लापरवाही / दो सरकारों व अफसरों की बेपरवाही में शहीद के नाम पर नहीं हो पाई 4 स्कूलें

  • अब कृषि मंत्री सचिन यादव ने शहीद राजेंद्र यादव के नाम से स्कूल करने के लिए जनजातीय आयुक्त को पत्र भेजा
  • पिछली सरकार में रीवा जिले की छह स्कूलों को नामकरण हो गया हमारा जिला छूटा

Dainik Bhaskar

Feb 20, 2019, 12:23 PM IST

खरगोन. पुलवामा में आतंकी हमले के बाद देशभर में शहीदों के परिवारों की चिंता हो रही है। हरस्तर पर मदद को आगे हाथ बढ़ रहे हैं। ऐसे में दु:ख की बात है खरगोन जिले में 1999 के कारगिल युद्ध में शहीद लांस नायक राजेंद्र यादव के नाम से उनके गांव की 4 स्कूलों का नामकरण अटका है।


दो दशक से दावे हो रहे थे। 2017 से कार्रवाई ही चल रही है। दो साल से कार्रवाई ने जोर पकड़ा, लेकिन सफलता नहीं मिली। पूर्व शिक्षा मंत्री विजय शाह ने जिला योजना समिति में प्रस्ताव को अनुमोदित किया था। कलेक्टर ने शासन को कार्रवाई को लिखा, लेकिन कुछ नहीं हुआ।


अहिर यादव समाज, गांव की शहीद स्मारक समिति के लोग जिला मुख्यालय से लेकर भोपाल तक दौड़ लगा रहे हैं। शहीद की पत्नी प्रतिभा यादव भी कलेक्टर के सामने मांग रखी चुकी हैं। इस मामले में अपने दौरे में कृषि मंत्री सचिन यादव ने 17 जनवरी को शहीद के सम्मान में स्कूलों का नामकरण के लिए जनजातीय मंत्री व आयुक्त को कार्रवाई को लिखा है। विभाग के मुताबिक प्रस्ताव शासन स्तर पर भेजा है, लेकिन अभी इस संबंध में कोई आदेश नहीं आए हैं।


कारगिल में शहीद हुए थे लांसनायक राजेंद्र यादव
मई 1999 में कारगिल क्षेत्र में पाकिस्तान ने हमला बोल दिया था। भारतीय सैनिकों ने पाकिस्तानी सेना को करारा जवाब देते हुए 26 जुलाई 1999 को शानदार जीत हासिल कर कारगिल में तिरंगा लहराया था। इस युद्ध में 30 मई 1999 को जिले के घुघरियाखेडी निवासी लांसनायक राजेंद्र यादव शहीद हो गए थे।


समाज के लोगों का कहना-दोनों सरकारों से की बात
युवा अहिर यादव समाज व शहीद स्मारक समिति देवलगांव के प्रतिनिधियों का कहना है विभागीय अफसरों व जन प्रतिनिधियों से लगातार संपर्क में है। दोनों सरकारों के प्रतिनिधियों से लगातार चर्चा के बाद भी आश्वासन ही मिले। नरेंद्र यादव ने बताया पिछली सरकार ने रीवा जिले में 6 स्कूलों का नामकरण शहीदों के नाम कर दिया है। जिले में शहीद स्व. राजेंद्र यादव की पत्नी प्रतिभा यादव के साथ लगातार हमने संपर्क किया, लेकिन यहां कार्रवाई लंबित है।


Share
Next Story

न्याय / नाबालिग के साथ दुष्कर्म करने वाले आरोपी को वीडियो कॉन्फ्रेंस से सुनाई 20 साल के सश्रम कारावास की सजा

Next

Dainik Bhaskar Brings you the latest Hindi News

Recommended News