Advertisement

Dainik Bhaskar Brings you the latest Hindi News

इंदौर/ संघ पदाधिकारियों से बोले भागवत- आईआईटी, आईआईएम के लोग हमारे साथ आना चाहते हैं

Dainik Bhaskar | Feb 20, 2019, 03:08 AM IST
-- पूरी ख़बर पढ़ें --

  • इंदौर में 20 प्रमुख लोगों के साथ अर्चना कार्यालय पर किया भोजन, आज तीन हजार कार्यकर्ताओं को करेंगे संबोधित

Dainik Bhaskar

Feb 20, 2019, 03:08 AM IST

इंदौर .राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के प्रमुख डॉ. मोहन भागवत मंगलवार को तीन दिनी दौरे पर इंदौर आए। उन्होंने अर्चना कार्यालय पर संघ के प्रमुख पदाधिकारियों से वन-टू-वन चर्चा की। साथ ही आरएसएस क्षेत्रीय पदाधिकारियों के पांच समूहों से संघ के विस्तार को लेकर चर्चा भी की। शाम को 20 प्रमुख लोगों के साथ उनका भोजन भी हुआ।

ये भी पढ़ें

मोहन भागवत को झूठ बोलने के लिए नोबल पुरस्कार मिलना चाहिए : अतुल अनजान

उन्होंने पदाधिकारियों से संघ के विस्तार को लेकर चर्चा की। शाखाओं की संख्या बढ़ाने, नई शाखा कैसे बढ़ाई जा सकती है? इसको लेकर चर्चा की। उन्होंने ज्यादा से ज्यादा युवाओं और लोगों को संघ से जोड़ने की बात कही। संघ प्रमुख ने कहा आईआईटी, आईआईएम और अन्य उच्चशिक्षित युवा संघ से जुड़ना चाहते है, ऐसे युवाओं से भी संघ पदाधिकारी संपर्क करें और उन्हें जोड़े। उन्होंने पदाधिकारियों से ये भी पूछा कि लोगों को जोड़ने के लिए क्या नवाचार किया?

क्या कठिनाई आई, इसको लेकर भी जानकारी ली। सालभर के संघ के आयोजन की संख्या बढ़ाने और समाज के लिए लगातार काम करने और आयोजन करवाने की बात भी कही। संघ प्रमुख भागवत 20 फरवरी को सुबह 8 बजे से इंदौर के तीन हजार से ज्यादा कार्यकर्ताओं को ब्रिलियंट कन्वेंशन पर संबोधित करेंगे। वे अपने इस तीन दिनी दौरे में राम मंदिर, आतंकवाद और लोकसभा चुनाव जैसे अहम मुद्दों पर भी चर्चा करेंगे।

दिनभर पदाधिकारियों से की चर्चा

सरसंघ संचालक भागवत मंगलवार सुबह नागपुर से इंदौर आए। रेलवे स्टेशन पर आरएसएस पदाधिकारियों ने उनकी अगवानी की। वे सीधे रामबाग स्थित अर्चना कार्यालय पहुंचे। दिनभर क्षेत्रीय पदाधिकारियों से उन्होंने चर्चा की। डॉ. भागवत के इस इंदौर दौरे में वे तीन दिनों तक लगातार संघ पदाधिकारी और स्वयंसेवकों से चर्चा और बैठकें करेंगे। संघ प्रमुख की इस यात्रा का मुख्य मकसद स्वयंसेवकों में उत्साह और आत्मविश्वास बढ़ाना है। संघ की शाखाओं का विस्तार, ज्यादा से ज्यादा लोगों को जोड़ना। समाज के लिए लगातार काम करने आदि मुद्दे शामिल है।