पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

गोरखनाथ मंदिर में कृष्ण जन्मोत्सव की धूम:मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने जन्‍माष्‍टमी मनाई; नंद के घर आनंद भयो...जयकारों से गूंजा मंदिर

गोरखपुर2 महीने पहले
गोरखपुर स्थित गोरक्षनाथ मंदिर में कृष्ण जन्माष्टमी का पर्व धूमधाम से मनाया गया। सीएम योगी ने भगवान की विधि विधान से पूजा अर्चना की।
  • मंगलवार को शाम 4 बजे से अखंड कीर्तन शुरू हुआ
  • कोरोना के चलते श्रद्धालुओं को प्रवेश की अनुमति नहीं मिली
No ad for you

नाथ संप्रदाय के अहम पीठ गोरखनाथ मंदिर में मंगलवार रात श्रीकृष्ण जन्माष्टमी का पर्व श्रद्धा, भक्ति और उल्लास के साथ मनाया गया। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने मंदिर के गर्भगृह में वैदिक मंत्रोच्चार के बीच मध्य रात्रि में भगवान श्रीकृष्ण का प्राकट्य उत्सव मनाया। उन्होंने आरती उतारी। इस दौरान मंगलध्वनियों से पूरा वातावरण भक्तिमय हो उठा।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ कान्हा को हाथों में लेकर गर्भगृह पहुंचे।

योगी अपनी गोद में कान्हा को लेकर गर्भगृह पहुंचे

'नंद घर आनंद भयो, जय कन्हैया लाल की' मंगल ध्वनि के बीच भगवान नंद गोपाल को गोरक्षपीठाधीश्‍वर योगी आदित्यनाथ अपनी गोद में लिए गर्भ गृह का फाटक खोलकर बाहर आए। मंदिर के प्रार्थना कक्ष में उन्होंने नंद गोपाल को पालने पर बिठाकर श्रद्धाभाव से उन्हें झूला झुलाया। मंदिर के प्रधान पुजारी योगी कमलनाथ, मुख्य पुरोहित आचार्य रामानुज त्रिपाठी वैदिक वेदपाठी शिष्यों और पुरोहितों के साथ पूजन की प्रक्रिया सम्पन्न कराई।

मध्य रात्रि भगवान के जन्म के बाद करीब 30 मिनट तक भजन और सोहर का सिलसिला चलता रहा। सीएम के अलावा मंदिर के प्रधान पुजारी योगी कमलनाथ, पुरोहित आचार्य रामानुज त्रिपाठी, द्वारिका तिवारी समेत अन्य लोगों ने नंद गोपाल को झुला झूला मंगल कामना की। उसके बाद धनिया, शक्कर एवं मेवा से बना प्रसाद वितरित किया गया। कोविड 19 के संक्रमण के मद्देनजर काफी कम संख्या में श्रद्धालु शामिल हुए लेकिन पूरा मंदिर परिसर रंग बिरंगी झालों से जगमगाता रहा।

बधाई गीत गाते कलाकार।

अखण्ड हरि संकीर्तन के बाद भजनों की आई बारी

गोरखनाथ मंदिर के राधा कृष्ण मंदिर में सोमवार अपराह्न 4 बजे से अखंड हरि संकीर्तन की शुरूआत हुई थी। मंगलवार की देर शाम संकीर्तन का श्रद्धाभाव से समापन हुआ। उसके बाद लोक गायक राकेश श्रीवास्तव और उनकी टीम ने भजन और सोहर से श्रद्धा के रंग को गाढ़ा किया। उमेश मिश्रा ने गणपति वंदना से शुरूआत की। उसके बाद अजय शर्मा और राकेश श्रीवास्तव ने एक के बाद एक भजन और सोहर प्रस्तुत किए। संगत देने लिए आर्गन पर दीपक, हारमोनियम पर अजय शर्मा, साइड रिदम पर अमरचंद, ढोलक पर बबलू ने संगत दी। हालांकि इस पूरे आयोजन में बाल कृष्ण सज्जा प्रतियोगिता के आयोजन की कमी लोगों को खली। श्रद्धालु सबसे ज्यादा सीएम योगी आदित्यनाथ एवं बाल रूप धरे भगवान कृष्ण के साथ हंसी ठिठोली के पुराने दृश्यों को स्मरण कर रहे थे।

No ad for you

उत्तरप्रदेश की अन्य खबरें

Copyright © 2020-21 DB Corp ltd., All Rights Reserved