पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

कुलभूषण जाधव मामला:कुलभूषण को दूसरा कॉन्सुलर एक्सेस दिया, पर भारतीय अफसर बोले- जाधव का तनाव दिख रहा था, खुलकर बातचीत करने की स्थिति भी नहीं थी

नई दिल्ली22 दिन पहले
पाकिस्तान ने कुलभूषण जाधव को पहली बार पिछले साल 2 सितंबर को कॉन्सुलर एक्सेस दिया था। उस समय इस्लामाबाद में भारत के उप उच्चायुक्त गौरव अहलूवालिया ने उनसे मुलाकात की थी। (फाइल फोटो)
  • भारतीय विदेश मंत्रालय ने कहा- कुलभूषण के मामले पर पाकिस्तान का रवैया अड़ंगा डालने वाला और असंवेदनशील
  • कुलभूषण से मुलाकात करने वाले अफसरों के इर्द-गिर्द पाकिस्तानी अफसर खड़े थे, उनका व्यवहार चेतावनी देने वाला था
No ad for you

पाकिस्तानी जेल में बंद भारतीय नागरिक कुलभूषण जाधव को इमरान सरकार ने गुरुवार को दूसरा कॉन्सुलर एक्सेस तो दिया, लेकिन यह महज दिखावा ही साबित हुआ। भारतीय विदेश मंत्रालय ने कुलभूषण से अफसरों की मुलाकात की जानकारी साझा की। विदेश मंत्रालय ने कहा कि यह बिना शर्त और बिना रुकावट वाली मुलाकात नहीं थी। कुलभूषण के चेहरे पर तनाव साफ दिख रहा था।

पाकिस्तान के दिखावे पर विदेश मंत्रालय का खुलासा

  • कुलभूषण जाधव से भारतीय अफसरों की मुलाकात बिना रुकावट, बिना शर्त और बिना व्यवधान वाली नहीं थी।
  • मुलाकात के दौरान पाकिस्तानी अफसर पास ही मौजूद थे और उनका व्यवहार चेतावनीभरा और डरानेवाला था।
  • कुलभूषण जाधव तनाव में था और यह मुलाकात करने गए अफसर को भी साफ-साफ दिखाई पड़ रहा था।
  • मुलाकात के लिए जिस तरह की व्यवस्थाएं की गई थीं, उनमें खुलकर बातचीत नहीं की जा सकती थी।
  • काउंसलर ने कहा कि पाकिस्तान ने जो मुलाकात करवाई उसके कोई मायने और विश्वसनीयता नहीं हैं।
  • कानूनी प्रतिनिधित्व के लिए कुलभूषण की मंजूरी के लिए उसके दस्तखत लेने से भारतीय अफसर को रोका गया।

अंग्रेजी में बात करने की शर्त रखी थी

पाकिस्तान ने भारतीय उच्चायोग को दूसरी बार राजनयिक पहुंच की इजाजत दी है। जाधव से मुलाकात के लिए पाकिस्तान ने अंग्रेजी में बात करने की शर्त रखी थी। कहा था कि इस दौरान पाकिस्तानी अफसर भी मौजूद रहेंगे। इससे पहले 2 सितंबर 2019 को पाकिस्तान ने जाधव को पहली बार कॉन्सुलर एक्सेस दिया था। उस वक्त इस्लामाबाद में भारत के उप उच्चायुक्त गौरव अहलूवालिया ने उनसे मुलाकात की थी।

विरोध जताने के बाद लौट आए भारतीय अफसर
विदेश मंत्रालय ने कहा कि भारतीय अफसर पाकिस्तान के इस व्यवहार पर अपना विरोध दर्ज कराकर लौट आए। साफ है कि कुलभूषण के मामले में पाकिस्तान की सोच असंवेदनशील और अड़ंगा डालने वाली ही है। विदेश मंत्री ने इस मुलाकात के बारे में कुलभूषण जाधव के परिवार को बता दिया है। हम एक बार फिर से दोहरा रहे हैं कि कुलभूषण की सुरक्षित भारत वापसी के लिए हम कोई कसर बाकी नहीं रखेंगे।

जाधव की सुरक्षित वापसी के लिए हर संभव कोशिश

भारत ने पिछले हफ्ते कहा था कि हम कुलभूषण जाधव की सुरक्षित वापसी के लिए हर संभव कोशिश करेंगे। हम अपने सभी विकल्पों पर विचार करेंगे। भारतीय विदेश मंत्रालय ने भी कहा था कि हम डिप्लोमैटिक चैनल के जरिए कोशिश कर रहे हैं कि पाकिस्तान इंटरनेशनल कोर्ट के आदेश को लागू करे। पर उसका मीडिया जो खबरें दे रहा है, उससे जाहिर है कि पाकिस्तान सरकार आईसीजे के फैसले को लागू करने में आनाकानी कर रही है। 

2017 में सुनाई गई थी फांसी की सजा
कुलभूषण को मार्च 2016 में पाकिस्तान ने गिरफ्तार किया था। पाकिस्तान ने दावा किया था कि जाधव को बलूचिस्तान से गिरफ्तार किया गया। भारत ने इसे खारिज करते हुए कहा था कि जाधव को ईरान से अगवा किया गया है। 2017 में पाकिस्तान की मिलिट्री कोर्ट ने जाधव को जासूसी के आरोप में फांंसी की सजा का ऐलान किया। इसके खिलाफ भारत ने 2017 में ही इंटरनेशनल कोर्ट ऑफ जस्टिस में अपील दायर की। 

आईसीजे ने जुलाई 2019 में पाकिस्तान को जाधव को फांसी न देने और सजा पर पुनर्विचार करने का आदेश दिया। तब से अब तक पाकिस्तान ने इस पर कोई फैसला नहीं लिया है।

ये खबरें भी पढ़ सकते हैं...

1. कुलभूषण जाधव मामले पर फिर टकराव :पाकिस्तान मीडिया ने कहा- फैसले पर रिव्यू पिटीशन दाखिल नहीं करना चाहता कुलभूषण

2. पूर्व सॉलिसिटर जनरल साल्वे बोले- जाधव की रिहाई के लिए अजीत डोभाल ने बैक डोर से की थी कोशिश

No ad for you

देश की अन्य खबरें

Copyright © 2020-21 DB Corp ltd., All Rights Reserved