पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

यूपी: विश्वविद्यालयों की गाइडलाइन जारी:फाइनल इयर के छात्रों को देनी होगी परीक्षा, बाकी पिछली क्लास में मिले नंबरों के आधार पर होंगे प्रमोट

लखनऊएक महीने पहले
प्रदेश सरकार ने यूजीसी के दिशा निर्देशों को ध्यान में रखकर विश्वविद्यालयों व कॉलेजों के लिए एडवायजरी जारी की है।
  • सितंबर के अंत तक फाइनल इयर और सेमेस्टर की परीक्षाएं ऑनलाइन और ऑफलाइन दोनों मोड में होंगी
  • 15 अक्टूबर को ग्रेजुएशन और 31 अक्टूबर को पोस्ट ग्रेजुएशन का रिजल्ट घोषित किया जाएगा
No ad for you

कोरोना संकटकाल के चलते उत्तर प्रदेश में पिछड़ते शैक्षिक सत्र को पटरी पर लाने की कवायद शुरू हो गई है। गुरुवार को उत्तर प्रदेश सरकार ने विश्वविद्यालयों और डिग्री कॉलेजों की परीक्षाओं को लेकर दिशा निर्देश जारी कर दिया। कोरोना महामारी के चलते फाइनल इयर और फाइनल सेमेस्टर की परीक्षाओं को छोड़कर बाकी परीक्षाएं रद्द करने का निर्णय लिया गया है। यूजीसी की एडवायजरी के मुताबिक, राज्य के विश्वविद्यालयों और कॉलेजों में फाइनल इयर या सेमेस्टर की परीक्षाएं सितंबर 2020 के अंत तक ऑफलाइन और ऑनलाइन दोनों मिश्रित तरीके से संपन्न कराई जाएगी।

उप मुख्यमंत्री दिनेश शर्मा ने कहा कि ग्रेजुएशन में प्रथम और द्वितीय व पोस्ट ग्रेजुएशन में प्रथम वर्ष के सभी छात्र-छात्राओं को आंतरिक मूल्यांकन और पिछली कक्षा में मिले अंकों के आधार पर प्रमोट किया जाएगा। जबकि, ग्रेजुएशन फाइनल इयर और पोस्ट ग्रेजुएशन के द्वितीय वर्ष के छात्रों की परीक्षाएं होंगी। परीक्षा का समय कम होगा और बहुविकल्पीय प्रश्न भी पूछे जाएंगे। दिनेश शर्मा ने कहा कि विश्वविद्यालय 23 जुलाई तक अंतिम वर्ष के छात्रों की परीक्षा का कार्यक्रम तैयार कर उच्च शिक्षा विभाग को सौंपेंगे। 30 सितंबर तक परीक्षा संपन्न हो जाएगी। 15 अक्टूबर तक ग्रेजुएशन फाइनल इयर और 31 अक्टूबर तक पोस्ट ग्रेजुएशन के फाइनल इयर का रिजल्ट घोषित करने का निर्देश दिया गया है। 

No ad for you

उत्तरप्रदेश की अन्य खबरें

Copyright © 2020-21 DB Corp ltd., All Rights Reserved