Advertisement

Dainik Bhaskar Brings you the latest Hindi News

मध्यप्रदेश/ शिवराज ने कहा- जाने-अनजाने किसी का दिल दुखाया हो तो क्षमाप्रार्थी हूं, हार की जिम्मेदारी मेरी

पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह प्रेस कॉन्फ्रेंस।

  • अपनी क्षमता के अनुसार प्रदेश और जनता की सेवा की 
  • नई सरकार से अपील- विकास योजनाओं को जारी रखें 
  • उम्मीद करते हैं, कांग्रेस सरकार वचन पत्र के वादों को निभाएंगे 
  • हार की पूरी जिम्मेदारी मेरी, मेरी कुछ गलतियों से भाजपा हारी 

Dainik Bhaskar

Dec 12, 2018, 04:39 PM IST

भोपाल. प्रदेश में अपनी क्षमता के अनुसार प्रदेश और जनता की सेवा की। कार्यकर्ताओं और नेताओं ने घरघोर और अनथक परिश्रम किया, केंद्रीय नेतृत्व और प्रधानमंत्री जी का भरपूर सहयोग मिला। इसके बावजूद जो सफलता मिलनी चाहिए थी, वह नहीं मिली। ये स्वीकारोक्ति प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और भाजपा नेता शिवराज सिंह ने की। वह बुधवार को पार्टी के प्रदेश कार्यालय में प्रेस कॉन्फ्रेंस कर रहे थे। उन्होंने हार की पूरी जिम्मेदारी ली। कहा- मुझसे कुछ गलतियां हुईं, इस वजह से हम चुनाव हार गए।  

 

ये भी पढ़ें

कांग्रेस दफ्तर के बाहर समर्थकों का जश्न; अपने नेताओं को मुख्यमंत्री बनाने की मांग

 

पूर्व मुख्यमंत्री के साथ प्रदेश भाजपा अध्यक्ष राकेश सिंह भी थे। शिवराज सिंह ने कहा, 'हमने ज्यादा वोट पाकर भी कम सीटें पाईं, जनता की भलाई के लिए कई योजनाएं बनाईं। जितनी क्षमता थी, उतनी प्रदेश और जनता की सेवा की, फिर भी अगर मैंने जाने-अनजाने किसी का दिल दुख दुखाया हो तो प्रदेश की 7.5 करोड़ जनता से क्षमाप्रार्थी हूं।' इसके पहले शिवराज सिंह ने हार स्वीकार करते हुए सुबह राज्यपाल से मिलकर उन्हें इस्तीफा सौंपा। 

 

पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह ने ये भी कहा...

 

अगला कदम प्रधानमंत्री मोदी के नेतृत्व में दोबारा केंद्र में सरकार बनाने के लिए काम करेंगे।  मैंने मुख्यमंत्री की तरह नहीं, परिवार के सदस्य के रूप में सरकार चलाई।  राज्य सरकार ने संबल जैसी योजनाएं चलाकर विकास की भरपूर कोशिश की।  मैंने 13 साल प्रदेश की सेवा की, इसके बावजूद भरपूर सफलता नहीं मिली।  जब मैं सीएम बना तो प्रदेश बदहाल था, मैंने विकास की पूरी कोशिश की। 


विकास योजनाओं को जारी रखने की अपील : शिवराज सिंह ने कहा कि कमलनाथ जी को मैने बधाई और शुभकामनाएं दीं हैं। साथ ही नई सरकार से अपील, उन्हें विकास योजनाओं को जारी रखनी चाहिए। ऐसा विश्वास है कि वह वचन पत्रों के किए गए वादों को पूरा करेंगे। मैं उस तरह के विरोध का हिमायती नहीं हूं। जब भी कोई आयोजन होता था मैं विपक्ष के नेताओं को बुलाता हूं। पहले मध्य प्रदेश में सौहार्द्र था, बाद में उन्होंने आना बंद कर दिया था। 

बुधवार को शिवराज सिंह ने सरकार की तरफ से इस्तीफा सौंपा।

Recommended