Advertisement

Dainik Bhaskar Brings you the latest Hindi News

जिन लोगों ने बेटे को पहुंचाया जेल, उनसे बदला लेने एक मां ने खुद पर पेट्रोल छिड़कर लगाई आग

dainikbhaskar.com | Sep 12, 2018, 10:38 AM IST

मध्य प्रदेश के उज्जैन का मामला।

-- पूरी ख़बर पढ़ें --

उज्जैन, मप्र। दशहरा मैदान क्षेत्र में रहने वाले पेट्रोल पंप संचालक प्रेम छाबड़ा के घर जाकर रोजी जुनेजा नामक महिला ने खुद पर पेट्रोल डालकर आग लगा ली। महिला 80 फीसदी झुलस गई है। डॉक्टरों ने उसे इंदौर रैफर किया है। हालत गंभीर है। छाबड़ा परिवार ने छह साल पहले महिला के बेटे पर फेसबुक पर परिवार के सदस्य की फेक आईडी बनाकर ब्लैकमेल करने का केस दर्ज कराया था। पिछले महीने समाज की पहल पर दोनों परिवार में समझौता हुआ था। महिला के परिवार ने फ्रीगंज गुरुद्वारे में माफीनामा लिखकर दिया था। महिला इससे खुद को अपमानित महसूस कर रही थी।

-सरिया व्यवसायी इंद्रकुमार जुनेजा की 52 वर्षीय पत्नी रोजी मंगलवार सुबह फव्वारा चौक के अपने घर से एक्टिवा से अकेली निकली। वह प्रेम छाबड़ा के घर पहुंची। प्रेम छाबड़ा की पत्नी सीमा से बातचीत करते हुए सोफे पर बैठ गई। दोनों के बीच 43 सेकंड बहस हुई। इस बीच सीमा उठकर पानी लेने चली गई। रोजी सोफे से खड़ी हो गई। फिर कपड़ों में छिपाई पेट्रोल से भरी बोतल निकाली और अपने ऊपर उड़ेल ली। बोतल टेबल पर रखने के बाद माचिस जलाई और खुद को आग लगा ली।
-चीख सुन पंप मालिक का ड्राइवर और पत्नी सीमा कमरे में पहुंचे। दोनों ने रोजी को बचाने के लिए आग बुझाई। पुलिस को सूचना दी। पुलिस ने रोजी को जिला अस्पताल पहुंचाया। यहां से इंदौर रैफर कर दिया। इंदौर के टी चोइथराम अस्पताल में रोजी का उपचार चल रहा है। डॉक्टरों के मुताबिक हालत गंभीर है। उन्हें लाइफ सपोर्ट सिस्टम पर रखा गया है।

समझौते के बाद कहा था- इसका बदला लूंगी
रोजी जुनेजा के बेटे वरुण के खिलाफ छाबड़ा परिवार ने वर्ष 2012 में पुलिस में शिकायत की थी। इसमें कहा गया था कि फेसबुक पर फेक आईडी बनाई उसमें कुछ फोटो अपलोड किए थे। इसे हटाने के लिए 25 लाख रुपए की मांगे। नहीं देने पर बदनाम करने और जान से मारने की धमकी दी थी। सायबर सेल को शिकायत हुई थी इस कारण भोपाल में वरुण पर 419, 384, 509 के तहत केस दर्ज हुआ। 23 अगस्त 2017 को कोर्ट ने वरुण को दोषी मानते हुए सजा सुनाई थी। दोनों पक्ष खत्री अरोड़वंशीय समाज के होने से समझौते की पहल हुई। समाजजनों की उपस्थिति में 14 अगस्त 2018 को जुनेजा परिवार ने लिखित माफीनामा दिया। हालांकि तब रोजी ने कहा था बदला लूंगी।

दोनों परिवारों के बीच पुराना विवाद है
दोनों परिवार के बीच पुराना विवाद है। पिछले महीने समझौते के बाद रोजी खुद को अपमानित महसूस कर रही थी। उन्होंने छाबड़ा परिवार से बदला लेने के लिए यह कदम उठाया, मामले की जांच कर रहे हैं।- सचिन अतुलकर, एसपी