पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
Loading advertisement...

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

पार्क में नोपार्किंग:जहां बचपन खिलखिलाने की तैयारी थी; अब वहीं पर पार्किंग बना पार्क का दम घोंट रहे हैं

जयपुरएक महीने पहले
अहमदाबाद की कांकरिया लेक की तर्ज पर किड्स जोन-मोनो रेल की प्लानिंग थी, अब कंकरीट पर 17 करोड़ खर्च करने पर आमादा
  • चौगान की पार्किंग है तो पौंडरिक पार्क में क्यों?
  • पिछली कांग्रेस सरकार में मेयर ने अहमदाबाद में कांकरिया लेक का विजिट कर प्लान तैयार किया था
Loading advertisement...
Open Dainik Bhaskar in...
Browser

पौंडरिक पार्क में सरकार बदलते ही अफसर-नेताओं की प्राथमिकताएं भी बदल गईं। पिछली कांग्रेस सरकार में पार्क का दायरा बढ़ाकर लोगों के लिए खुशियों के दरवाजे खोलने का प्लान बनाया गया था। खासकर बच्चों और परिवार को ध्यान में रखकर । इसके लिए अहमदाबाद की कांकरिया लेक की तर्ज पर तालकटोरा में पानी लाकर पौंडरिक पार्क और जयनिवास उद्यान तक प्लानिंग की गई थी। कांग्रेस बोर्ड की मेयर और अफसर-इंजीनियरों ने अहमदाबाद का विजिट कर तय किया था कि पौंडरिक पार्क में बगैर किसी स्थायी निर्माण के किड्स जोन बनाया जाएगा।

ऐसी व्यवस्थाएं होंगी कि बचपन खिलखिला उठे। तालकटोरा में पानी लाने के काम भी शुरू किए गए। उम्मीद थी कि अब दूसरी बार कांग्रेस सरकार और वॉलसिटी में निगम बोर्ड में प्लान आगे बढ़ेगा। लेकिन पार्क का गला घोंट पक्के निर्माण किए जा रहे हैं। वह भी कानूनन और नियमों के विपरीत जाकर। हाईकोर्ट के पूर्व जज-चीफ इंजीनियर और कानूनविद् भी इसके खिलाफ अपनी बात रख चुके हैं। इसके बावजूद अफसरऐतिहासिक पार्क में स्थाई निर्माण पर आमादा हैं।

हठधर्मिता के खिलाफ नजीरें भी

  • सुप्रीम कोर्ट ने समंथा बनाम आंध्रप्रदेश राज्य सरकार मामले में कहा है कि पार्क व ग्रीन एरिया में किसी तरह का दखल नहीं दिया जाना चाहिए। ऐसे में जयपुर की हेरीटेज से जुड़े पौंडरिक पार्क में किसी भी तरह का निर्माण किया जाना शहरवासियों के अधिकारों से खिलवाड़ करना है।
  • जोधपुर मुख्यपीठ ने भी मास्टर प्लान वाले मामले में ओपन स्पेस, ग्रीन एरिया, पार्क व अन्य सार्वजनिक जगहों के स्वरूप में बदलाव करने से इंकार किया है।

पार्किंग के विरोध में हस्ताक्षर अभियान
पार्क में पार्किंग बनाए जाने के विरोध में अब हस्ताक्षर अभियान शुरू हुआ है। समिति के मनीष सोनी ने बताया कि सैकड़ों स्थानीय निवासियों ने अपना नाम, पता, मोबाइल नंबर तथा “पार्क चाहिए पार्किंग नहीं” का संदेश लिखा। इस दौरान समिति के रमेश सिंह भाटी, पूर्व पार्षद विक्रम सिंह तंवर, रेणुका सोनी, राहुल महावर, कमलेश सोनी, निहाल सिंह, विनोद नेगी ने कहा कि पार्क बचाने के लिए आंदोलन जारी रहेगा।

पार्किंग के पक्ष में तर्क: थ्री स्टार सुविधाएं और पार्क भी
जयपुर शहर महामंत्री मित्रोंदय गांधी ने कहा कि सरकार द्वारा कराए जा रहे स्मार्ट सिटी के विकास कार्यों को कुछ तथाकथित असामाजिक तत्व विरोध कर रहे हैं। अंडर ग्राउंड पार्किंग के बाद पार्क को फिर डिवेलप कर देंगे। सामुदायिक केंद्र में शादी-विवाह, दूसरे समारोह की पूरी व्यवस्था होगी और 3 स्टार सुविधाओं से युक्त होगा।
पार्क में पार्किंग, हाईकोर्ट में दायर होगी पीआईएल
राज्य सरकार द्वारा हेरीटेज विरासत पौंडरिक पार्क में पार्किंग प्रोजेक्ट के खिलाफ हाईकोर्ट में पीआईएल दायर होगी। इस संबंध में अधिवक्ता प्रतीक खंडेलवाल का कहना है कि संविधान के प्रावधानों के अनुसार पर्यावरण व इकोलॉजी जोन को संरक्षित किया गया है। ऐसे में पार्क में पार्किंग प्रोजेक्ट लाना न केवल संवैधानिक प्रावधानों का उल्लंघन है, बल्कि आमजन के जीवन जीने के अधिकार में दखल देना भी है। सरकार के पार्क में पार्किंग प्रोजेक्ट को हाईकोर्ट में पीआईएल के जरिए चुनौती दी जाएगी।

पूर्व मेयर बोलीं, प्लानिंग थी और काम भी शुरू किया था

^ इस बात से हम इंकार तो नहीं कर सकते कि पौंडरिक पार्क का दायरा और बच्चों के खेल की गतिविधियां आदि बढ़ाने के लिए हमने प्लानिंग की थी। मैंने अफसर-इंजीनियरों के साथ अहमदाबाद कांकरिया झील प्रोजेक्ट का विजिट किया था। इसके बाद वहां की तर्ज पर पौंडरिक पार्क में किड्स जोन के अलावा इसे तालकटोरा और जय निवासी उद्यान से जोड़ने के लिए एक मोनो रेल चलाने का प्लान बनाया। तालकटोरा में कुछ काम शुरू भी कर दिए थे।
-ज्योति खंडेलवाल, तत्कालीन मेयर

Loading advertisement...
खबरें और भी हैं...