Advertisement

Dainik Bhaskar Brings you the latest Hindi News

आलोट में चपरासी के बेटे ने केंद्रीय मंत्री के बेटे को हराया

आलोट विधानसभा सीट पर चपरासी (प्यून) के बेटे ने इतिहास रचा। 70 साल में पहली बार यहां कोई स्थानीय उम्मीदवार मनोज...

Bhaskar News Network | Dec 12, 2018, 08:15 AM IST
आलोट विधानसभा सीट पर चपरासी (प्यून) के बेटे ने इतिहास रचा। 70 साल में पहली बार यहां कोई स्थानीय उम्मीदवार मनोज चांवला ने 5700 वोटों से जीत दर्ज की। मनोज के पिता काेमल चांवला ताल तहसील में प्यून हैं। विधि स्नातक की डिग्री लेने 2003 से राजनीति में सक्रिय हुए मनोज ने कहा- इतने सालों में पार्टी का एक भी स्थानीय उम्मीदवार नहीं जीता। यही लक्ष्य था जिसमें सभी ने साथ दिया। एट्रोसिटी एक्ट को लेकर लोगों में गुस्सा था जिसका भी हमें लाभ मिला। स्कूल के समय एक सपना देखा था हम उसे लेकर चले। जनता के बीच काम किया जिसे देखकर कांग्रेस टिकट दिया। कार्यकर्ताओं की मेहनत व जनता के प्यार-आशीर्वाद से जीत मिली। एट्रोसिटी एक्ट को लेकर पार्टी का जो आदेश होगा उसके अनुसार काम करेंगे।

आलोट में कांग्रेस का स्थानीय का कार्ड चला। जीवन का पहला चुनाव लड़े कांग्रेस प्रत्याशी मनोज चावला को जनता ने सिर आंखों पर बैठाया। एट्रोसिटी एक्ट के विरोध व स्थानीय उम्मीदवार चावला के आगे केंद्रीय सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्री थावरचंद गेहलोत पुत्र भाजपा प्रत्याशी जितेंद्र गेहलोत की विधायकी नहीं बचा सके। आलोट में पिछले कार्यकाल में करोड़ों के विकास कार्य करवाने व नवाेदय स्कूल खुलवाने के बावजूद लोगों ने मंत्री पुत्र जितेंद्र को नकार दिया। बेटे को जिताने के लिए मंत्री गेहलोत ने पूर्व सांसद प्रेमचंद गुड्डू, जनपद अध्यक्ष रामविलास धाकड़ को कांग्रेस से तोड़ लिया। यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ, केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह व खुद सीएम शिवराजसिंह चौहान की सभा करवाने सहित कई पापड़ बेले लेकिन सफल नहीं हुए। यहां 28 सितंबर को नवोदय स्कूल का शुभारंभ करने आए मानव संसाधन केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर व खुद थावरचंद गेहलोत को भी एट्रोसिटी एक्ट का विरोध झेलना पड़ा था और पूरा नगर बंद रहा था। करणीसेना ने काले झंडे दिखाए थे। करणीसेना व राजपूत नेताओं ने तो खुलकर चावला का साथ दिया और जिता दिया। कांग्रेस छोड़कर भाजपा में गए नेता पछता रहे हैं।

हार के बावजूद डटे रहे, कांग्रेस प्रत्याशी को बधाई भी दी- विधानसभा क्षेत्र के भाजपा प्रत्याशी जितेंद्र गेहलोत हार के बावजूद पूरे समय मतगणना स्थल पर डटे रहे। उन्होंने कांग्रेस प्रत्याशी मनोज चावला से हाथ मिलाकर जीत की बधाई भी दी। जबकि हारने वाले कुछ प्रत्याशी पहले ही घर से नहीं आए तो कुछ हार की सूचना मिलते ही लौट गए।

आलोट विस क्षेत्र

मनोज: मिला स्थानीय होने का लाभ

लंबे समय बाद किसी पार्टी (कांग्रेस) ने आलोट से स्थानीय व्यक्ति मनोज चावला को मौका दिया। यहां एट्रोसिटी एक्ट के विरोध ने इनकी राह आसान की व भाजपा विधायक जितेंद्र गेहलोत से यह सीट छिन गई।

Recommended