पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
Loading advertisement...

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

भ्रष्टाचार के मजबूत जोड़ से बजरी में चमक:बनास नदी में रोजाना 2 हजार ट्रॉली बजरी की तस्करी, माफिया हर रोज कमा रहा 2.88 करोड़ रूपए

सवाई माधोपुरएक महीने पहले
हमारे 5 रिपोर्टरों ने 5 दिन तक जानी अवैध खनन की हकीकत।
  • ट्रॉली में 14 से 16 टन तक माल भरा जा रहा है
  • एक ट्रॉली की कीमत 16 हजार रुपए
Loading advertisement...
Open Dainik Bhaskar in...
Browser

जिले में बनास नदी से अवैध बजरी खनन कर माफिया काली कमाई से मालामाल हो रहे हैं। कलेक्टर के आदेश से चलाए विशेष अभियान के बावजूद इस समय हर दिन करीब 32 हजार टन बजरी का अवैध खनन हो रहा है। जिसकी कीमत ढाई करोड़ से ज्यादा है। क्षेत्र में आज भी 1800 से दो हजार ट्रोलियां रोजाना बजरी का अवैध परिवहन हो रहा है। जबकि पूरा प्रशासन बजरी के अवैध खनन और परिवहन को रोकने के लिए विशेष अभियान चला रहा है।

एक ट्रॉली में 14-16 टन बजरी, कीमत 1000 प्रति टनबनास नदी से 1800 से 2 हजार ट्रॉली बजरी का अवैध खनन हो रहा है। एक ट्रॉली में 14 से 16 टन तक माल भरा जा रहा है। करीब 32 हजार टन बजरी हर दिन निकाली जा रही है। रोज 80% बजरी दौसा की तरफ जाती हैै, जिसकी कीमत 2.56 करोड़ रुपए है। बाकी 20% बजरी 6 हजार 400 टन दूसरे इलाकों से निकल रही है। जो श्योपुर मध्यप्रदेश व टोंक जिले से होकर जयपुर की तरफ सप्लाई की जा रही है। इसकी कीमत करीब 500 रुपए प्रति टन मानी जा रही है।

जिले के 51 गांवों मेंहोकर गुजर रही बनास

जिले के 51 गांवों से होकर बनास नदी गुजर रही है। बजरी खननईसरदा, देवली, डिडायच, एचेर, अभयपुरा, नीमोद, राठौद, कराड़ी, गुडला नदी, सवांस नदी, सहरावता, हथड़ौली, महेश्वरा, मोतीपुरा, देहलोद, त्रिलोकपुरा, बांसड़ा नदी, भारजानदी, कुंडली नदी, दुब्बी, गोज्यारी, पढ़ाना, भूखा, रईथा, बिच्छीदौना, पीलवा नदी, कीरपुरा, ओलवाड़ा, बाढ़ बिलाेली, गोखरूपुरा, बिलाेली नदी, श्यामोली, निवाड़ी, भूरी पहाड़ी, तालड़ा, खिदरपुर जादौन, सांवटा, नायपुर, बरनावदा, अनियाला, बिचपुरी गुजरान, बाजोली, क्यारदा कलां, बहरावंड़ा कलां, बड़ौद, बड़वास, ओण, रामेश्वर।

जो भी आवाज उठाता है, जान ले लेते हैं

बजरी माफियाओं के खिलाफ जो भी आवाज उठाते हैं तो वे जान तक ले लेते हैं। ग्राम पंचायत हथड़ोली के तत्कालीन सरपंच रघुवीर मीना की चरागाह में बजरी स्टाॅक करने वाले माफियाओं ने 14 फरवरी, 2018 को हत्या कर दी थी। 2014 में अवैध बजरी खनन कर चरागाह में अतिक्रमण करने के खिलाफ हाई कोर्ट में जनहित याचिका दायर की थी। हाल ही में धोराला गांव में 22 जनवरी को पुलिस व प्रशासन ने माफियाओं के खिलाफ संयुक्त कार्रवाई की थी। इस कार्रवाई में बौंली एसडीएम पर बजरी माफयाओं ने हमला कर घायल कर दिया था।

Loading advertisement...
खबरें और भी हैं...