Advertisement

Dainik Bhaskar Brings you the latest Hindi News

राजनीति/ राहुल का सवाल- देश को संगठित करने वाले संघ प्रमुख कौन? वे भगवान हैं?



राहुल ने शनिवार को देश के अलग-अलग हिस्सों से आए प्रोफेसरों से संवाद किया।
  • राहुल ने कहा- भारत को प्रोडक्ट के तौर पर देखते हैं अमित शाह
  • कांग्रेस अध्यक्ष का आरोप- प्रमुख संस्थानों पर कब्जा किया जा रहा
Dainik Bhaskar | Sep 22, 2018, 07:15 PM IST

नई दिल्ली.  कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने शनिवार को प्रोफेसरों से संवाद कार्यक्रम के दौरान मोदी सरकार और संघ पर निशाना साधा। राहुल ने कहा- मैंने संघ प्रमुख मोहन भागवत को सुना। वे कहते हैं कि देश को संगठित करेंगे। वे देश को संगठित करने वाले कौन होते हैं? क्या वे कोई भगवान हैं? देश अपने आप को खुद संभाल लेगा।

कांग्रेस संघ की कोशिशों के खिलाफ लड़ रही

  1. राहुल ने दिल्ली के सिरी फोर्ट सभागार में देश के अलग-अलग हिस्सों से आए प्रोफेसरों से संवाद किया। उन्होंने कहा- अमित शाह भारत को सोने की चिड़िया कहते हैं, वे भारत को एक प्रोडक्ट के तौर पर देखते हैं। आरएसएस और भाजपा का यही दृष्टिकोण है।

  2. राहुल ने कहा- कांग्रेस आरएसएस द्वारा 'सोने की चिड़िया' पर कब्जा करने की कोशिश के खिलाफ लड़ रही है। शिक्षण संस्थान, सुप्रीम कोर्ट, चुनाव आयोग सभी पर धीरे-धीरे कब्जा किया जा रहा है।

  3. कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा- जब मोदीजी सत्ता में आए। एक अफसर को एसपीजी हेड चुना गया। कुछ समय बाद उसने मुझे बताया कि वह जॉब छोड़ रहा है। उसे कुछ लोगों की लिस्ट सौंपी गई है और संघ के लोगों को एसपीजी में रखने को कहा गया। उसने मना कर दिया।

  4. "हर कोई भारतीय शिक्षा प्रणाली की तारीफ करता है। बराक ओबामा ने कहा था कि अमेरिका के लिए असली चुनौती भारत से आने वाले इंजीनियर, डॉक्टर और वकील हैं। सरकार को शिक्षा को संसाधन के तौर पर देखना चाहिए और इसके लिए पर्याप्त पैसा देना चाहिए।"

  5. राहुल ने कहा- आज शिक्षकों पर एक खास विचारधारा थोपी जा रही है। देश में कोई भी ऐसा संस्थान नहीं बचा, जिसमें संघ द्वारा छेड़छाड़ की कोशिश न की गई हो। 

Advertisement

Dainik Bhaskar Brings you the latest Hindi News

टॉप न्यूज़और देखें

Advertisement

बॉलीवुड और देखें

स्पोर्ट्स और देखें

Advertisement

Dainik Bhaskar Brings you the latest Hindi News

जीवन मंत्रऔर देखें

राज्यऔर देखें

वीडियोऔर देखें

बिज़नेसऔर देखें