मप्र / कमलनाथ सरकार के मंत्रियों से खफा हैं दिग्विजय, विधानसभा की रिपोर्ट पर जताई नाराजगी

भोपाल। विधानसभा में मंत्रियों के जवाब पर दिग्विजय सिंह ने कड़ी प्रतिक्रिया जताई है।

  • विधानसभा में गृहमंत्री और वनमंत्री ने मंदसौर गोलीकांड और नर्मदा किनारे लगाए पौधों को सही ठहराया था
  • दिग्विजय सिंह ने अपनी ही सरकार की कार्यशैली पर उठाए सवाल
  • सीएम कमलनाथ ने हस्तक्षेप किया, बोले- किसी भी मामले में दोषियों को छोड़ेंगे नहीं

Dainik Bhaskar

Feb 19, 2019, 07:21 PM IST

भोपाल. मंदसौर गोलीकांड को लेकर गृहमंत्री द्वारा विधानसभा में रखी गई रिपोर्ट पर हंगामा शुरू हो गया है। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता दिग्विजय सिंह ने अपनी ही सरकार के मंत्रियों बाला बच्चन और उमंग सिंघार को आड़े हाथों लेते हुए उनकी रिपोर्ट पर कड़ी प्रतिक्रिया दी है। उन्होंने कहा कि मंत्रियों ने मंदसौर गोलीकांड और नर्मदा किनारे लगाए गए पौधों में भ्रष्टाचार में भाजपा को क्लीनचिट सी दे दी है।

विवाद के बाद सीएम कमलनाथ को इस मामले में हस्तक्षेप करना पड़ा। उन्होंने कहा कि"ना हम मंदसौर में किसान भाइयों पर हुए गोलीकांड के दोषियों को बख्शेंगे, ना हम पौधारोपण घोटाले के दोषियों को छोड़ेंगे और ना सिहंस्थ में हुई आर्थिक अनियमिताओं के दोषियों को। चाहे पीड़ित किसान भाइयों को न्याय दिलवाना हो या घोटाला करने वालों को सज़ा दिलवाना, यहीहमारा संकल्प है।"

दिग्विजय सिंह मंगलवार को मीडिया से बातचीत कर रहे थे। उन्होंने कहा, "विधानसभा में गृहमंत्री बाला बच्चन और वनमंत्री उमंग सिंघार ने अपने जवाब में भाजपा को क्लीनचिट सी दे दी। गृहमंत्री ने कह दिया कि मंदसौर में जो पुलिस फायरिंग हुई थी, वह सही थी। विधानसभा में पेश रिपोर्ट ने उसे जस्टिफाई कर रही है। ये तो हम स्वीकार नहीं कर सकते हैं।"

दिग्विजय सिंह ने आगे कहा "वन मंत्री उमंग सिंघार ने अपने जवाब में कहा है कि नर्मदा किनारे जितने पौधे लगाए गए हैं। वह सही लगाए गए हैं तो जनाब मैंने 3100 किलोमीटर की यात्रा की है, आप कितना पैदल चले हैं। इसमें बहुत भ्रष्टाचार हुआ है। क्या जरूरत है वनमंत्री को भाजपा को डिफेंड करने की।"

बाला बच्चन की सफाई
दिग्विजय सिंह के बयान के बाद गृहमंत्री बाला बच्चन ने कहा कि मैंने पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह से बात करके उन्हें पूरी जानकारी दी है। गृहमंत्री ने कहा कि विधानसभा में पेश दस्तावेज पिछली सरकार का था। ये हमारा मुददा नहीं था, हमने तो खुद इन्हीं मुद्दों पर लड़ाई लड़ी है। मंदसौर गोलीकांड पर बने जांच आयोग का परीक्षण करा रहे हैं। अगर उससे संतुष्ट नहीं हुए तो हम फिर से इसकी जांच कराएंगे।

पिछली सरकार के दस्तावेजों से हुई गड़बड़ी
पिछली सरकार के दस्तावेजों के आधार पर ये गड़बड़ी हुई है। हमने जो दस्तावेज बनाए गए हैं, उसमें लिखा गया है कि न्यायिक जांच की प्रक्रिया चल रही है और जो जांच रिपोर्ट आई है। उसका परीक्षण करा रहे हैं। एक सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि वह सदन में रखने से पहले पूरी रिपोर्ट पढ़ते हैं और देखते हैं। हमारी सरकार इसे लेकर पूरी तरह से चौकन्ना है।

Share
Next Story

मध्य प्रदेश / गांधीजी को पसंद था बकरी का दूध, अब प्रदेश के मिल्क पार्लर में मिलेगा

Next

Dainik Bhaskar Brings you the latest Hindi News