पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

बुलंदशहर में शोहदे ने ली छात्रा की जान:सुदीक्षा भाटी की मौत मामले की जांच तीन सदस्यीय एसआईटी करेगी, एफआईआर दर्ज, मगर छेड़खानी की धारा नहीं

बुलंदशहर2 महीने पहले
सुदीक्षा भाटी ग्रेटर नोएडा के डेरी स्कनर गांव की रहने वाली थी।
  • सोमवार को बुलंदशहर के औरंगाबाद थाना क्षेत्र में हादसे का शिकार हुई थी सुदीक्षा
  • सुदीक्षा अमेरिका में रहकर पढ़ाई कर रही थी, जून में स्वदेश लौटी थी
No ad for you

उत्तर प्रदेश के बुलंदशहर में अमेरिकी स्कॉलर सुदीक्षा भाटी की मौत के मामले में तीन सदस्यीय एसआईटी का गठन किया गया है। सीओ सिटी दीक्षा सिंह की अगुवाई में एसआईटी जांच करेगी। वहीं, पुलिस ने आईपीसी की धारा 279 ( लापरवाह ड्राइविंग), 304ए (लापरवाही के चलते मौत) के तहत केस दर्ज कर लिया है। लेकिन आरोपियों पर छेड़खानी की धाराएं नहीं लगाई गई हैं। आईजी प्रवीण कुमार ने बताया कि एसआईटी से तीन दिन के भीतर रिपोर्ट मांगी गई है। शुरुआती जांच में छेड़खानी की बात सामने नहीं आई है।

पिता ने तहरीर में लिखी ये बात
पिता जितेंद्र भाटी ने तहरीर में लिखा कि 10 अगस्त को मेरी बेटी सुदीक्षा मेरे भाई सतेंद्र भाटी और भतीजे निगम भाटी के साथ घर सुबह 8 बजे अपने मामा के गांव जा रही थी। लेकिन औरंगाबाद थाना क्षेत्र में स्याना रोड पर चिरोरा गांव के पास एक बुलेट सवार ने दो बार बाइक को ओवरटेक किया। इसके बाद जानबूझकर आगे जाकर ब्रेक लगा दिया, जिससे बाइक का संतुलन बिगड़ गया। सुदीक्षा सड़क पर गिर गई और उसके सिर में गंभीर चोट आई। उसे अस्पताल ले जाया गया। जहां डॉक्टरों ने मृत घोषित कर दिया। बुलेट पर दो लड़के सवार थे। उनकी बुलेट पर जाट लिखा था।

सरकार की स्कॉलरशिप पर अमेरिका में कर रही थी पढ़ाई

सुदीक्षा ग्रेटर नोएडा के दादारी थाना क्षेत्र में डेरी स्कनर गांव की रहने वाली थी। पिता जितेंद्र भाटी चाय बेचकर परिवार का गुजारा करते हैं। बेहद साधारण परिवार से ताल्लुक रखने के बावजूद सुदीक्षा ने अपनी मेहनत के बलबूते भारत सरकार से स्कॉलरशिप हासिल की थी। वह अमेरिका के बॉबसन कॉलेज में बिजनेस मैनेजमेंट का कोर्स कर रही थी। उसे एचसीएल की तरफ से 3.80 करोड़ की स्कॉलरशिप मिली थी। सुदीक्षा जून में भारत लौटी थी और उसे 20 अगस्त को अमेरिका लौटना था।

No ad for you

उत्तरप्रदेश की अन्य खबरें

Copyright © 2020-21 DB Corp ltd., All Rights Reserved