Advertisement

Dainik Bhaskar Brings you the latest Hindi News

क्राइम/ पुलिस वर्दी में आए बदमाशों ने चाकू अड़ाकर इंदौर आ रहे ज्वेलरी कारोबारी दंपती को लूटा

Dainik Bhaskar | Feb 19, 2019, 06:32 AM IST
-- पूरी ख़बर पढ़ें --

  • आईडी कार्ड पूछा, फिर ढाई लाख के सोने के जेवर उतरवाए, 65 हजार रु. नकद और कार की चाबी लेकर फरार हो गए

Dainik Bhaskar

Feb 19, 2019, 06:32 AM IST

सुमित ठक्कर,इंदौर. पत्नी के साथ कार में इंदौर लौट रहे मुंबई के एक इमिटेशन ज्वेलरी कारोबारी के साथ पुलिस वर्दी में आए दो बदमाशों ने लूट की है। बदमाशों ने दंपती को किशनगंज इलाके में हाइवे पर चेकिंग के नाम पर रोका और आईडी कार्ड मांगा।

ये भी पढ़ें

एम्स की नर्स के परिवार को कुक ने खाने में दिया नशीला पदार्थ, 3 साथियों को बुला गहने व कैश लूटकर फरार

कारोबारी ने आईडी कार्ड दिखाया तो एक बदमाश ने कार की चाबी निकाली और पत्नी की गर्दन पर चाकू रख दिया। पहले उनके गले से सोने का मंगलसूत्र, चेन, चूड़ियां व अंगूठियां निकलवाईं, बाद में कारोबारी की सोने की चेन व अंगूठी उतरवा ली। कुल ढाई लाख की ज्वेलरी और बेग में रखे 65 हजार रुपए लूटकर बदमाश भाग गए।

किशनगंज पुलिस के अनुसार घटना शाम पांच बजे के करीब पीथमपुर हाइवे पर हुई। मूल रूप से खरगोन के रहने वाले और हालही में मुंबई शिफ्ट हुए इमिटेशन ज्वेलरी कारोबारी संजय महाजन ने बताया कि वे कार से पत्नी ज्योति को इंदौर छोड़ने आ रहे थे।

पीथमपुर हाइवे पर पत्नी की तबीयत ठीक न होने पर उन्होंने कार रोकी थी तभी बाइक से पुलिस वर्दी पहने दो लोग पास आए और खुद को पीथमपुर पुलिस से होना बताया। मुझसे आईडी कार्ड मांगा तो मैंने लाइसेंस व अन्य कार्ड दिखा दिए। इस पर एक बदमाश कार के पास गया और चाबी निकाल ली। बाद में कमर में फंसा बड़ा सा चाकू निकालकर पत्नी की गर्दन पर रख दिया। शोर न मचाने का बोलकर मेरी चेन व अंगूठी उतरवा ली। पत्नी को घायल भी किया और उसे भी जान से मारने का बोलकर उसका मंगलसूत्र, सोने की चूड़ियां और अंगूठी उतरवा ली।

इसके बाद पर्स व बैग में रखे 65 हजार रुपए और कार की चाबी लेकर भाग निकले। संजय के बच्चे इंदौर में रहकर पढ़ाई कर रहे हैं। पत्नी ज्योति भी बच्चों की परीक्षा के लिए इंदौर में ही उनके पास रह रही थी। कुछ दिन पहले भाई संजय खरगोन में समाज के परिचय सम्मेलन में शामिल होने आया था। वह इंदौर से पत्नी को अपनी सिलेरियो कार में खरगोन परिचय सम्मेलन अटेंड करवाने लाया था। कार्यक्रम अटेंड करने के बाद सोमवार को दोनों कार से इंदौर बच्चों के पास ही आ रहे थे तभी ये वारदात हुई।


एसएसपी के निर्देश पर हुआ केस दर्ज :विजय महाजन ने बताया कि घटना के बाद चाबी ले जाने से भाई संजय और बहू ज्योति काफी देर तक अकेले हाइवे पर लोगों से मदद मांगते रहे। उसका फोन भी डिस्चार्ज हो गया था। बाद में कुछ राहगीरों ने मदद की और वे किशनगंज थाने पहुंचे। पुलिस ने घटनास्थल का मुआयना किया और टोल तक जाकर बदमाशों के सीसीटीवी फुटेज खंगाले, लेकिन वर्दी में आए बदमाशों का कोई पता नहीं चला। जब घटना एसएसपी रूचि वर्धन मिश्र को पता चली तो उन्होंने किशनगंज थाने में लूट का केस दर्ज करने के आदेश दिए। एसएसपी ने बताया कि घटना की जांच के बाद बदमाशों की तलाश में टीमें सक्रिय हैं। गंभीर बात है कि बदमाश वर्दी कहां से लाए।