बोधगया / बोधिवृक्ष स्वस्थ रहे इसलिए टहनियां काटी गईं, इनसे बनी डस्ट मेहमानों को भेंट दी जाएगी

  • बोधिवृक्ष पिछले साल की तुलना मेंइस साल स्वस्थ है,फिलहाल पत्तियां कम गिर रही हैं
  • डालियों का बैलेंस बना रहे और वे टूटे नहीं, इसके लिएछोटी टहनियोंको काटा गया

Dainik Bhaskar

Apr 24, 2019, 04:17 PM IST

बोधगया (बिहार).महाबोधि मंदिर में बोधिवृक्ष की मंगलवार को जांच की गई। इसमें पाया गया किबोधिवृक्ष पिछले साल की तुलना मेंइस साल स्वस्थ है। फिलहाल पत्तियां कम गिर रही हैं।वृक्ष की डालियों का बैलेंस बना रहे और वे टूटे नहींइसके लिए छोटी टहनियोंको काट दिया गया।

बोधिवृक्ष की काटी गईं टहनियों और पत्तों को सुरक्षित रखा जाएगा। बोधगया मंदिर प्रबंधन समिति केसचिव एन दोरजे ने बताया कि सभी पत्तियों को लेमिनेट करके रखा जाएगा औरकुछ टहनियों की डस्टबनाकर रखी जाएगी। इन्हें विशेष मेहमानों को भेंट दिया जाएगा।

टहनियों के आगे के भाग को काटा गया :वन अनुसंधान संस्थान के वैज्ञानिक डॉ अमित पाण्डेय और उनकी टीम ने बताया कि बोधिवृक्ष की पत्तियां स्वस्थ हैं।वैज्ञानिकों ने बोधिवृक्ष की बढ़ीं टहनियों के आगे के भाग को कटवाया और कटी हुई जगहों परविशेष पेस्ट लगाया। मंदिर के मुख्य पुजारी भंते चालिंदा ने बताया कि बोधिवृक्ष को जड़ों के पास फूल फेंकने से भी नुकसान हो रहा था। इसलिए श्रद्धालुओं से जड़ों के पास फूल न फेंकने की अपील की गई है।

बोधिवृक्ष की धार्मिक महत्ताहै

  • ऐसा कहा जाता है कि ईसा से 531 साल पहले महात्मा बुद्ध को इसी वृक्ष के नीचे ज्ञान की प्राप्ति हुई थी। इसलिएइसे बोधिवृक्ष कहा गया।
  • बोधिवृक्ष की टहनियां इतनी विशाल हैं कि इसे लोहे के 12 पिलर के सहारे खड़ा किया गया है। इसके दर्शन के लिए हर साल 5 लाख से ज्यादा श्रद्धालु बोधगया आते हैं। इनमें से 1.5 लाख से ज्यादा विदेशी होते हैं।
Share
Next Story

मप्र / शिवराज ने कलेक्टर से कहा- हमारे दिन आएंगे, तब तेरा क्या होगा; राकेश सिंह की भी फिसली जुबान

Next

Dainik Bhaskar Brings you the latest Hindi News