Advertisement

Dainik Bhaskar Brings you the latest Hindi News

मध्यप्रदेश/ शिवराज ने मुख्यमंत्री पद से दिया इस्तीफा, बोले- अब चौकीदारी की जिम्मेदारी

इस्तीफा सौंपने के बाद शिवराज सिंह ने कहा कि हम चुप बैठने वालों में नहीं हैं। आज से ही हमारा काम शुरू हो रहा है।

  • राज्यपाल को इस्तीफा सौंपने के बाद शिवराज ने अटल जी की कविता की पक्तियां दोहराई
  • शिवराज बोले- जनता ने वोट हमको ज्यादा दिए, लेकिन सीट कांग्रेस की ज्यादा आई

Dainik Bhaskar

Dec 12, 2018, 04:23 PM IST

भोपाल. विधानसभा चुनावों में हार की नैतिक जिम्मेदारी लेते हुए मुख्यमंत्री शिवराज सिंह ने राज्यपाल आनंदीबेन पटेल को इस्तीफा सौंप दिया। उन्होंने कहा कि जनता ने जो जनादेश दिया है वह उन्हें स्वीकार है। हालांकि जनता ने जनादेश कांग्रेस को भी नहीं दिया है।

 

इस्तीफा सौंपने के बाद पहली प्रेस कांफ्रेस में शिवराज सिंह ने कहा कि अब चौकीदारी की जिम्मेदारी हमारी है। हम चुप बैठने वालों में नहीं हैं। आज से ही हमारा काम शुरू हो रहा है। 15 साल के कार्यकाल के दौरान सहयोग के लिए उन्होंने जनता और कार्यकर्ताओं को धन्यवाद दिया। 

 

अटल जी की कविता की पक्तियां दोहराई

इससे पहले इस्तीफा सौंपने के बाद शिवराज सिंह ने पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की कविता की पंक्तियां दोहराई। उन्होंने कहा 'ना हार में, ना जीत में, किंचित नहीं भयभीत मैं; कर्तव्य पथ पर जो भी मिले, ये भी सही, वो भी सही।' इससे पहले शिवराज सिंह ने कहा कि अब मैं मुक्त हो गया हूं। हार की पूरी जिम्मेदारी लेता हूं। 

 

तोड़फोड़ की राजनीति में विश्वास नहीं: शिवराज

शिवराज सिंह ने कहा कि प्रदेश की जनता ने वोट हमको ज्यादा दिए। लेकिन सीट कांग्रेस की ज्यादा आई हैं। हम तोड़फोड़ की राजनीति में विश्वास नहीं रखते हैं। उन्होंने विपक्ष भी सशक्त है। 109 विधायक है।जिम्मेदार विपक्ष के दायित्व का निर्वहन करेंगे। नेता प्रतिपक्ष के बारे में पूछने पर उन्होंने कहा कि नेता प्रतिपक्ष तो पार्टी तय करेगी, लेकिन फिर भी नेता तो हम रहेंगे ही।

 

 

शिवराज सिंह ने अपना ट्वीटर अकाउंट भी अपडेट कर दिया। उन्होंने मुख्यमंत्री शब्द हटा दिया है और उसकी जगह एक्स सीएम लिख दिया है।

 

राहुल जी 10 दिन में कर्ज माफ करेंगे
शिवराज सिंह ने कहा कि कांग्रेस ने अपने वचन पत्र में 10 दिन में कर्जमाफी जैसे जो वचन किए हैं, उसे पूरा करेंगे। क्योंकि, राहुल गांधी ने कहा था कि अगर 10 दिन में कर्ज माफ नहीं हुआ तो मुख्यमंत्री बदल देंगे।