में काम करते थे।
  • पति को संदेह था कि उसकी पत्नी का दो से तीन लोगों के साथ अफेयर है
  • पुलिस को संदेह है कि इसमें महिला का प्रेमी भी शामिल हो सकता है
No ad for you

यहां एक महिला ने फावड़े से पति का गला काटकर हत्या कर दी। पुलिस ने महिला को गिरफ्तार किया है। पति-पत्नी के बीच पिछले कई महीनों से झगड़े चल रहे थे। पति को संदेह था कि महिला का अफेयर चल रहा है। पुलिस को संदेह है कि हत्या की इस वारदात में महिला का प्रेमी भी शामिल हो सकता है। फिलहाल मामले की जांच जारी है।

मंगलवार सुबह ममुरडी गांव में पुलिस ने मयूर गायकवाड़ (28) नाम के शख्स की हत्या के आरोप में उसकी पत्नी ऋतु गायकवाड़ को अरेस्ट किया है। दोनों एक हॉस्पिटल में काम करते थे। वरिष्ठ पुलिस निरीक्षक मनीष कल्याणकर के अनुसार, मयूर और ऋतु की डेढ़ साल पहले शादी हुई थी। दोनों का कोई बच्चा नहीं था। मयूर को संदेह था कि उसकी पत्नी का किसी संग अफेयर था और वह रात में उससे फोन पर बात करती थी।

पति को सोने के दौरान महिला ने मौत के घाट उतारा

पिछले कई महीने से इस बात को लेकर दोनों के बीच विवाद चल रहा था। पड़ोसियों ने भी दोनों को कई बार झगड़ते देखा था। सोमवार रात को दोनों नाइट ड्यूटी पर थे और वहां किसी बात को लेकर दोनों के बीच बहस हुई। इसके बाद मयूर रात में घर लौटा और सुबह उसका शव बरामद हुआ। पुलिस की जांच में सामने आया है कि ऋतु ने देर रात घर आकर पति को सोता देख फावड़े से उसके गले पर वार करके उसकी हत्या कर दी।

वारदात के बाद चली गई मॉर्निंग वॉक पर
वारदात के बाद पत्नी मॉर्निंग वॉक पर चली गई और घर लौटने पर उसने ही फोन कर पुलिस को पति के हत्या की जानकारी दी। मयूर के भाई ओमकार गायकवाड़ ने बताया कि ऋतु बहुत गुस्सैल स्वभाव की थी और छोटी-छोटी बात पर पति पर हमला कर देती थी। शादी के बाद भी उसके 2 से तीन पुरुषों के साथ संबंध थे। कड़ाई से पूछताछ के बाद आरोपी महिला ने अपना गुनाह कबूल कर लिया है।

No ad for you

महाराष्ट्र की अन्य खबरें

Copyright © 2020-21 DB Corp ltd., All Rights Reserved

This website follows the DNPA Code of Ethics.